scorecardresearch
Monday, 22 July, 2024
होमदेश'मानवीय चूक की संभावना'- आंध्र ट्रेन दुर्घटना की शुरुआती जांच 'सिग्नल ओवरशूट' की ओर इशारा कर रही

‘मानवीय चूक की संभावना’- आंध्र ट्रेन दुर्घटना की शुरुआती जांच ‘सिग्नल ओवरशूट’ की ओर इशारा कर रही

ईस्ट कोस्ट रेलवे सीपीआरओ का कहना है कि अगर 'कवच' प्रणाली मौजूद होती तो आपातकालीन ब्रेक का ऑटोमैटिक इस्तेमाल संभव होता. टक्कर में 13 लोगों की मौत हो गई, 50 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

Text Size:

नई दिल्ली : आंध्र प्रदेश में हुई ट्रेन दुर्घटना का कारण संभावित मानवीय चूक थी, जिसमें कम से कम 13 लोगों की जान चली गई और 50 से अधिक लोग घायल हो गए हैं, ईस्ट कोस्ट रेलवे (ईसीओआर) के अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी.

ईसीओआर के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी बिस्वजीत साहू ने दिप्रिंट को फोन पर बताया, “ऐसा लगता है कि दुर्घटना मानवीय चूक के कारण हुई. यह सिग्नल को ओवरशूट करने का मामला लगता है… क्योंकि सिग्नल रेड था, इसलिए ट्रेन रुकनी चाहिए थी.” उन्होंने कहा कि जांच जारी है और इसके पूरा होने के बाद ही सटीक कारण का पता चलेगा.

रविवार शाम 7 बजे, विशाखापत्तनम से लगभग 40 किमी दूर विजयनगरम जिले के कंटाकपल्ली में विशाखापत्तनम-पलासा पैसेंजर ट्रेन ने विशाखापत्तनम-रायगड़ा पैसेंजर ट्रेन को पीछे से टक्कर मार दी, जिससे तीन डिब्बे पटरी से उतर गए.

ऐसी स्थितियों में आपातकालीन ब्रेक के ऑटोमैटिक इस्तेमाल के बारे में पूछे जाने पर, सीपीआरओ साहू ने कहा कि यदि टक्कर-रोधी ‘कवच’ प्रणाली होती तो ब्रेक लगना संभव होता.

उन्होंने कहा, हालांकि, सिस्टम अभी भी कार्यान्वयन फेज में है और दुर्घटना के मार्ग पर यह उपलब्ध नहीं था.

रविवार की घटना, भारत में सबसे घातक ट्रेन दुर्घटनाओं में से एक के ठीक 4 महीने बाद हुई है, ओडिशा की उस दुर्घटना में तीन ट्रेनें शामिल थीं, जिसमें 288 लोग मारे गए थे और लगभग 900 लोग घायल हुए थे. रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) की एक रिपोर्ट के बाद दुर्घटना को मानवीय चूक से जोड़ा गया, भारतीय रेलवे ने ट्रेन त्रासदी में “संलिप्तता और लापरवाही” को लकेर 7 रेलवे अधिकारियों को निलंबित कर दिया था.

सितंबर में, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने तीन गिरफ्तार रेलवे अधिकारियों के खिलाफ कथित गैर इरादतन हत्या और सबूत नष्ट करने के आरोप में आरोप पत्र दायर किया था.

रविवार की दुर्घटना के बाद, रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने मृतकों के लिए 10 लाख रुपये, गंभीर चोटों के लिए 2.5 लाख रुपये और मामूली चोटों के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोमवार शाम तक बचाव कार्य पूरा होने की संभावना है. दुर्घटना के बाद 18 ट्रेनों का संचालन रद्द कर दिया गया है और 22 अन्य को डायवर्ट किया गया है.

(अनुवाद और संपादन : इन्द्रजीत)

(इस ख़बर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें : भारत में 2022 में हर 5 में से 1 से भी कम महिलाएं स्टार्टअप चला रहीं, हालांकि 2017 से काफी अधिक


 

share & View comments