scorecardresearch
Sunday, 26 May, 2024
होमएजुकेशन'मुझे कैंची से मारा', 'मेरे बाल भी काटे,' दिल्ली के प्राइमरी स्कूल में टीचर ने बच्ची को पहली मंजिल से फेंका

‘मुझे कैंची से मारा’, ‘मेरे बाल भी काटे,’ दिल्ली के प्राइमरी स्कूल में टीचर ने बच्ची को पहली मंजिल से फेंका

डीबीजी थाने के एसएचओ ने दिप्रिंट को फोन पर बताया, 'बच्ची पर हमला करने वाली शिक्षिका का किसी अन्य शिक्षिका से झगड़ा हो गया था. आरोपी को हिरासत में ले लिया गया है. चश्मदीदों के बयान के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है.

Text Size:

नई दिल्लीः राष्ट्रीय राजधानी के मॉडल बस्ती इलाके में स्थित एक सरकारी प्राथमिक स्कूल की शिक्षिका ने गुरुवार को पांचवीं कक्षा की एक छात्रा को कैंची से मारा और स्कूल की पहली मंजिल से नीचे फेंक दिया. बच्ची को सिर में चोटें आईं हैं उसे बाड़ा हिंदुराव में एडमिट कराया गया है. डॉक्टरों का कहना है बच्ची की हालत फिलहाल स्थिर है. इसके अलावा एक बच्चे को टीचर ने सिर में डंडा मार के घायल किया है.

हालांकि, सूचना मिलते ही दिल्ली पुलिस का बीट अधिकारी तुरंत ही स्कूल पहुंच गए थे. टीचर को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया गया है.

पुलिस उपायुक्त (सेंट्रल) श्वेता चौहान ने बताया, ‘सुबह 11:15 बजे देश बंधु गुप्ता रोड थाने के बीट अधिकारी को सूचना मिली कि एक शिक्षिका ने स्कूल की पहली मंजिल से पांचवीं कक्षा की छात्रा को नीचे फेंक दिया है. घायल बच्ची को बाड़ा हिंदू राव अस्पताल में भर्ती करवाया गया.’

डीसीपी ने कहा कि आरोपी टीचर से पूछताछ की जा रही है. घटना स्थल का मुआयना किया गया है.

कक्षा में चारों तरफ बच्चों की किताबें, कॉपियां, पेंसिल और लंच बिखरा हुआ था. टेबल कुर्सियां बिखरी हुई थीं. दिप्रिंट को मिली जानकारी के अनुसार, इस दौरान टीचर खुद का नाम लेते हुए जिंदाबाद का नारा लगा रही थी. वहीं, पुलिस वालों को गालियां दे रही थी. क्लास में कहीं कहीं खून की छींटे भी दिखाई दे रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

डीसीपी ने बताया ‘टीचर ने पहले छात्रा को पहली मंजिल से नीचे लटकाया था, उसके बाद नीचे फेंका. साथ ही कुछ और बच्चों को भी मारा पीटा था.’

उन्होंने बताया, ‘गीता देशवाल नाम की शिक्षिका ने छात्रा पर कैंची से हमला किया और फिर पहली मंजिल पर बनी क्लास से नीचे फेंक दिया. डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची की हालत खतरे से बाहर है लेकिन सिर में चोटें आई हैं.’

डीसीपी ने कहा, ‘आरोपी का दो महीने पहले गर्भपात हो गया था. वह पांच महीने की गर्भवती थी.’ उसका पति रुपेश अहलावत पेशे से ट्रक चालक हरियाणा के झज्जर में स्थित लकड़िया गांव में रहता है. आरोपी यहां एक पी.जी. में रहती है. घायल लड़की को इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल में रेफर कर दिया गया है.

दिल्ली नगर निगम के एक अधिकारी ने कहा कि तत्काल प्रभाव से आरोपी शिक्षिका को निलंबित कर दिया है और आगे की जांच की जा रही है.


यह भी पढ़ेंः इंदिरा गांधी ने शुरू किया, अब मोदी और केजरीवाल अपने प्रचार के लिए करदाताओं का पैसा लुटा रहे


पहले भी कर चुकी बच्चों की पिटाई

डीबीजी थाने के एसएचओ ने दिप्रिंट को फोन पर बताया, ‘बच्ची पर हमला करने वाली शिक्षिका का किसी अन्य शिक्षिका से झगड़ा हो गया था. आरोपी को हिरासत में ले लिया गया है. चश्मदीदों के बयान के आधार पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 307 के तहत मामला तैयार किया गया और प्राथमिकी दर्ज की गई है.’

घायल बच्ची ने रोते-बिलखते एक वीडियो में कहा, ‘टीचर ने मुझे कैंची से मारा. मेरे बाल काटने की कोशिश की और उसके बाद मुझे नीचे फेंक दिया.’

छात्रा की क्लास के दूसरे छात्रों ने बताया कि टीचर इससे पहले भी बच्चों के साथ इस तरह का व्यवहार करती रही है. कई बच्चों ने बताया कि वह मारने पीटने के साथ-साथ बच्चों को जान से मारने तक की धमकी भी देती रही है.

पीड़िता की क्लास के एक अन्य बच्चे ने कहा, ‘शिक्षिका ने क्लास में बच्चों को अंदर से बंद किया हुआ था. हमें कहा गया कि कोई भी बाहर किसी से कुछ नहीं बताएगा. हमारे सामान को तोड़ने के लिए कहा गया.’

एक बच्चे ने बताया ‘टीचर ने पहले क्लास का दरवाजा बंद करवाया और फिर सभी बच्चों के सामान निकाल-निकाल कर फेंकने लगी. वहीं छात्र ने यह भी कहा कि जब अन्य क्लास से टीचर हमारे क्लास में आईं तो उनका गला पकड़ कर उसे मारने की कोशिश भी की.’

छात्रा के चाचा ने दिप्रिंट से फोन पर कहा, ‘बच्ची ने बताया कि इस टीचर ने पहले भी उसे मारा है. स्कूल वाले अपने को बचाने की कोशिश कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘उनका (स्कूल वालों का) कहना है कि शिक्षिका की दिमागी हालत स्थिर नहीं है.’

छात्रा के चाचा ने बताया कि छात्रा को शाम तक इलाज के लिए कलावती अस्पताल में रेफर किया जाएगा.


यह भी पढ़ेंः सरकारी विभागों में IAS अधिकारियों की कमी से निपटने के लिए मोदी सरकार ने शुरू किया ट्रेनिंग प्रोग्राम


 

share & View comments