Wednesday, 29 June, 2022
होमदेशअर्थजगतभारत में तेजी से घटी अत्यंत गरीबी, 2011-2019 में 12.3 फीसद की गिरावट का अनुमान- वर्ल्ड बैंक

भारत में तेजी से घटी अत्यंत गरीबी, 2011-2019 में 12.3 फीसद की गिरावट का अनुमान- वर्ल्ड बैंक

पेपर्स में यह भी दावा किया है कि छोटी जोत वाले किसानों की आय में 2013 और 2019 के दो सर्वे राउंड्स के बीच सालाना आधार पर 10 फीसद की दर से बढ़ी है.

Text Size:

नई दिल्ली: वर्ल्ड बैंक ने दावा किया है कि भारत में तेजी से अत्यंत गरीबी घट रही है. वर्ल्ड बैंक के मुताबिक देश में साल 2011 से 2019 के बीच अत्यंत गरीबी में 12.3 फीसद की गिरावट का अनुमान लगाया गया है. वर्ल्ड बैंक के पॉलिसी रिसर्च वर्किंग पेपर में दावा किया गया है कि साल 2011 में अत्यंत गरीबी 22.5 फीसदी थी जो साल 2019 में घटकर 10.2 फीसदी पर पहुंच गई.

अर्थशास्त्री सुतीर्थ सिन्हा और रॉय वान डेर वीड द्वारा तैयार किए गए इस रिसर्च पेपर में यह भी दावा किया गया है कि शहरों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में अत्यंत गरीबी में गिरावट तेजी से देखी गई है.

पेपर्स के मुताबिक साल 2011 से 2019 के बीच ग्रामीण इलाकों में गरीबी 14.7 फीसदी, वहीं शहरी इलाकों में गरीबी 7.9 फीसदी घटी है.

इन पेपर्स में यह भी कहा गया है कि अत्यंत गरीबी साल 2011 से 2015 के बीच 3.4 फीसदी घटी है. पेपर्स में कहा गया है कि 2011 में इसका आंकड़ा 22.5 फीसदी और 2015 में 19.1 फीसदी थी. साल 2015 से 2019 के बीच इसमें तेजी से गिरावट दर्ज की गई है. इस दौरान अत्यंत गरीबी में 9.1 की गिरावट दर्ज की गई है.

2004 से 2011 के बीच प्रति वर्ष लगभग 2.5 फीसद की गिरावट रहने का अनुमान लगाया गया है.

पेपर्स में यह भी दावा किया है कि छोटी जोत वाले किसानों की आय में 2013 और 2019 के दो सर्वे राउंड्स के बीच सालाना आधार पर 10 फीसद की दर से बढ़ी है.


यह भी पढ़ें: यूक्रेन पर भारत की नीति को अनैतिक कहना पश्चिमी देशों का दोगलापन है, उन्हें अपने गिरेबान में झांकना चाहिए


share & View comments