Sunday, 3 July, 2022
होमदेशBJP सांसद कौशल किशोर ने कहा- ऑक्सीजन की समस्या नहीं सुलझी तो मजबूर होकर धरना देना पड़ेगा

BJP सांसद कौशल किशोर ने कहा- ऑक्सीजन की समस्या नहीं सुलझी तो मजबूर होकर धरना देना पड़ेगा

कौशल किशोर ने कहा कि वह धरने पर नहीं बैठना चाहते ताकि अफरा-तफरी का कोई माहौल न पैदा हो लेकिन मजबूरी में उन्हें ऐसा करना पड़ेगा.

Text Size:

लखनऊ: लखनऊ की मोहनलालगंज लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद कौशल किशोर ने ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाते हुए धरना देने की धमकी दी है. उन्होंने राजधानी में ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर सवाल उठाए हैं.

कौशल किशोर ने शनिवार को वीडियो जारी करते हुए कहा, ‘घर में आइसोलेट लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा है. ऑक्सीजन प्लांट पर लोग घंटों लाइन लगाए खड़े हुए हैं. लगातार उनके पास आम जनता के फोन आ रहे हैं.’

सांसद ने कहा कि वह धरने पर नहीं बैठना चाहते ताकि अफरा-तफरी का कोई माहौल न पैदा हो लेकिन मजबूरी में उन्हें ऐसा करना पड़ेगा.

उन्होंने कहा, ‘होम आइसोलेशन में मरीजों को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है. लोगों को ऑक्सीजन मिलेगी तो अस्पतालों पर दबाव कम होगा. लेकिन सैकड़ों लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा है. प्रशासन से कई बार गुहार लगाने के बाद भी होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को ऑक्सीजन नहीं दी जा रही है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


यह भी पढ़ें: कोविशील्ड की कीमत बढ़ाने का SII ने किया बचाव, कहा- एडवांस फंडिंग पर आधारित थीं शुरुआती कीमतें


नए नियम से लोग परेशान

ऑक्सीजन को लेकर नए नियम से लोग परेशान हैं. दरअसल पिछले दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा कि अति गंभीर परिस्थिति को छोड़कर किसी को व्यक्तिगत रूप से ऑक्सीजन की आपूर्ति न की जाए.

इसके बाद ऑक्सीजन को लेकर लोग परेशान होने लगे. रिफिलिंग सेंटर्स से तमाम लोगों को खाली लौटना पड़ा.

कौशल किशोर पहले भी जिला प्रशासन पर सवाल उठाते रहे हैं. उन्होंने पिछले दिनों ट्वीट कर लखनऊ प्रशासन पर आरोप लगाया था कि कोरोना काल में मरीजों की मदद करने के लिए जिन अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है, उनमें से ज्यादातर अधिकारियों का फोन बंद बता रहा है.

दिप्रिंट ने लखनऊ की प्रभारी डीएम रोशन जैकब से जब इस मुद्दे को लेकर संपर्क करने की कोशिश की तो उनके दफ्तर से कहा गया कि वह मीटिंग में व्यस्त हैं.


यह भी पढ़ें: ‘वायरस वोट नहीं करता’- जब मोदी सरकार कोविड संकट से जूझ रही है तब BJP ने कड़ा सच सीखा


 

share & View comments