Saturday, 28 May, 2022
होमलास्ट लाफदया याचिका पर और कौन ले रहा है बापू की राय, और राजनाथ गलत सोशल साइंस पर फोकस कर रहे

दया याचिका पर और कौन ले रहा है बापू की राय, और राजनाथ गलत सोशल साइंस पर फोकस कर रहे

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के फीचर्ड कार्टून में संदीप अध्वर्यु केंद्रीय रक्षा मंत्री के उस बयान पर चुटकी ले रहे हैं जिसमें उन्होंने कहा था कि महात्मा गांधी ने सावरकर को ब्रिटिश सरकार को दया याचिका दायर करने की सलाह दी थी. इस कार्टून के जरिए वो जिन मुद्दों को आम लोग झेल रहे हैं उसको उठा रहे हैं.

Image
आलोक निरंतर | Twitter/@caricatured

आलोक निरंतर रक्षा मंत्री को सलाह दे रहे हैं कि वह इतिहास के बजाय लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर ध्यान दें.

My #cartoon for @News9Tweets Telegram: http://telegram.me/MANJULtoons All My Cartoons: https://www.patreon.com/MANJULtoons Support: https://www.instamojo.com/@MANJULtoons #MANJULtoons #editorialcartoon #editorialcartoons #cartooning #cartoonists #cartoonistsofinstagram #dailycartoon #cartoosbymanjul
मंजुल | Twitter/@MANJULtoons

मंजुल भी राजनाथ सिंह भी राजनाथ सिंह पर निशान साध रहे हैं. वह प्रधानमंत्री की उस पुरानी ग़लती का ज़िक्र कर रहे हैं जिसमें उन्होंने गांधी को मोहनदास के बजाए ‘मोहनलाल’ कहा था.

Image
सतीश आचार्य | Twitter@satishacharya

सतीश आचार्य ने फ़िक्रमंद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को कोयले और बिजली संकट को हल करने के उपायों की चर्चा करते हुए दिखाया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

Image
आर. प्रसाद | Economic Times

आर. प्रसाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान की आलोचना की है जो उन्होंने नेशनल ह्यूमनराइट्स कमीशन के स्थापना दिवस पर दिया था. उन्होंने कहा था, ‘भारत को उन लोगों से दूर रहना चाहिए जो मानवाधिकारों के उल्लंघन के मुद्दे को उठाने की आड़ में देश की छवि को ख़राब करते हैं.’

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में देखने के लिए यहां क्लिक करें.)

share & View comments