scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमदेश'लोगों को मिले जल्द सहायता', उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने जोशीमठ के लिए की 45 करोड़ के पैकेज की घोषणा

‘लोगों को मिले जल्द सहायता’, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने जोशीमठ के लिए की 45 करोड़ के पैकेज की घोषणा

राहत पैकेज की घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हिमलायी राज्य में भू धंसान से प्रभावित लगभग 3,000 परिवारों के लिए राहत पैकेज जारी किया गया है. 

Text Size:

नई दिल्ली: उत्तराखंड सरकार ने जोशीमठ के परिवारों के लिए 45 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की है.

राहत पैकेज की घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हिमलायी राज्य में भू धंसान से प्रभावित लगभग 3,000 परिवारों के लिए राहत पैकेज जारी किया गया है.

उन्होंने कहा, ‘फिलहाल, प्रति परिवार 1.50 लाख रुपये की सहायता दी जा रही है. स्थायी विस्थापन नीति तैयार होने से पहले प्रभावित क्षेत्र में भूस्खलन के कारण प्रभावित भूमि मालिकों या परिवारों को 1 लाख रुपये की अग्रिम राशि दी गई है.

मुख्यमंत्री ने यह भी घोषणा की कि राज्य आपदा प्राधिकरण द्वारा प्रत्येक परिवार को सामानों के परिवहन और घर की तत्काल जरूरत के लिए विशेष अनुदान के रूप में 50,000 रुपये दिए गए हैं.

जोशीमठ शहर क्षेत्र में भूस्खलन के कारण 720 से अधिक इमारतों की पहचान की गई है जिनमें दरारें आ गई हैं. पुनर्वास के एक हिस्से के रूप में निवासियों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है.

जोशीमठ में घरों और सड़कों में दरारें पर भूवैज्ञानिक और विशेषज्ञ कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री धामी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि इससे प्रभावित लोगों को शीघ्र सहायता उपलब्ध कराई जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘सुरक्षा की दृष्टि से जिन परिवारों को अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया जा रहा है, वहां सभी आवश्यक बेहतर व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं.’ जोशीमठ में गुरुवार को मुख्यमंत्री ने नरसिंह मंदिर में पूजा-अर्चना भी की.

स्थानीय लोगों के साथ बैठक 

बुधवार को मुख्यमंत्री ने जोशीमठ में स्थानीय लोगों के साथ बैठक भी की थी. उसके बाद मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘जोशीमठ में प्रभावित क्षेत्रों का मौके पर निरीक्षण और स्थानीय नागरिकों के साथ बैठक.’

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री भूस्खलन से प्रभावित परिवारों को अंतरिम पैकेज के पारदर्शी वितरण और पुनर्वास पैकेज की दर निर्धारित करने के लिए गठित समिति की बैठक के साथ ही सेना के अधिकारियों और आईटीबीपी के अधिकारियों के साथ भी बैठक करेंगे.


यह भी पढ़ें: अगर वे आपको DGP बनाना चाहते हैं तो क्या आप मना कर सकते हैं? नगालैंड IPS ट्रांसफर पर SC ने उठाया सवाल


share & View comments