Thursday, 11 August, 2022
होमदेशवकील ने दिल्ली HC जज रेखा पल्ली को बार-बार 'सर' कहकर किया संबोधित तो मिला यह करारा जवाब

वकील ने दिल्ली HC जज रेखा पल्ली को बार-बार ‘सर’ कहकर किया संबोधित तो मिला यह करारा जवाब

सुनवाई के समय जब वकील ने उन्हें सर कहकर संबोधित किया तो जज रेखा पल्ली ने कहा कि मैं उम्मीद करती हूं कि आप समझ रही हैं कि मैं सर नहीं हूं.

Text Size:

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर दिल्ली हाई कोर्ट का एक वाकया जमकर वायरल हो रहा है. जिसमें जज रेखा पल्ली एक सुनवाई के दौरान वकील से नाराज हो गईं. दरअसल एक सुनवाई के दौरान वकील बार-बार उन्हें सर कहकर संबोधित कर रहा था जो उन्हें पसंद नहीं आया.

सुनवाई के समय जब वकील ने उन्हें सर कहकर संबोधित किया तो जज रेखा पल्ली ने कहा कि मैं उम्मीद करती हूं कि आप समझ रहे हैं कि मैं सर नहीं हूं. इसके बाद वकील ने माफी मांगी और जज से कहा, जिस कुर्सी पर आप बैठी हैं उसी के कारण मैंने सर कहकर संबोधित किया.

यह सुनने के बाद जस्टिस रेख पल्ली ने जवाब दिया कि यह तो और भी खराब बात है कि इस दौर में भी आप समझते हैं कि यह कुर्सी सर के लिए है. अगर युवा ही इस अंतर को खत्म नहीं करेंगे तो भविष्य से हमारे लिए क्या उम्मीद बचेगी.

सोशल मीडिया पर रिएक्शन

सोशल मीडिया पर भी लोग इस बारे में बात कर रहे हैं. ट्विटर पर एक फराह नाज नाम की यूजर ने इस वाकये पर लिखा, ‘हमें बहुत सारी चीजें अनलर्न करनी होंगी. अच्छा है कि उन्होंने इस बात को बाहर निकाला.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘जस्टिस रेखा पल्ली ने इसे शालीनता से संभाला साथ ही मुझे उम्मीद है कि उस वकील जैसे लोग उच्च पदों पर महिलाओं को ‘सर’ के रूप में संबोधित करना बंद कर देंगे.’

अनिल नाम के एक यूजर ने लिखा, इस तरह न्यायपालिका में पितृसत्ता कायम है! ‍♂️🤦🏽️🤦🏽️🤦🏽️🤭🤭🤭

देश में महिला न्यायधीशों की कमी

अदालतों में महिला न्यायधीशों की नियुक्ति हमेशा से ही एक चिंता का विषय रहा है. साल 2021 में महिला वकीलों के एक संगठन ने एक जनहित याचिका दायर की थी जिसमें अदालतों में ज्यादा महिला न्यायधीशों को नियुक्त करने की मांग उठाई थी.

याचिका में कहा गया थै कि उत्तराखंड, पटना, त्रिपुरा, मेघालय, मणिपुर में एक भी महिला जज नहीं है. इसके अलावा गोवाहटी, हिमाचल, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, झारखंड, ओडिशा, राजस्थान और सिक्किम में केवल एक महिला न्यायाधीश है.


यह भी पढ़ें- राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर निशाना, कहा- मंहगाई बढ़ रही है, परिवार सूखी रोटी खाने को मजबूर


 

share & View comments