news on crime
इलेस्ट्रेशन : दिप्रिंट टीम
Text Size:
  • 53
    Shares

लखनऊ/बुलंदशहर: उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी के शक में लोगों ने जमकर हंगामा किया. गुस्साई भीड़ के चिंगरावठी चौराहे पर हंगामा करते हुए पथराव शुरू कर दिया. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को तोड़फोड़ कर उसे आगे हवाले कर दिया. पुलिस ने भीड़ को नियंत्रण करने के लिए लाठीचार्ज भी किया. भीड़ में मौजूद लोगों ने फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें कोतवाली प्रभारी (इंस्पेक्टर) सुबोध कुमार सिंह की गोली लगने से मौत हो गई. इस दौरान कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गए हैं.

पुलिस की फायरिंग में दो लोग घायल बताए जा रहे हैं. इस बीच एडीजी मेरठ मौके पर पहुंच चुके हैं. प्रभावित इलाके में भारी पुलिसबल तैनात किया गया है.

वहां मौजूद लोगों का कहना है कि स्याना के एक गांव के खेत में गोवंश मिलने के विरोध में लोगों ने जाम लगाया था. इसको लेकर पुलिस और भीड़ में संघर्ष हो गया. पुलिस ने गोहत्या के शक में प्रदर्शन कर रहे हजारों लोगों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए गोली चला दी. इसमें एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया. इसके बाद भीड़ आग बबूला हो गई और उसने चौकी पर हमला कर दिया.

पथराव में गंभीर रूप से घायल युवक सुमित ने भी दम तोड़ दिया. एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार और आइज रामकुमार भी घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं. बिगड़ते हालात को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने इज्तिमा में शामिल होकर लौट रहे लोगों के वाहनों को रास्ते में रुकवा दिया, ताकि सांप्रदायिक बवाल न हो सके.

बुलंदशहर के जिलाधिकारी अनुज झा ने बताया कि अवैध स्लाटर हाउस के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध की मौत हो गई.

वहीं, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) का कहना है कि इलाके में हालात काबू में हैं. झड़प की शुरुआत उस वक्त हुई, जब लोगों ने पुलिस पर पथराव किया. इस दौरान गांववालों से संघर्ष में इंस्पेक्टर की जान चली गई. हालत काबू में करने के लिए पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल तैनात है.


  • 53
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here