scorecardresearch
Sunday, 21 July, 2024
होमदेशनरोत्तम मिश्रा ने कहा 'शिवराज सरकार सलमान खुर्शीद की विवादास्पद किताब पर लगाएगी प्रतिबंध'

नरोत्तम मिश्रा ने कहा ‘शिवराज सरकार सलमान खुर्शीद की विवादास्पद किताब पर लगाएगी प्रतिबंध’

किताब में कथित तौर पर लिखा है कि खालिस हिंदूवाद को हिंदुत्व के एक असभ्य रूप द्वारा एक तरफ धकेला जा रहा है, सभी मानदंडों पर यह राजनीतिक संस्करण हाल के सालों के आईएसआईएस और बोको हरम जैसे समूहों के जिहादी इस्लाम के जैसा है.

Text Size:

भोपाल: मध्य प्रदेश सरकार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद की किताब पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रही है. इस किताब में उन्होंने कथित तौर पर हिंदुत्व की तुलना आईएसआईएस और बोको हराम जैसे कट्टरपंथी जिहादी समूहों से की है.

प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को कहा, ‘हम किताब पर कानूनी विशेषज्ञों की राय लेंगे और मध्य प्रदेश में इसे प्रतिबंधित कराएंगे.’ उन्होंने अयोध्या फैसले पर किताब ‘सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन आवर टाइम्स’ को लेकर खुर्शीद पर निशाना साधा. इस किताब का विमोचन बुधवार को किया गया.

मिश्रा ने पुस्तक की विवादास्पद सामग्री को लेकर खुर्शीद की आलोचना की और पूर्व केंद्रीय मंत्री पर हिंदुत्व को निशाना बनाने और बहुसंख्यक समुदाय को विभाजित करने का प्रयास करने का आरोप लगाया.


यह भी पढ़ें: हरियाणा में रेसलर की मां का आरोप- ‘कोच ने पहले निशा को एकेडमी बुलाया, छेड़छाड़ की, फिर गोली मार दी’


उन्होंने कहा, ‘ये लोग हिंदुत्व को निशाना बनाने और हिंदुओं को जाति के आधार पर बांटने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं. ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशाअल्लाह’, के बाद राहुल गांधी वहां (उस रास्ते पर) सबसे पहले गए. अब सलमान खुर्शीद उसी विचार को आगे बढ़ा रहे हैं.’ मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता कमलनाथ ने पहले कहा था कि यह ‘महान भारत’ नहीं बल्कि ‘ बदनाम भारत’ (कोरोना वायरस महामारी के संदर्भ में) है, और अब उनकी पार्टी के सहयोगी खुर्शीद उसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं.’

खुर्शीद ने अपनी पुस्तक में कथित तौर पर लिखा है कि साधु और संतों के लिए जाने जाने वाले सनातन धर्म और खालिस हिंदूवाद को हिंदुत्व के एक असभ्य रूप द्वारा एक तरफ धकेला जा रहा है, सभी मानदंडों पर यह राजनीतिक संस्करण हाल के सालों के आईएसआईएस और बोको हरम जैसे समूहों के जिहादी इस्लाम के जैसा है.


यह भी पढ़ें: हाजी मस्तान से रियाज़ भाटी तक, 30 सालों तक अंडरवर्ल्ड से कैसे जुड़ी रही है महाराष्ट्र की सियासत


 

share & View comments