scorecardresearch
Wednesday, 12 June, 2024
होमलास्ट लाफ'लोकतंत्र की मिमिक्री' और भारत का 'एक और कमजोर बिंदु'

‘लोकतंत्र की मिमिक्री’ और भारत का ‘एक और कमजोर बिंदु’

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सर्वश्रेष्ठ कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

कार्टूनिस्ट आलोक का आज का ‘फीचर कार्टून’ संसद में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की कथित तौर पर ‘नकल’ करने के लिए एक टीएमसी सांसद के खिलाफ हालिया मामले जैसे सामयिक मुद्दे को उठाता है. वह वर्तमान सरकार के कामों की ओर इशारा करते हुए लोकतंत्र पर एक कड़ी टिप्पणी भी करते हैं.


संदीप अध्वर्यु | Twitter/@CartoonistSan

 

संदीप अध्वर्यु का कार्टून युद्धग्रस्त गाजा में जीवन का एक दिल दहला देने वाले दृश्य को दिखाता है. जैसे-जैसे क्रिसमस नजदीक आ रहा है, अध्वर्यु हमें इज़रायल और हमास के बीच युद्ध में भारी संख्या में बच्चों की मौत की याद दिलाते हैं.


सतीश आचार्य | Twitter/@satishacharya

 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यह कार्टून हाल ही में संसद में विपक्षी सांसदों के निलंबन और हमारे देश में लोकतंत्र के कामकाज पर उठाए गए सवालों की ओर इशारा करता है. कार्टून में सत्तारूढ़ सरकार से साहसी होने और विपक्षी सांसदों को अपना दुश्मन न मानने का अनुरोध किया गया है.


साजिथ कुमार | Twitter/@sajithkumar

 

साजिथ कुमार का व्यंग्यात्मक कार्टून सरकार की ‘मिमिक्री’ विवाद का मज़ाक उड़ाता है, जैसा कि ऊपर बताया गया है. यह पूरे मुद्दे की अविश्वसनीयता की ओर इशारा करता है और इसे सरकार की कमजोरी बताता है जिसका अन्य देश फायदा उठा सकते हैं.

share & View comments