Friday, 27 May, 2022
होमदेश'चिड़ियाघर के जानवर नहीं हैं': मनमोहन सिंह की बेटी ने कहा- मंडाविया ने मना करने पर भी AIIMS में फोटो खिंचवाई

‘चिड़ियाघर के जानवर नहीं हैं’: मनमोहन सिंह की बेटी ने कहा- मंडाविया ने मना करने पर भी AIIMS में फोटो खिंचवाई

मनमोहन सिंह की बेटी का कहना है कि उनके माता-पिता ने स्पष्ट रूप से आग्रह किया था कि आगंतुकों को प्रतिबंधित किया जाए क्योंकि पूर्व प्रधानमंत्री डेंगू से पीड़ित हैं और उनकी इम्युनिटी कम है.

Text Size:

नई दिल्ली: गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) का दौरा विवादास्पद हो गया, सिंह की बेटी दमनदीप सिंह ने कहा कि मंत्री परिवार की मर्जी के खिलाफ फोटोग्राफर को लेकर गए थे.

दमनदीप ने दिप्रिंट को बताया कि उनकी मां बहुत परेशान थीं क्योंकि एक फोटोग्राफर मंत्री के साथ कमरे में घुस आया था. लेकिन जब उसने जोर देकर कहा कि फोटोग्राफर कमरे से बाहर चला जाए, तो ‘उसे पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया.’

दमनदीप ने दिप्रिंट को बताया, ‘वह बहुत परेशान थी. मेरे माता-पिता एक कठिन परिस्थिति का सामना कर रहे हैं. वे बुजुर्ग लोग हैं. चिड़ियाघर में जानवर जैसे नहीं हैं.’

दिप्रिंट टिप्पणी के लिए व्हाट्सएप और ईमेल पर स्वास्थ्य मंत्रालय और मंडाविया के कार्यालय पहुंचा, लेकिन इस रिपोर्ट के प्रकाशित होने तक दोनों में से किसी की प्रतिक्रिया नहीं आई. हालांकि, एक सरकारी सूत्र ने कहा कि एम्स के अध्यक्ष के रूप में, यह स्वास्थ्य मंत्रियों की एक परंपरा रही है कि वे बीमार वर्तमान या संवैधानिक पदों पर रहने वाले पूर्व लोगों को देखने के लिए अस्पताल जाते हैं.

सूत्र ने कहा, यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि वे एम्स में किसी भी संभावित ट्रीटमेंट ऑफ केयर नहीं चाहते हैं, और यह बिना किसी राजनीति के किया जाता है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दमनदीप ने कहा कि उसके माता-पिता ने स्पष्ट रूप से आग्रह किया था कि आगंतुकों को प्रतिबंधित किया जाए क्योंकि उसके पिता डेंगू से पीड़ित हैं और उनकी इम्युनिटी कम है और संक्रमण का खतरा है. टीके की दो खुराक के बावजूद, पूर्व पीएम ने अप्रैल में दिल्ली में दूसरी लहर के पीक होने पर कोविड-19 का सामना किया था.

दमनदीप ने कहा, ‘स्वास्थ्य मंत्री का दौरा करना और अपनी चिंता व्यक्त करना अच्छा था, हालांकि, मेरे माता-पिता उस समय फोटो खिंचवाने की स्थिति में नहीं थे.’

इसलिए जब ‘मेरी मां ने जोर देकर कहा कि फोटोग्राफर को कमरा छोड़ देना चाहिए, तो उन्हें पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया. वह बहुत परेशान थी’.

पूर्व पीएम को बुधवार शाम को एम्स ले जाया गया क्योंकि वह बुखार और कमजोरी से पीड़ित थे, जिसे बाद में डेंगू के तौर पर चिन्हित किया गया. मनमोहन की बेटी ने कहा, ‘उनकी हालत स्थिर है, लेकिन उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है.’

मोदी ने मनमोहन के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की

पूर्व पीएम के अस्पताल में भर्ती होने की खबर राष्ट्रीय चिंता का विषय बन गया है.. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर स्वास्थ्य मंत्री की तरह ही उनके जल्द ठीक होने की शुभकामनाएं दीं.

मोदी ने ट्वीट किया, ‘मैं डॉ मनमोहन सिंह जी के अच्छे स्वास्थ्य और शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं.’

एम्स के वार्ड में खिचाई गई स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: पंजाब, हरियाणा और NCR के आठ जिलों में पराली जलाने की घटनाओं में कमी


 

share & View comments