scorecardresearch
Thursday, 30 May, 2024
होमदेशRSS प्रमुख मोहन भागवत ने जनसंख्या नीति बनाने पर दिया जोर, कहा- सभी पर समान रूप से लागू हो

RSS प्रमुख मोहन भागवत ने जनसंख्या नीति बनाने पर दिया जोर, कहा- सभी पर समान रूप से लागू हो

भागवत ने कहा कि लोग सरकारी नौकरी की तरफ भाग रहे हैं. सरकारी और निजी क्षेत्रों में सिर्फ 20-30 प्रतिशत लोगों को ही रोजगार मिल सकता है.

Text Size:

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने नागपुर में विजयदशमी के मौके पर अपने संबोधन में कहा कि जो काम मातृ शक्ति कर सकती है वह सब काम पुरुष नहीं कर सकते, इतनी उनकी शक्ति है और इसलिए उनको इस प्रकार प्रबुद्ध, सशक्त बनाना, उनका सशक्तिकरण करना और उनको काम करने की स्वतंत्रता देना और कार्यों में बराबरी की सहभागिता देना अहम है.

भागवत ने कहा कि हमें महिलाओं को सशक्त बनाना पड़ेगा क्योंकि उनके बिना समाज प्रगति नहीं कर सकता. संघ प्रमुख ने आर्थिक और राजनीतिक स्वतंत्रता के साथ-साथ सामाजिक स्वतंत्रता पर भी जोर दिया और कहा कि सामाजिक विषमताएं हमें मिटानी होंगी.

उन्होंने कहा, ‘संविधान के कारण राजनीतिक तथा आर्थिक समता का पथ प्रशस्त हो गया, परंतु सामाजिक समता को लाये बिना वास्तविक व टिकाऊ परिवर्तन नहीं आयेगा, ऐसी चेतावनी पूज्य डॉ. बाबासाहब आंबेडकर जी ने हम सबको दी थी.’

उन्होंने कहा कि विश्व में हमारी विश्वसनीयता बढ़ रही है. जिस तरह हमने श्रीलंका की मदद की और यूक्रेन-रूस युद्ध के समय अपनी भूमिका निभाई, इससे पता चलता है कि हमारी बात सुनी जा रही है. उन्होंने यह भी कहा कि सुरक्षा क्षेत्र में हम अधिकारिक स्वावलंबी होते चले जा रहे हैं.

Image
संघ प्रमुख मोहन भागवत

यह भी पढ़ें: ‘डियर डेथ, प्लीज कम…’, J&K DG जेल की हत्या में गिरफ्तार ‘डिप्रेशन’ के शिकार आरोपी की डायरी में क्या है


‘अपवाद न बन कर रह जाए…’

सरसंघचालक ने कहा कि अभी पिछले दिनों उदयपुर (राजस्थान) में एक अत्यंत ही जघन्य एवं दिल दहला देने वाली घटना घटी. सारा समाज स्तब्ध रह गया. अधिकांश समाज दु:खी एवं आक्रोशित था. ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो यह सुनिश्चित करना होगा.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने कहा, ‘उदयपुर घटना के बाद मुस्लिम समाज में से भी कुछ प्रमुख व्यक्तियों ने अपना निषेध प्रगट किया. यह निषेध अपवाद बन कर ना रह जाए अपितु अधिकांश मुस्लिम समाज का यह स्वभाव बनना चाहिए. हिंदू समाज का एक बड़ा वर्ग ऐसी घटना घटने पर हिंदू पर आरोप लगे तो भी मुखरता से विरोध और निषेध प्रगट करता है.’

बता दें कि कुछ दिनों पहले मोहन भागवत ने मुस्लिम समाज के कई प्रबुद्ध व्यक्तियों से मुलाकात की थी.

भागवत ने कहा, ‘ऐसी बैठकें होती रहेंगी. यह कोई नई बात नहीं है. यह गुरुजी के समय शुरू हुईं थीं.’ उन्होंने कहा, ‘हिंदू राष्ट्र की अवधारणा को लेकर हर तरफ चर्चा हो रही है. कई लोग इस पर सहमत हैं लेकिन उन्हें हिंदू शब्द से परहेज है और वो इसकी बजाए कोई और शब्द इस्तेमाल करना चाहते हैं. हमें इससे कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन इस अवधारणा को लेकर हम अपनी स्पष्टता के लिए हिंदू शब्द का इस्तेमाल करते रहेंगे.’


यह भी पढ़ें: विरासत बनाम निष्ठा—उद्धव ठाकरे और शिंदे की अलग-अलग दशहरा रैलियों में नजर आएगी ‘असली’ शिवसेना की जंग


उद्यमिता पर जोर देना जरूरी

भागवत ने कहा कि लोग सरकारी नौकरी की तरफ भाग रहे हैं. सरकारी और निजी क्षेत्रों में सिर्फ 20-30 प्रतिशत लोगों को ही रोजगार मिल सकता है. उन्होंने कहा, ‘उद्यमिता पर जोर दिया जाना चाहिए. लोगों को अपना काम करना होगा.’

उन्होंने कहा, ‘अगर समाज मिलकर नहीं करेगा तो सरकार कितना रोजगार बढ़ा सकती है. सरकार पर भी नजर रखनी है लेकिन समाज अपना दायित्व नहीं निभाता तो काम नहीं होगा. परिवर्तन वहां से होना चाहिए.’

मातृभाषा पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, ‘जब तक हम खुद से प्रयास नहीं करेंगे तब तक मातृभाषा आगे नहीं बढ़ पाएगी.’

उन्होंने कहा, ‘मातृभाषा में शिक्षा को बढ़ावा देने वाली नीति बननी चाहिए यह अत्यंत उचित विचार है, और नयी शिक्षा नीति के तहत उस ओर शासन/ प्रशासन पर्याप्त ध्यान भी दे रहा है.’

‘नयी शिक्षा नीति के कारण छात्र एक अच्छा मनुष्य बने, उसमें देशभक्ति की भावना जगे, वह सुसंस्कृत नागरिक बने यह सभी चाहते हैं.’

Image
विजयदशमी के कार्यक्रम में नागपुर में संघ के स्वयंसेवक

यह भी पढ़ें: ‘क्या मुझे यह करना चाहिए था?’ असफल सेक्स सर्जरी, आत्महत्याओं के बाद चिंतित केरल के ट्रांसजेंडर्स


जनसंख्या संतुलन की अनदेखी नहीं की जा सकती

भागवत ने कहा कि समाज के विभिन्न वर्गों में स्वार्थ व द्वेष के आधार पर दूरियां और दुश्मनी बनाने का काम स्वतंत्र भारत में भी चल रहा है. उनके बहकावे में न फसते हुए उनकी भाषा, पंथ, प्रांत, नीति कोई भी हो, उनके प्रति निर्मोही होकर निर्भयतापूर्वक उनका निषेध व प्रतिकार करना चाहिए.

भागवत ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण के साथ-साथ पांथिक आधार पर जनसंख्या संतुलन भी महत्व का विषय है जिसकी अनदेखी नहीं की जा सकती.

उन्होंने कहा, ‘जब-जब किसी देश में जनसांख्यिकी असंतुलन होता है तब-तब उस देश की भौगोलिक सीमाओं में भी परिवर्तन आता है. जन्मदर में असमानता के साथ-साथ लोभ, लालच, जबरदस्ती से चलने वाला मतांतरण व देश में हुई घुसपैठ भी बड़े कारण है. जनसंख्या नीति सारी बातों का समग्र व एकात्म विचार करके बने, सभी पर समान रूप से लागू हो, लोकप्रबोधन द्वारा इसके पूर्ण पालन की मानसिकता बनानी होगी. तभी जनसंख्या नियंत्रण के नियम परिणाम ला सकेंगे.’

गौरतलब है कि संघ ने अपने समूचे इतिहास में पहली बार किसी महिला को विजयदशमी के मौके पर मुख्य अतिथि बनाया है. इस बार पद्मश्री संतोष यादव संघ के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुई हैं. उन्होंने इस मौके पर कहा, ‘पूरे भारत ही नहीं, पूरे विश्व के मानव समाज को मैं अनुरोध करना चाहती हूं कि वो आये और संघ के कार्यकलापों को देखे. यह शोभनीय है, एवं प्रेरित करने वाला है.’


यह भी पढ़ें: थरूर या खड़गे मायने नहीं रखते, कांग्रेस नेता की परिभाषा बदलनी चाहिए


 

share & View comments