Friday, 21 January, 2022
होमदेशओमीक्रॉन के मद्देनजर संसदीय समिति ने की कोविड वैक्सीन की प्रभावशीलता का पता लगाने की सिफारिश

ओमीक्रॉन के मद्देनजर संसदीय समिति ने की कोविड वैक्सीन की प्रभावशीलता का पता लगाने की सिफारिश

समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उसे आशंका है कि वायरस में उत्परिवर्तनों में वृद्धि से देश में कोविड-19 वायरस का अधिक संक्रामक स्वरूप सामने आ सकता है.

Text Size:

नई दिल्ली: सार्स-सीओवी-2 के नये स्वरूप ओमीक्रॉन को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच एक संसदीय समिति ने कोविड-19 रोधी टीकों की प्रभावशीलता का आकलन किये जाने की सिफारिश की है .

स्वास्थ्य पर संसद की स्थायी समिति ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट पेश की. इसने यह भी सिफारिश की कि सरकार को और अधिक अनुसंधान करना चाहिए और वायरस के नये स्वरूप को रोकने के लिए टीकों की बूस्टर डोज देने की आवश्यकता की पड़ताल करनी चाहिए.

समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उसे आशंका है कि वायरस में उत्परिवर्तनों में वृद्धि से देश में कोविड-19 वायरस का अधिक संक्रामक स्वरूप सामने आ सकता है. समिति ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को कोविड-19 के खिलाफ एक सख्त नीति अपनाने और पूरे देश में कोविड मामलों पर बारीकी से नजर रखने की सिफारिश की.

समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘समिति का मानना है कि संभावित रूप से संक्रमितों का समय पर पता लगाना और उन्हें पृथक करना कोविड-19 महामारी के प्रभाव को कम करने में बेहद महत्वपूर्ण है. इसलिए जांच के महत्व को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.’


यह भी पढ़े: ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे को देख एक्सपर्ट ने दी सलाह, कहा- टीकाकरण की जरूरत और मास्क पहनना अनिवार्य


share & View comments