scorecardresearch
Wednesday, 28 February, 2024
होमदेश‘मन की बात’ में PM ने कहा- अंगदान के लिए उम्र सीमा की शर्त खत्म, किसी भी राज्य में होगा रजिस्ट्रेशन

‘मन की बात’ में PM ने कहा- अंगदान के लिए उम्र सीमा की शर्त खत्म, किसी भी राज्य में होगा रजिस्ट्रेशन

पीएम ने 99वें एपिसोड में नारी शक्ति, क्लीन एनर्जी, कश्मीर के किसानों, कोरोना से सावधानी और अगल महीने होने जा रहे सौराष्ट्र-तमिल संगमम जैसे विषयों पर देशवासियों को संबोधित किया.

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने प्रोग्राम ‘मन की बात’ के 99वें एपिसोड में बताया कि देश में ऑर्गन डोनेशन के लिए सरकार 65 साल की उम्र सीमा को समाप्त करने जा रही है और अंगदान को आसान बनाने और प्रोत्साहित करने के लिए पूरे देश में एक जैसी नीति पर भी काम हो रहा है.

उन्होंने दो ऐसे परिवारों से बात की, जिनके किसी सदस्य की मृत्यु के बाद उसके अंगदान किए थे. इसके अलावा पीएम ने इस एपिसोड में नारी शक्ति, क्लीन एनर्जी, कोरोना से सावधानी और अगल महीने होने जा रहे सौराष्ट्र-तमिल संगमम जैसे विषयों पर देशवासियों को संबोधित किया.

‘मन की बात’ के 99वें एपिसोड के बारे में पीएम ने कहा कि 99 का फेर बहुत कठिन होता है, लेकिन जहां भारत के जन जन के ‘मन की बात’ हो, वहां की प्रेरणा कुछ और ही होती है.

उन्होंने कहा कि लोग 100वें एपिसोड के लिए बहुत उत्साहित हैं, इसके लिए उन्होंने लोगों से राय भी मांगी है. उन्होंने कहा कि लोगों के विचार ही 30 अप्रैल को होने वाले 100वें मन की बात को खास बनाएंगे.

पीएम मोदी ने कई क्षेत्रों में महिलाओं की सफलताओं का ज़िक्र करते हुए कहा कि आज भारत का जो सामर्थ्य निखरकर सामने आ रहा है, उसमें नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पीएम ने बताया कि कश्मीर के किसानों ने नदरू की खेती के लिए एफपीओ बनाए हैं.

अंगदान के मामलों में आई तेज़ी

पीएम ने कहा कि आधुनिक मेडिकल साइंस के इस दौर में ऑर्गन डोनेशन, किसी को जीवन देने का एक बहुत बड़ा माध्यम बन चुका है.

उन्होंने कहा कि समय के साथ देश में अंगदान को लेकर जागरूकता बढ़ रही है. पिछले 10 साल में देश में अंगदान करने वालों की संख्या 3 गुनी बढ़ी है.

उन्होंने कहा, ‘‘व्यक्ति मृत्यु के बाद अपना शरीर दान करता है तो उससे 8 से 9 लोगों को एक नया जीवन मिलने की संभावना बनती है. संतोष की बात है कि आज देश में ऑर्गन डोनेशन के प्रति जागरूकता भी बढ़ रही है. साल 2013 में हमारे देश में अंगदान के पांच हज़ार से भी कम मामले थे, लेकिन 2022 में ये संख्या बढ़कर, 15 हज़ार से अधिक हो गई है. ऑर्गन डोनेशन करने वाले व्यक्तियों ने उनके परिवार ने वाकई बहुत पुण्य का काम किया है.’’

पीएम ने बताया कि अंगदान को आसान बनाने और प्रोत्साहित करने के लिए पूरे देश में एक जैसी नीति पर भी काम हो रहा है.

उन्होंने कहा, ‘‘राज्यों के डोमिसाइल की शर्त को हटाने का निर्णय भी लिया गया है. यानी अब देश के किसी भी राज्य में जाकर मरीज ऑर्गन प्राप्त करने के लिए पंजीकरण करवा पाएगा. सरकार ने अंगदान के लिए 65-वर्ष से कम आयु की आयु-सीमा को भी खत्म करने का फैसला लिया है.’’

ऑर्गन डोनेशन के बारे में बात करते समय पीएम मोदी ने देश की सबसे कम उम्र की डोनर के माता-पिता से बात की. 39-दिन की उम्र में किडनी डोनेट करने वाली अबाबत के पिता सुखबीर ने बताया कि बच्ची के पैदा होते ही उन्हें पता चला कि उसके दिमाग में नाड़ियों का ऐसा गुच्छा बना हुआ है जिसकी वजह से उसके दिल का आकार बड़ा हो रहा है.

पीएम ने कहा, ‘‘सुखबीर जी, आज आपकी बेटी का सिर्फ एक अंग जीवित है, ऐसा नहीं है. आपकी बेटी मानवता की अमर-गाथा की अमर यात्री बन गई है. अपने शरीर के अंश के जरिए वो आज भी उपस्थित है. इस नेक कार्य के लिए, मैं, आपकी, आपकी श्रीमती जी की, आपके परिवार की, सराहना करता हूं.’’


यह भी पढ़ेंः खेल महाकुंभ- ग्रामीण भारत के युवाओं का IPL, जो युवा महिलाओं के सपनों को दे रहा उड़ान


महिला क्रिकेट टीम ने रचा इतिहास

पीएम मोदी ने नारी शक्ति के बारे में बात करते हुए वंदे भारत की पहली लोको पायलट सुरेखा यादव, देश के लिए ऑस्कर जीतने वालीं प्रोड्यूसर गुनीत मोंगा और डायरेक्टर कार्तिकी गोंज़ाल्विस, अंजर-19 महिला क्रिकेट टीम का भी ज़िक्र किया.

मोदी ने कहा, ‘‘आज, भारत का जो सामर्थ्य नए सिरे से निखरकर सामने आ रहा है उसमें बहुत बड़ी भूमिका हमारी नारी शक्ति की है. एशिया की पहली महिला लोको पायलट सुरेखा यादव एक और कीर्तिमान बनाते हुए वंदे भारत एक्सप्रेस की भी पहली महिला लोको पायलट बन गई हैं. इसी महीने, प्रोड्यूसर गुनीत मोंगा और डायरेक्टर कार्तिकी गोंज़ाल्विस उनकी डॉक्यूमेंट्री ‘एलीफैंट व्हिसपर्स’ ने ऑस्कर जीतकर देश का नाम रौशन किया है. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस वर्ष की शुरुआत में ही भारत की अंडर-19 महिला क्रिकेट टीम ने टी-20 विश्व कप जीतकर नया इतिहास रचा. नागालैंड की राजनीति में एक नई शरुआत हुई है, जहां 75 वर्षों में पहली बार दो महिला विधायक जीतकर विधानसभा पहुंची है. इनमें से एक को नागालैंड सरकार में मंत्री भी बनाया गया है, यानि, राज्य के लोगों को पहली बार एक महिला मंत्री भी मिली हैं.’’

पीएम ने बताया कि कुछ दिनों पहले वे उन जांबांज बेटियों से मिले थे, जो तुर्किए में विनाशकारी भूकंप के बाद वहां के लोगों की मदद के लिए गईं थीं. उन्होंने बताया कि वो सभी एनडीआरएफ के दस्ते में शामिल थी. इसके अलावा भारत ने संयुक्त राष्ट्र मिशन के तहत शांतिसेना में Women-only प्लाटून की भी तैनाती की है.

मोदी ने कहा, ‘‘देश की बेटियां, हमारी तीनों सेनाओं में अपने शौर्य का झंडा बुलंद कर रही हैं.’’

विदेशों में भारत की सफलता के चर्चे

प्रधानमंत्री ने कहा कि रिन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में भारत की सफलता के चर्चे हर तरफ गूंज रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘इन दिनों पूरे विश्व में स्वच्छ ऊर्जा,रिन्यूएबल एनर्जी की खूब बात हो रही है. मैं जब विश्व के लोगों से मिलता हूं, तो वो इस क्षेत्र में भारत की अभूतपूर्व सफलता की ज़रूर चर्चा करते हैं. खासकर, भारत सौर ऊर्जा के क्षेत्र में जिस तेजी से आगे बढ़ रहा है, वो अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है. ’’

पीएम ने कहा, ‘‘हर देशवासी सौर ऊर्जा का महत्व भी समझ रहा है और क्लीन एनर्जी में अपना योगदान भी देना चाहता है. ‘सबका प्रयास’ की यही स्पीरिट आज भारत के सोलर मिशन को आगे बढ़ा रही है.’’

प्रधानमंत्री ने बताया कि अगले महीने गुजरात के विभिन्न हिस्सों में ‘सौराष्ट्र-तमिल संगमम’ होने जा रहा है. ‘सौराष्ट्र-तमिल संगमम’ 17 से 30 अप्रैल तक चलेगा.

इसके साथ ही, पीएम मोदी ने बताया कि कश्मीर के डल झील में मिलने वाले लॉटस स्टेम (कमल के तने), जिन्हें केंद्र शासित प्रदेश में नदरू कहा जाता है, की मांग लगातार बढ़ रही है.

उन्होंने बताया कि इस मांग को देखते हुए डल झील में नदरू की खेती करने वाले किसानों ने एक एफपीओ बनाया है.

पीएम ने कहा, ‘‘इस एफपीओ में करीब 250 किसान शामिल हुए हैं. आज ये किसान अपने नदरू को विदेशों तक भेजने लगे हैं. अभी कुछ समय पहले ही इन किसानों ने दो खेप दुबई भेजी हैं. ये सफलता कश्मीर का नाम तो कर ही रही है, साथ ही इससे, सैकड़ों किसानों की, आमदनी भी बढ़ी है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस बार ‘मन की बात’ में बस इतना ही. अगली बार आपसे ‘मन की बात’ के सौंवे (100वें) एपिसोड में मुलाकात होगी. आप सभी, अपने सुझाव जरूर भेजिए. मार्च के इस महीने में, हम, होली से लेकर नवरात्रि तक, कई पर्व और त्योहारों में व्यस्त रहे हैं. रमजान का पवित्र महीना भी शुरू हो चुका है. अगले कुछ दिनों में श्री राम नवमी का महापर्व भी आने वाला है. इसके बाद महावीर जयंती, गुड-फ्राइडे और ईस्टर भी आएंगे.’’

पीएम ने कहा, ‘‘इस समय कुछ जगहों पर कोरोना भी बढ़ रहा है. इसलिये आप सभी को एहतियात बरतना है, स्वच्छता का भी ध्यान रखना है.’’


यह भी पढ़ेंः टूटे गिटार से लेकर इंडियाज गॉट टैलेंट तक: कैसे बाधाओं को तोड़ रहा त्रिपुरा में लड़कियों का पहला बैंड


 

share & View comments