scorecardresearch
Saturday, 22 June, 2024
होमदेशकेरल PFI के नेता इस्लामिक स्टेट, अलकायदा के संपर्क में थे, NIA ने कोर्ट को बताया

केरल PFI के नेता इस्लामिक स्टेट, अलकायदा के संपर्क में थे, NIA ने कोर्ट को बताया

एनआईए ने विशेष अदालत में अपनी जांच पेश करते हुए ये बातें कही और अदालत से पीएफआई नेताओं के खिलाफ जांच के लिए और समय मांगा.

Text Size:

कोच्चि (केरल): नेशनल इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी (एनआईए) ने मंगलवार को कोच्चि में स्पेशल एनआईए कोर्ट को बताया कि केरल के प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के नेता इस्लामिक स्टेट (आईएस) और अलकायदा नेताओं के संपर्क में थे.

एनआईए ने प्रतिबंध के बाद गिरफ्तार किए गए पीएफआई नेताओं के खिलाफ जांच के लिए और समय मांगते हुए यह बात कही. एनआईए ने यह भी कहा कि पीएफआई की एक गुप्त शाखा अन्य समुदायों से संबंधित लोगों की हिट लिस्ट तैयार करने के लिए काम कर रही है और उनकी गतिविधियां पीएफआई कार्यालय के आसपास केंद्रित थीं.

एनआईए ने आगे कहा कि ‘आईएस और अल-कायदा आतंकवादी संगठन देश के राज्य विरोधी और धार्मिक आतंकवादी संगठनों का इस्तेमाल उन देशों में विध्वंसक गतिविधियों के लिए करते हैं जहां उनका सीधा संचालन संभव नहीं है. एनआईए को संकेत मिले हैं कि केरल में पीएफआई के नेता कुछ आईएस, अल-कायदा नेताओं के संपर्क में थे. अधिक जानकारी के लिए विस्तृत जांच जरूरी है.’

एनआईए ने कहा कि पीएफआई द्वारा की गई देशद्रोही गतिविधियों के संबंध में अहम जानकारी मिली है. डिजिटल साक्ष्य भी महत्वपूर्ण हैं.

जांच एजेंसी ने कहा, ‘जांच में पीएफआई नेताओं द्वारा सोशल मीडिया समूहों के माध्यम से युवाओं को आतंकवादी गतिविधियों में शामिल करने के कदमों का भी खुलासा हुआ है. कई लोगों से पहले ही पूछताछ की जा चुकी है क्योंकि जांच अपने अंतिम चरण में पहुंच गई है.’

मामले को कोर्ट में पेश करने के बाद, एनआईए अदालत ने अधिक सबूत जुटाने व जांच के लिए और समय दिए जाने के एनआईए के अनुरोध को स्वीकार कर लिया.

इसके मुताबिक एनआईए को जांच पूरी करने और चार्जशीट दाखिल करने के लिए 90 दिनों का और समय दिया गया है. कोच्चि में दर्ज मामले में 13 आरोपी हैं. कोर्ट के इस फैसले के बाद उनकी न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाकर 180 दिन कर दी गई है.

बता दें कि 22 सितंबर को देशभर में एक साथ छापेमारी के बाद पीएफआई के नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया था और उन पर गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत मामला दर्ज किया गया था.


यह भी पढ़ें: ‘राहुल रोकें भारत जोड़ो यात्रा’ कोरोना प्रोटोकॉल की सरकार ने दिलाई याद, कांग्रेस बोली- बौखलाई सरकार


 

share & View comments