scorecardresearch
Wednesday, 29 May, 2024
होमदेशदिल्ली के वेटलैंड सूख रहे हैं, यह केवल कागज़ों पर ही ज़िंदा बचे हैं

दिल्ली के वेटलैंड सूख रहे हैं, यह केवल कागज़ों पर ही ज़िंदा बचे हैं

दिल्ली निवासी बिना इस बात पर विचार किए कि इससे पारिस्थितिकी को कितना नुकसान होगा, वे जल निकायों की जगह पार्कों और सामुदायिक केंद्रों को पसंद कर रहे हैं. अधिकारियों के लिए भी यह आसान रास्ता है.

Text Size:
नई दिल्ली: दक्षिण पश्चिम दिल्ली के बाहरी इलाके में राष्ट्रीय राजधानी की हलचल से दूर कांगनहेरी गांव स्थित है.

गांव के ठीक बीच में एक तालाब कुछ साल पहले तक यहां का मुख्य आकर्षण था. यहां ऊंचे-ऊंचे पेड़ लगे हुए थे और हर सर्दी के मौसम में प्रवासी पक्षी भी यहां आते थे. लेकिन दो साल पहले, इस जल निकाय के एक हिस्से को अर्थ लेवलर का उपयोग करके कंक्रीट, रेत और सीमेंट से भर दिया गया था.

आज यह बताना मुश्किल है कि इस स्थान पर कभी कोई तालाब था. जो कुछ खड़ा है वह एक बड़ा सामुदायिक केंद्र है जो उद्घाटन की प्रतीक्षा कर रहा है. कुछ ही मीटर की दूरी पर तालाब के निशान देखे जा सकते हैं, जो अब नाले सूरत नाले जैसी हो गई है. यह यहां रहने वाले लोगों के लिए डंप यार्ड का काम करता है.

गांव के निवासी मनीष कुमार ने कहा, “विधायक के साथ हमारी पिछली बैठक में हमें बताया गया था कि वे तालाब के बचे हुए हिस्से पर एक पार्क बनाएंगे.”

शहर में प्राकृतिक जल निकायों को बचाने वा देखरेख के लिए बनाई गई राज्य की एक संस्था दिल्ली वेटलैंड अथॉरिटी के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में 1045 जल निकाय हैं. लेकिन इनमें से कई सिर्फ कागजों पर ही मौजूद हैं. इनमें से कुछ कचरा डंपिंग और खराब रखरखाव के शिकार हो गए हैं, बाकी पर अतिक्रमण कर लिया गया है, ज्यादातर मामलों में सरकारी एजेंसियों द्वारा.

और निवासी बिना इस बात पर विचार किए कि पारिस्थितिकी को कितना नुकसान हो रहा है वे इनके बदले पार्कों और सामुदायिक केंद्रों से समझौता कर रहे हैं. यह उन अधिकारियों के लिए भी एक आसान रास्ता है जो उनके पुनरुद्धार और रखरखाव के लिए जिम्मेदारी लेते रहते हैं. इन आर्द्रभूमियों पर कई एजेंसियों का स्वामित्व होने के कारण, कौन और कब आता जाता है, इसका भी नहीं पता रहता है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

केवल कागजों पर ही हैं जल निकाय

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास एक गांव शाहबाद मोहम्मदपुर के निवासियों को दो स्थानीय जोहड़ (तालाब) याद हैं.

तालाब के एक कोने में महिलाएं कपड़े धोती थीं. गर्मियों में, बच्चे इसके उथले पानी में गोता लगाते थे. निवासियों के अनुसार, दो तालाबों में से एक में मछलियां भी थीं.

आज, एक खेल का मैदान एक साइट पर स्थित है. दूसरे को पक्का कर छोड़ दिया गया है. कभी लबालब भरे रहने वाले इन तालाबों के अवशेष के रूप में केवल पुराने बोर्ड ही बचे हैं, जो इस स्थल को “दिल्ली विकास प्राधिकरण वॉटरबॉडी” के रूप में बताते हैं.

“सरकारी एजेंसियों ने निवासियों के साथ कुछ दौर की चर्चा की. जिनमें से कुछ पारिस्थितिक कारणों का हवाला देते हुए तालाबों को बंद करने के पूरी तरह से खिलाफ थे, लेकिन गांव में एक बड़ी आबादी थी जो तालाबों को सामुदायिक स्थानों में बदलने के पक्ष में थी.”

सिंह जीवन भर गांव में रहे हैं. उन्हें इस बात का दुख है कि उनके बच्चे कभी उन तालाबों को नहीं देख पाए जिनके आसपास उन्होंने अपना बचपन बिताया.

दक्षिण पश्चिम दिल्ली के बुधेला में एक जल निकाय का स्थान. यहां सामुदायिक केंद्र बनाया जाएगा.

विशेषज्ञों ने कहा कि निवासियों को अपने स्थानीय जल निकायों के बजाय विकास को चुनने का लालच दिया जाता है क्योंकि एजेंसियों द्वारा इनका कभी भी उचित रखरखाव नहीं किया जाता है. कूड़े-कचरे से भरे, बदबूदार, रोग का घर बन चुके इस वॉटर बॉडीज़ के आसपास रहने के बजाय, निवासी बेहतर सुविधाओं के लिए इसे स्वीकार करते हैं.

सेंटर फॉर यूथ, कल्चर, लॉ एंड एनवायरनमेंट (CYCLE) के सह-संस्थापक पारस त्यागी ने कहा कि ग्रामीण ऐसी बुनियादी सुविधाओं के साथ रहते हैं कि एक कम रखरखाव वाले तालाब की तुलना में सड़क या सामुदायिक केंद्र का चुनाव करना अक्सर बेहतर सौदा लगता है. इस तरह का समझौता शहर की पारिस्थितिकी के लिए खतरनाक होगा.

त्यागी ने कहा, “बेंगलुरु और चेन्नई जैसे शहर अपने जलाशयों पर निर्माण कार्य करने का खामियाजा भुगत रहे हैं. हम उनकी गलतियों से क्यों नहीं सीख सकते? सरकारी दस्तावेजों में इस निर्माण को ‘कानूनी अतिक्रमण’ बताया गया है. इसका क्या मतलब है?”

त्यागी के संगठन द्वारा 2020 में किए गए एक अध्ययन में दिल्ली में 1,009 जल निकायों का विश्लेषण किया गया और पाया गया कि 302 आंशिक रूप से या पूरी तरह से अतिक्रमित थे. अन्य 100 कूड़े और सीवेज जमाव के कारण सिकुड़ रहे थे, और 345 पूरी तरह से सूख गए थे.

इस तरह की उपेक्षा नई नहीं है और यह पुराने निवासियों के अनुभवों से स्पष्ट है.

शाहबाद मोहम्मदपुर में रहने वाली 80 वर्षीय किरण देवी ने कहा कि गांव में जल निकायों के बारे में कुछ भी आकर्षक नहीं है. कचरा कभी साफ़ नहीं होता था और जमा हुआ पानी मच्छरों के लिए प्रजनन स्थल बन गया था.

लेकिन ये तालाब हमेशा इतनी ख़राब स्थिति में नहीं थे. 60 साल पहले जब वह शादी के बाद यहां आई तो ये जलाशय साफ पानी से लबालब थे.

उसने कहा, “कम से कम हम पार्क में बैठ सकते हैं और घूम सकते हैं. ऐसे गंदे तालाब का हम क्या करेंगे? इसमें मर जाएं?”

नजफगढ़ के पास एक अन्य गांव पापरावत में, स्थानीय तालाब को एक स्पोर्ट्स सेंटर में बदल दिया गया है. लेकिन खुदाई नहीं रुकी. क्षेत्र के युवाओं के लिए स्विमिंग पूल बनाने के लिए उस जगह को दोबारा खोदा गया.

पिछले कुछ वर्षों में सरकारी उदासीनता इतनी स्पष्ट रही है कि अदालतों को हस्तक्षेप करना पड़ा.

इस साल अप्रैल में, दिल्ली उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि 2024 के अंत तक सभी आर्द्रभूमियों के रखरखाव के लिए सूचित कर दिया जाए.

राज्य पर कड़ा प्रहार करते हुए अदालत ने कहा, “सूचीबद्ध 1045 में से कई जल निकाय आज की तारीख में जमीन स्तर पर मौजूद नहीं हैं”. अदालत के नवीनतम आदेश में सरकार से 15 मई तक सभी जल निकायों को जियो-टैग करने और 31 दिसंबर तक नवीनीकरण करने को कहा गया है.

दिल्ली के शाहबाद मोहम्मदपुर गांव में एक तालाब की जगह पर एक खेल का मैदान बनाया गया था. | दानिशमंद खान | दिप्रिंट

यह भी पढ़ें: मथुरा संस्कृति, महाभारत काल — 50 साल बाद ASI ने क्यों शुरू की गोवर्धन पर्वत की खुदाई


दिल्ली में आर्द्रभूमियों की कोई सुरक्षा नहीं

राज्यों में जल निकायों के क्षरण को ध्यान में रखते हुए, इसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकारों द्वारा 2017 में ‘वेटलैंड्स’ नामक जल निकायों की एक विशिष्ट श्रेणी को मान्यता दी गई थी. वेटलैंड्स अस्थायी या स्थायी रूप से पानी से ढके भूमि खंड हैं, जो अपने बेहतरीन लैंडस्केप के कारण ग्राउंड वॉटर रिचार्ज को सक्षम करने और जैव विविधता का समर्थन करने में मदद करते हैं.

केंद्र सरकार द्वारा वेटलैंड संरक्षण और प्रबंधन नियम 2017 पारित किए जाने के बाद, सभी राज्य सरकारों को एक राज्य वेटलैंड प्राधिकरण का गठन करना आवश्यक था.

अस्तित्व में आने के पांच साल बाद भी, दिल्ली वेटलैंड प्राधिकरण ने दिल्ली में एक भी वेटलैंड अधिसूचित नहीं किया है, जबकि वेटलैंड ऑफ इंडिया पोर्टल पर 490 से अधिक वेटलैंड सूचीबद्ध हैं.

नियमों के अनुसार, प्रत्येक राज्य आर्द्रभूमि प्राधिकरण को पर्यावरण, शहरी विकास, जल, मत्स्य पालन और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड सहित विभागों से प्रतिनिधित्व की आवश्यकता होती है. ऐसा समग्र रूप से आर्द्रभूमियों की सुरक्षा और नवीनीकरण सुनिश्चित करने के लिए किया गया था.

इन आर्द्रभूमि प्राधिकरणों को राज्य में सभी आर्द्रभूमियों की एक सूची विकसित करने, अधिसूचना के लिए आर्द्रभूमियों की सिफारिश करने और अपने अधिकार क्षेत्र के भीतर आर्द्रभूमियों के संरक्षण में मदद करने के लिए रणनीति तैयार करने का काम सौंपा गया है.

दिल्ली में प्राधिकरण के गठन पर संरक्षण का काम रुक गया.

वेटलैंड संरक्षण नियमों के अनुसार 2019 में स्थापित दिल्ली वेटलैंड प्राधिकरण की 2019 से 2021 के बीच केवल पांच बार बैठक हुई है. तब से प्राधिकरण द्वारा पारित किसी बैठक या निर्णय का कोई रिकॉर्ड नहीं है.

इससे भी अधिक चिंताजनक बात यह है कि अस्तित्व में आने के पांच साल बाद भी, दिल्ली वेटलैंड प्राधिकरण ने दिल्ली में एक भी वेटलैंड को अधिसूचित नहीं किया है, जबकि वेटलैंड ऑफ इंडिया पोर्टल पर 490 से अधिक वेटलैंड सूचीबद्ध हैं.


यह भी पढ़ें: हरियाणा BJP का सिरदर्द बन गया है, पार्टी अगर सत्ता में लौटी भी, तो छवि पर रहेंगे दाग 


दूसरे के कंधे पर जिम्मेदारी डालना

हालांकि आर्द्रभूमियों को संरक्षण और पुनर्जीवन के लिए चिह्नित किया गया है, लेकिन इन्हें अभी तक अधिसूचित नहीं किया गया है. अधिसूचना आधिकारिक तौर पर इन जल क्षेत्रों को मान्यता देगी और उन्हें पारिस्थितिक क्षरण और अतिक्रमण से कानूनी सुरक्षा प्रदान करेगी.

विशेषज्ञों का कहना है कि इन जल निकायों पर कई स्वामित्व होने के कारण अधिसूचना की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई है. जितनी अधिक एजेंसियां इन जल निकायों पर दावा करती हैं, जवाबदेही तय करना उतना ही कठिन हो जाता है और अधिकारियों के लिए दोष मढ़ना उतना ही आसान हो जाता है.

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार की एक शाखा, दिल्ली पार्क एंड गार्डन्स सोसाइटी के सदस्य राजेश रोशन ने कहा, “दिल्ली में 1045 जल निकाय हैं, और 16 अलग-अलग एजेंसियां हैं जिनके पास इन जल निकायों का मिला-जुला स्वामित्व है.” दिल्ली की वेटलैंड अथॉरिटी भी इसी सोसायटी के अंतर्गत आती है.

उन्होंने कहा कि आर्द्रभूमि की अधिसूचना के लिए इनमें से प्रत्येक एजेंसी से अनुमति की आवश्यकता होगी.

कुछ भूमि स्वामित्व एजेंसियों में दिल्ली विकास प्राधिकरण, दिल्ली जल बोर्ड, वन विभाग और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) शामिल हैं.

डीडीए शहर की सबसे बड़ी भूमि स्वामित्व संस्था है. दिल्ली वेटलैंड अथॉरिटी की वेबसाइट से पता चलता है कि दिल्ली में कुल जल निकायों में से 822 का स्वामित्व डीडीए के पास है, जिसमें उत्तर-पश्चिम दिल्ली में टिकरी खुर्द झील भी शामिल है, जिसका वर्षों से जीर्णोद्धार होना बाकी है.

संरक्षण के लिए दिल्ली वेटलैंड प्राधिकरण द्वारा पहचाने गए अन्य मुख्य जल निकाय – भलस्वा झील, स्मृति वन और संजय वन – भी डीडीए के स्वामित्व में हैं और पहले उनकी अधिसूचना में देरी के कारण विवाद का विषय रहे हैं.

दिल्ली के नजफगढ़ के पापरावत में एक जल निकाय को स्विमिंग पूल में परिवर्तित किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: अप्रैल में कश्मीर में बर्फबारी, पूरब और दक्षिण में हीटवेव- क्लाइमेट चेंज कर सकता है बड़े मौसमी बदलाव


वेटलैंड अथॉरिटी, एक कागजी शेर

दिल्ली वेटलैंड अथॉरिटी की पांच बैठकों के चर्चा के बिंदुओं के विश्लेषण से पता चलता है कि एक भी वेटलैंड की सुरक्षा में नौकरशाही के स्तर से ढेर सारी देरी हुई है.

2019 में पहली बैठक से, डीडब्ल्यूए ने सभी सदस्यों और भूमि-मालिक एजेंसियों से सटीक विवरण के साथ दिल्ली में आर्द्रभूमि की एक सूची तैयार करने का अनुरोध किया. प्राधिकरण को ये विवरण प्राप्त करने में 2019 और 2021 के बीच दो साल और तीन डीडब्ल्यूए बैठकों का समय लगा. फिर भी, जनवरी 2021 में चौथी DWA बैठक में उल्लेख किया गया कि कैसे “हैंड-होल्डिंग वर्कशॉप” और फ़ॉर्मेटिंग की प्रक्रिया का वर्णन करने वाले YouTube वीडियो की उपलब्धता के बावजूद, DDA जैसी कुछ एजेंसियों द्वारा इन विवरणों का प्रारूप सही ढंग से नहीं बनाया गया था.

“एक समय था (लगभग तीन दशक पहले) जब यह जलाशय हमारे दरवाजे तक फैला हुआ था. पानी इतना साफ था कि हम इसे सीधे पी सकते थे,” संतोष ने अपनी बाल्टी भरते हुए कहा. उस समय गांव को कभी भी पानी की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ा.

संतोष मुस्कुराते हैं, “युवा पीढ़ी को यह सब याद नहीं है. वे तालाब के बजाय पार्क या सामुदायिक केंद्र पसंद करते हैं. हम देख रहे हैं कि यह कैसे हो रहा है.”.

(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः ‘भारत की संस्कृति, मूल्यों’ को बढ़ावा देने के लिए केंद्र लॉन्च करेगा खुद का ओटीटी प्लेटफॉर्म 


 

share & View comments