scorecardresearch
Sunday, 21 July, 2024
होमदेशअर्थजगतभारत में ‘57% धोखाधड़ी’ ऑनलाइन, ‘26% भारतीय संगठनों को घोटालों से एक मिलियन डॉलर तक का नुकसान’

भारत में ‘57% धोखाधड़ी’ ऑनलाइन, ‘26% भारतीय संगठनों को घोटालों से एक मिलियन डॉलर तक का नुकसान’

प्राइसवाटरहाउस कूपर्स की रिपोर्ट ‘प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी’ पर केंद्रित है, जो एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए होती है और भारतीय कंपनियों द्वारा सामना की जाने वाली जालसाजी का सबसे बड़ा स्रोत है.

Text Size:

नई दिल्ली: वित्तीय सलाहकार सेवा फर्म प्राइसवाटरहाउस कूपर्स (पीडब्ल्यूसी) की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में सभी धोखाधड़ी का सत्तावन प्रतिशत ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए होता है और 26 प्रतिशत भारतीय संगठनों को ऐसे घोटालों में 1 मिलियन डॉलर से अधिक का नुकसान हुआ है.

प्लेटफॉर्म: द न्यू फ्रंटियर ऑफ फ्रॉड इन इंडिया शीर्षक से ये रिपोर्ट पिछले सप्ताह जारी की गई थी और यह ‘प्लेटफॉर्म: द न्यू फ्रंटियर ऑफ फ्रॉड इन इंडिया पीडब्ल्यूसी का वैश्विक आर्थिक अपराध और धोखाधड़ी सर्वेक्षण 2022: इंडिया इनसाइट्स’ वाली सीरीज़ रिपोर्ट का दूसरा संस्करण है.

इस सीरीज़ का पहला हिस्सा कंपनियों द्वारा सामना किए गए सभी प्रकार के धोखाधड़ी और आर्थिक अपराधों पर केंद्रित है, दूसरा “प्लेटफॉर्म फ्रॉड” पर केंद्रित है— भारतीय कंपनियों द्वारा सामना की गई जालसाजी का सबसे बड़ा स्रोत.

रिपोर्ट में ‘प्लेटफॉर्म फ्रॉड’ का वर्णन किया गया है, जो ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए होते हैं, जैसे कि सोशल मीडिया, उद्यम और ई-कॉमर्स से जुड़ी धोखाधड़ी.

यह रिपोर्ट प्रौद्योगिकी, वित्तीय सेवाओं, बैंकिंग और पूंजी बाज़ार, उपभोक्ता उत्पादों और खुदरा, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, आतिथ्य और अवकाश, और औद्योगिक उत्पादों और विनिर्माण जैसे उद्योगों सहित पूरे भारत के 111 संगठनों के सर्वेक्षण प्रतिक्रियाओं पर आधारित है.

रिपोर्ट के मुताबिक, आधी कंपनियों का टर्नओवर 1 अरब डॉलर से भी अधिक था.

रिपोर्ट के अनुसार, कोविड महामारी के बाद से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का उपयोग करके धोखाधड़ी करना अब आम हो गया है, जिस समय दूरस्थ कार्य, ई-कॉमर्स डिलीवरी एप्लिकेशन और संपर्क रहित भुगतान – सभी के उपयोग में तेज़ी से वृद्धि देखी गई.

रिपोर्ट में कहा गया है, “सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हमें हर दिन कनेक्ट करते हैं. ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म वस्तुओं और सेवाओं तक पहुंच प्रदान करते हैं और उद्यम मंच कंपनियों को ग्राहकों के साथ बातचीत करने, लेनदेन की प्रक्रिया करने और धन स्थानांतरित करने में मदद करते हैं.”

इसमें कहा गया है कि भारतीय कंपनियां विदेशों की तुलना में प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी के प्रति अधिक संवेदनशील थीं.

रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय संगठन औसतन चार के वैश्विक औसत के मुकाबले व्यापार के सामान्य पाठ्यक्रम में पांच प्लेटफार्मों का संचालन करते हैं.

पीडब्ल्यूसी के पार्टनर और लीडर, फोरेंसिक सर्विसेज, पुनीत गारखेल ने रिपोर्ट में कहा, “परिणामस्वरूप, भारत में प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी की घटनाएं बहुत अधिक हैं.”


यह भी पढ़ें: वैध-अवैध की लड़ाई में दिल्ली के सरोजिनी नगर में फेरीवाले कर रहे हैं PM स्वनिधि लोन के लिए संघर्ष


‘प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी’ में इस्तेमाल होने वाले सामान्य तरीके

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अनुभव किए गए प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी के सबसे आम उदाहरण अनधिकृत लेनदेन थे, जैसे कार्ड भुगतान, अनधिकृत ट्रांसफर या डेटा को हटाना और पीड़ित द्वारा शुरू किए गए धोखाधड़ी लेनदेन.

दुर्भावनापूर्ण सॉफ्टवेयर, या मैलवेयर और रैंसमवेयर को एंटरप्राइज़ प्लेटफॉर्म में पेश करना, जिसका उपयोग कंपनी अपने काम के लिए करती है, प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी का एक और उदाहरण है.

रैंसमवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग पीड़ित की कंप्यूटर फाइलों को एन्क्रिप्ट करने के लिए किया जा सकता है, जब तक फिरौती का भुगतान नहीं किया जाता, तब तक पीड़ित को अपने सिस्टम से अनिवार्य रूप से लॉक कर दिया जाता है. रैंसमवेयर द्वारा लॉक की गई और एन्क्रिप्ट की गई फाइलों को खोलने का प्रयास करने वाले उपयोगकर्ता को हैकर से संपर्क करने के लिए फिरौती मांगने या ईमेल पता दिखाने का संदेश मिलता रहेगा.

किसी कंपनी डिवाइस की सामग्री की चोरी या क्लोनिंग के साथ-साथ पहचान की चोरी या बिना अनुमति के किसी कंपनी के खाते को हैक कर लेना भी रिपोर्ट में एक धोखाधड़ी के रूप में वर्णित किया गया है.

रिपोर्ट में कहा गया है, “एंटरप्राइज़ प्लेटफॉर्म सबसे अधिक मैलवेयर, फिशिंग, मनी लॉन्ड्रिंग और रैंसमवेयर घटनाओं की साइट होने की संभावना है. रैंसमवेयर, विशेष रूप से, विनाशकारी क्षति पहुंचाने की क्षमता के साथ एक खतरनाक खतरे में तब्दील हो गया है.”

रिपोर्ट में बताया गया है कि 44 प्रतिशत अपराधी वित्तीय लाभ के लिए धोखाधड़ी करते हैं, जबकि 41 प्रतिशत प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी “आंतरिक अपराधियों” द्वारा की जाती है.

यह पाया गया कि 26 प्रतिशत प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी में आंतरिक लोगों और बाहरी अपराधियों के बीच मिलीभगत शामिल थी.

रिपोर्ट में कहा गया है, “इसका तात्पर्य यह है कि अगर कंपनियों के पास मजबूत आंतरिक नियंत्रण हैं, तो सभी प्लेटफॉर्म धोखाधड़ी के दो-तिहाई से अधिक को कम किया जा सकता है.”

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: स्टडी में दावा— इंटरनेट अब अधिक किफायती, लेकिन स्पीड के लिए भारत में अभी भी हो रहा अधिक भुगतान


 

share & View comments