scorecardresearch
Thursday, 30 May, 2024
होमदेश'हमारी आंखों के सामने ओझल हो रही', UN प्रमुख गुटेरेस बोले- लैंगिक समानता '300 साल दूर'

‘हमारी आंखों के सामने ओझल हो रही’, UN प्रमुख गुटेरेस बोले- लैंगिक समानता ‘300 साल दूर’

गुटेरेस ने कहा, 'यह ऐसे समय में और भी अधिक महत्व रखता है जब दुनिया भर में महिलाओं के अधिकारों का दुरुपयोग हो रहा, खतरे में हैं और उनका उल्लंघन हो रहा है.

Text Size:

न्यूयॉर्क (अमेरिका): संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक जानकारी के अनुसार, लैंगिक समानता की दिशा में प्रगति ‘हमारी आंखों के सामने ओझल हो रही है’ और उस अंतर को पाटने में 300 साल लगेंगे.

सोमवार को महिलाओं की स्थिति पर आयोग के संयुक्त राष्ट्र सत्र को संबोधित करते हुए, गुटेरेस ने कहा, ‘यह ऐसे समय में और भी अधिक महत्व रखता है जब दुनिया भर में महिलाओं के अधिकारों का दुरुपयोग हो रहा, खतरे में हैं और उनका उल्लंघन हो रहा है. दशकों में हासिल की गई प्रगति हमारी आंखों के सामने से ओझल हो रही है.’

उन्होंने उन घटनाओं को भी याद किया जहां महिलाओं के अधिकार छीने गए और कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं को सार्वजनिक जीवन से खत्म कर दिया गया है. उन्होंने आगे कहा कि कई अन्य जगहों पर महिलाओं के यौन और प्रजनन अधिकारों को वापस ले लिया गया है.

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा, ‘कुछ देशों में, स्कूल जाने वाली लड़कियों के अपहरण और हमले का खतरा होता है. दूसरों में, पुलिस उन कमजोर महिलाओं का शिकार बनाती है जिनकी उन्होंने रक्षा करने की शपथ ली है. लैंगिक समानता अधिक दूर होती जा रही है. वर्तमान ट्रैक पर, संयुक्त राष्ट्र महिला इसे 300 साल दूर रखती है.’

गुटेरेस ने कहा, ‘मातृ मृत्यु दर बढ़ रही है. गर्भावस्था या प्रसव के दौरान हर 2 मिनट में एक महिला की मौत हो जाती है. इनमें से ज्यादातर मौतों को रोका जा सकता है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

विज्ञप्ति के अनुसार, उन्होंने आगे कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रभाव ने लाखों लड़कियों को स्कूल छोड़ने पर मजबूर कर दिया. इस बीच, माताओं और देखभाल करने वालों को वेतन वाले रोजगार से बाहर कर दिया गया और बच्चों को कम उम्र में शादी करने के लिए मजबूर किया गया.

गुटेरेस ने महिलाओं की स्थिति पर आयोग को बताया कि यूक्रेन से साहेल तक, संकट और संघर्ष महिलाओं और लड़कियों को सबसे पहले और सबसे बुरी तरह प्रभावित करते हैं. और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर, कुछ देश अब बहुपक्षीय वार्ताओं में लैंगिक परिप्रेक्ष्य को शामिल करने का विरोध भी करते हैं.

महिलाओं की स्थिति पर आयोग (CSW) मुख्य वैश्विक अंतरसरकारी निकाय है जो विशेष रूप से लैंगिक समानता और महिलाओं के सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए समर्पित है.

बयान के अनुसार, आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) का एक कार्यात्मक आयोग, 21 जून 1946 के ECOSOC संकल्प 11 (II) द्वारा स्थापित किया गया था.

गुटेरेस ने अपने तीसरे बिंदु को रेखांकित करते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भी महिलाओं और लड़कियों के लिए एक सुरक्षित डिजिटल वातावरण बनाना चाहिए. इस संबंध में, यूएन डिजिटल प्लेटफॉर्म पर सूचना इंटिग्रिटी को लेकर कोड ऑफ कंडक्ट को आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहा है, जिसका उद्देश्य नुकसान को कम करना और जवाबदेही बढ़ाना है.

महासचिव ने जोर देकर कहा कि विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार में महिलाओं के पूर्ण योगदान को बढ़ावा देना चैरिटी या महिलाओं के पक्ष में कार्य नहीं है, बल्कि ‘जरूरी’ है जो सभी को लाभान्वित करता है.

उन्होंने कहा, ‘महिलाओं की स्थिति पर आयोग हमारे लिए आवश्यक परिवर्तन के लिए एक डायनेमो और उत्प्रेरक है. साथ में, पीछे धकेली गईं महिलाओं, लड़कियों आगे बढ़ने के लिए महिलाओं फिर से सपोर्ट की जरूरत है.’


यह भी पढ़ें: “RSS फासीवादी है और मुस्लिम ब्रदरहुड की तर्ज पर बना है”: संघ पर ब्रिटेन में राहुल गांधी ने किया हमला


 

share & View comments