scorecardresearch
Thursday, 20 June, 2024
होमखेल‘इंसाफ मिलने तक जारी रहेगी लड़ाई’, प्रदर्शन से पीछे हटने की खबरों का खंडन कर बोले पहलवान- कोरी अफवाह

‘इंसाफ मिलने तक जारी रहेगी लड़ाई’, प्रदर्शन से पीछे हटने की खबरों का खंडन कर बोले पहलवान- कोरी अफवाह

अचानक खबरें आने लगीं की पहलवान साक्षी मलिक, बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट अपने अपने काम पर लौट गए हैं और वे सभी प्रदर्शन से पीछे हट गए हैं. बाद में पहलवानों ने ट्वीट कर इसे अफवाह बताया.

Text Size:

नई दिल्ली: पहलवान बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट के प्रदर्शन से हटने की खबर फैलते ही पहलवान साक्षी मलिक ने ट्वीट कर गलत खबर न फैलाने की गुहार लगाई है.

साक्षी ने ट्वीट कर कहा है कि कृपया गलत खबर न चलाएं. उन्होंने लिखा ये खबर बिलकुल गलत है. इंसाफ की लड़ाई में न हम में से कोई पीछे हटा है न हटेगा.

उन्होंने आगे लिखा, “सत्याग्रह के साथ साथ रेलवे में अपनी ज़िम्मेदारी को साथ निभा रही हूं.  इंसाफ़ मिलने तक हमारी लड़ाई जारी है. कृपया कोई ग़लत खबर ना चलाई जाए.”

भारतीय कुश्ती संघ (WFI) अध्यक्ष और भाजपा का सांसद बृजभूषण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवानों के आंदोलन में नया मोड़ उस समय ले लिया जब सुबह अचानक मीडिया रिपोर्ट्स आने लगीं की  2016 रियो ओलंपिक में कांस्य जीतने वाली पहलवान साक्षी मलिक प्रदर्शन से हट गई हैं. और उन्होंने रेलवे में अपनी नौकरी ज्वाइन कर ली है.

इसके बाद बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट के भी काम पर लौटने की खबर मीडिया में छाने लगी.  हालांकि, इस खबर के सामने आने के बाद साक्षी ने तुरंत ट्वीट करते हुए इन खबरों का खंडन किया और कहा “इंसाफ की लड़ाई में न हम में से कोई पीछे हटा है और न हटेगा.”वहीं बजरंग पूनिया ने भी ट्वीट कर प्रदर्शन से हटने की खबरों को कोरी अफवाह बताया.

उन्होंने ट्वीट किया, “आंदोलन वापस लेने की खबरें कोरी अफ़वाह हैं. ये खबरें हमें नुकसान पहुंचाने के लिए फैलाई जा रही हैं.हम न पीछे हटे हैं और न ही हमने आंदोलन वापस लिया है. महिला पहलवानों की एफआईआर उठाने की खबर भी झूठी है.”

उन्होंने लिखा, “इंसाफ़ मिलने तक लड़ाई जारी रहेगी.”

महापंचायत करेंगे पहलवान

ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पूनिया ने रविवार को घोषणा की कि पहलवान जल्द ही अपनी खुद की एक महापंचायत करेंगे. हरियाणा में सोनीपत जिले के मुंडलाना में पहलवानों के समर्थन में ‘सर्व समाज समर्थन पंचायत’ को संबोधित करते हुए पूनिया ने वक्ताओं से किसी भी निर्णय की घोषणा नहीं करने का अनुरोध करते हुए कहा कि अगले 3-4 दिनों में पहलवान ‘महापंचायत’ बुलाएंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘हम एक महापंचायत करेंगे और उसके लिए आह्वान करेंगे. हम जगह तय करेंगे. हम उस पंचायत के लिए सबको साथ लाना चाहते हैं, हम नहीं चाहते कि हम बंटें.’’

पूनिया ने कहा कि उनकी लड़ाई किसी जाति विशेष के लिए नहीं, बल्कि सम्मान के लिए है. उन्होंने कहा, ‘‘यदि हम विभाजित रहते हैं, तो हम जीत नहीं सकते.’’

बता दें कि पहलवान गृहमंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की है.

इस पंचायत में जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के प्रमुख जयंत चौधरी भी मौजूद थे.

मलिक हाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुखर आलोचक रहे हैं. मलिक ने पहलवानों की मांगों पर ध्यान नहीं देने के लिए केंद्र सरकार पर निशाना साधा और उन्होंने लोगों से अगले लोकसभा चुनाव में सरकार को सत्ता से बाहर करने का आग्रह किया.

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में शुक्रवार को हुई एक अन्य ‘‘महापंचायत’’ में खाप नेताओं ने सिंह की गिरफ्तारी की मांग की थी और सरकार को इस पर कार्रवाई के लिए नौ जून तक का समय दिया है.

इसने कहा कि अगर मांग पूरी नहीं हुई तो किसान नौ जून को प्रदर्शनकारी पहलवानों को लेकर जंतर-मंतर जाएंगे.

इससे पहले किसान संगठनों ने उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में भी ‘‘खाप महापंचायत’’ की थी.पूनिया, साक्षी मलिक, विनेश फोगट और संगीता फोगट समेत कई ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप पदक विजेता भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद एवं भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के निवर्तमान अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को गिरफ्तार किये जाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं.

बृजभूषण शरण सिंह पर एक नाबालिग सहित कई महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है.


यह भी पढ़ें: मुख्तार अंसारी को अवधेश राय हत्या मामले में उम्रकैद, भाई अजय राय बोले- 32 साल की लंबी लड़ाई के बाद जीत


 

share & View comments