Saturday, 2 July, 2022
होमलास्ट लाफ'बाइट' लेते हुए भूखों की अनदेखी और अब क्यों खामोश है कांग्रेस 'G-23'

‘बाइट’ लेते हुए भूखों की अनदेखी और अब क्यों खामोश है कांग्रेस ‘G-23’

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के फीचर कार्टून में संदीप अध्वर्यू ‘बाइट’ पर यह दिखाने के लिए तंज कर रहे हैं कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 में देश के खराब प्रदर्शन को भारतीय मीडिया ने नज़रअंदाज़ किया है.

मंजुल | Vibes of India

मंजुल ने इस महीने कश्मीर में यूपी-बिहार के मज़दूरों पर हुए आतंकवादी हमले और पीएम नरेंद्र मोदी के साल 2018 में दिए उस बयान को आपस में जोड़ कर निंदा की है जिसमें पीएम ने पकौड़े बेचने को रोजगार बताया था.

आर. प्रसाद | Economic Times

आर. प्रसाद इस कार्टून में कांग्रेस कार्यसमिति बैठक में आलाकमान द्वारा आलोचना होने के बाद ‘जी-23’ ग्रुप के खामोश हो जाने को दर्शा रहे हैं.

साजिथ कुमार | Deccan Herald

साजिथ कुमार अपने कार्टून के जरिए केरल में आई बाढ़ और भूस्खलन में हुई मौतों और आजीविका के नुकसान पर टिप्पणी कर रहे हैं. वह बता रहे हैं कि इस तरह के हालात ईकॉलोजिस्ट माधव गाडगिल की 2011 में आई रिपोर्ट की अनदेखी का नतीजा हैं जिसमें उन्होंने वेस्टर्न घाट को संरक्षित करने की सिफारिश की थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

ई.पी. उन्नी | The Indian Express

ई.पी. उन्नी, केरल में पिनाराई विजयन के नेतृत्व वाले लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट के ऐतिहासिक दूसरे कार्यकाल और हाल ही में राज्य में आई प्राकृतिक आपदा के बीच समानता दिखा कर आलोचना कर रहे हैं.

(इन कार्टून्स को अंग्रेज़ी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments