Thursday, 2 February, 2023
होमलास्ट लाफशी ने विरोध-प्रदर्शन को नहीं सुलगाया और एक नई खोजी गई हिमालय की चोटी, 'केम छो'

शी ने विरोध-प्रदर्शन को नहीं सुलगाया और एक नई खोजी गई हिमालय की चोटी, ‘केम छो’

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के प्रदर्शित कार्टून में, संदीप अध्वर्यु मरियम-वेबस्टर के 2022 के शब्द, गैसलाइटिंग – ‘विशेष रूप से अपने स्वयं के लाभ के लिए किसी को गुमराह करने का कार्य या अभ्यास’ पर आकर्षित करते हैं – चीन और ईरान में सरकारें किस तरह अपने-अपने देशों में विरोध प्रदर्शनों को दबाने में लगी हैं.

Irshad Kaptan | Twitter/@irshadkaptan1

इरशाद कप्तान ने गुजरात में त्रिकोणीय मुकाबले की एक विस्तृत तस्वीर पेश की है, जहां बीजेपी अपने गढ़ को बनाए रखने के लिए लड़ रही है, कांग्रेस 27 साल की सत्ता विरोधी लहर को भुनाने की उम्मीद कर रही है और आप प्रमुख विपक्षी की जगह लेने में लगी है. गुजरात में पहले चरण के मतदान में गुरुवार को 89 विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ.

Satish Acharya | Twitter/@satishacharya

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सतीश आचार्य ने VCPL द्वारा नियंत्रण के बाद NDTV में अतिरिक्त 26 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने के लिए अडानी समूह की खुली पेशकश की ओर इशारा किया है, जिसके पास दिल्ली स्थित समाचार चैनल में अप्रत्यक्ष रूप से 29 प्रतिशत हिस्सेदारी थी.
Kirtish Bhatt | Twitter/@kirtishbhatt

2002 के गुजरात दंगों के दौरान सामूहिक बलात्कार और परिवार के सात सदस्यों की हत्या के दोषी 11 लोगों की जल्द रिहाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने वाली बिलकिस बानो पर कीर्तिश भट्ट टिप्पणी करते हैं. दृष्टांत में, एक आदमी एक औरत से कहता है: ‘यह एक अजीब समस्या है. पहले दोषियों को गिरफ्तार करने के लिए लड़ो और फिर उन्हें पकड़े रखने के लिए लड़ो.’

Nala Ponnappa | Twitter/@PonnappaCartoon

नाला पोनप्पा ने जारी फीफा विश्व कप की ओर इशारा करते हुए दिखाते हैं कि किस तरह ‘फुटबॉल’ के जश्न के कारण कतर में पर्यटकों की भारी ‘आमद’ हुई है.

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments