Saturday, 28 May, 2022
होमदेशइंडिया गेट पर नेताजी की प्रतिमा : पुत्री अनीता बोस-फाफ ने कहा अच्छा कदम

इंडिया गेट पर नेताजी की प्रतिमा : पुत्री अनीता बोस-फाफ ने कहा अच्छा कदम

Text Size:

कोलकाता, 21 जनवरी (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुक्रवार को इंडिया गेट पर प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा लगाए जाने की घोषणा किए जाने को उनकी बेटी अनीता बोस-फाफ ने एक अच्छा कदम बताया और उम्मीद व्यक्त की कि यह गणतंत्र दिवस परेड में पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं किए जाने को लेकर उपजे विवाद को शांत करेगा।

इस फैसले का “देर आए दुरुस्त आए” कहकर स्वागत करने वाली बोस-फाफ ने कहा कि इस घोषणा ने उन्हें चौंका दिया।

जर्मनी में रहने वाली अनीता बोस-फाफ ने फोन पर वहां से ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, “मैं फैसले से बहुत खुश हूं। यह (इंडिया गेट) बहुत अच्छा स्थान है। मुझे निश्चित रूप से खुशी है कि उनकी प्रतिमा को इतने प्रमुख स्थान पर लगाया जाएगा। मुझे आश्चर्य है कि यह अब अचानक हुआ। किसी ने थोड़ी तैयारी की होगी पहले, लेकिन मुझे कहना होगा कि देर आए दुरुस्त आए। मुझे आशा है कि झांकी के विवाद को भी संतोषजनक तरीके से समाप्त किया जा सकता है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगता है कि यह फैसला झांकी विवाद को खत्म करने के लिए लिया गया, तो उन्होंने कहा कि वह इस पर टिप्पणी करने की स्थिति में नहीं हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता। इसे ऐसे कहते हैं। पिछले साल शताब्दी समारोह शुरू हुआ था, और घोषणाएं की गई थीं कि सभी प्रकार की चीजें की जानी चाहिए। यह समिति (नेताजी की 125वीं जयंती मनाने के लिए) स्थापित की गई थी, जिसमें मैं भी एक सदस्य हूं, (पैनल ने) कभी बैठक नहीं बुलाई। जहां तक मुझे पता है, मैंने इसके बारे में नहीं सुना है।”

उन्होंने कहा, “फिर अचानक, जब पश्चिम बंगाल सरकार ने एक झांकी भेजने का प्रस्ताव रखा, तो केंद्र सरकार ने इसे ठुकरा दिया … मुझे लगता है कि भले ही निर्णय देर से आया हो, यह एक बुरा निर्णय नहीं है। किसी भी सूरत में यह एक अच्छा कदम है।”

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की कि देश के इस महान सपूत के प्रति आभार के प्रतीक के रूप में इंडिया गेट पर उनकी ग्रेनाइट की एक प्रतिमा लगाई जाएगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब तक नेताजी की ग्रेनाइट की प्रतिमा बनकर तैयार नहीं हो जाती, तब तक उस स्थान पर उनकी एक होलोग्राम प्रतिमा लगाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि इस होलोग्राम प्रतिमा का वह 23 जनवरी को नेताजी की जयंती के अवसर पर लोकार्पण करेंगे।

भाषा

प्रशांत दिलीप

दिलीप

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेट के लिए दिप्रिंट जिम्मेदार नहीं है.

share & View comments