scorecardresearch
Thursday, 25 April, 2024
होमदेशअपराध'खुद खट्टर ने किया'- मोनू मानेसर की गिरफ्तारी पर बजरंग दल ने BJP पर लगाया 'विश्वासघात' का आरोप

‘खुद खट्टर ने किया’- मोनू मानेसर की गिरफ्तारी पर बजरंग दल ने BJP पर लगाया ‘विश्वासघात’ का आरोप

बजरंग दल का कहना है कि सिविल वर्दी में लोग आए और बिना कोई वारंट दिखाए मानेसर को हिरासत में ले लिया, साथ ही कहा कि हरियाणा सरकार नूंह झड़प के बाद से संगठन के सदस्यों पर कार्रवाई कर रही है.

Text Size:

नई दिल्ली: हरियाणा पुलिस द्वारा मोनू मानेसर को हिरासत में लिए जाने के बाद, दक्षिणपंथी समूह बजरंग दल ने मंगलवार को कहा कि उन्हें सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा “धोखा” दिया है.

दिप्रिंट को पता चला है कि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धाराओं के तहत हरियाणा के नूंह जिले में दर्ज एक एफआईआर के सिलसिले में बजरंग दल के सदस्य और गौरक्षक मोनू मानेसर को गिरफ्तार किया गया है.

नूंह के पुलिस अधीक्षक (एसपी) नरेंद्र बिजारनिया ने दिप्रिंट को बताया कि सोशल मीडिया पर मोनू के कथित “भड़काऊ भाषणों” को लेकर 26 अगस्त को एफआईआर दर्ज की गई थी. उसे राजस्थान पुलिस को सौंप दिया जाएगा.

जुलाई में, नूंह में ब्रज मंडल यात्रा से पहले, मोनू ने एक वीडियो जारी किया था जिसे “भड़काऊ” माना गया था.

वह राजस्थान के भरतपुर जिले के एक गांव के निवासी जुनैद और नासिर नाम के दो मुस्लिम व्यक्तियों की हत्या का भी आरोपी है, जिन्हें फरवरी में गोरक्षकों ने कथित तौर पर पीट-पीटकर मार डाला था, उन पर गाय की तस्करी का संदेह था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

हरियाणा के राज्य समन्वयक (बजरंग दल) भारत भूषण ने दिप्रिंट से कहा, “हमें भाजपा ने धोखा दिया है. हमने कभी नहीं सोचा था कि बीजेपी राजनीतिक दबाव के आगे झुक जाएगी और मोनू मानेसर जैसे निर्दोष व्यक्ति को गिरफ्तार कर लेगी जिसने हमेशा गाय की सुरक्षा को बढ़ावा दिया है. ऐसा खुद सीएम (मनोहर लाल) खट्टर ने किया है. जिस तरह वे मोनू मानेसर और बिट्टू (बजरंगी) पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, उन्हें मेवात और उस क्षेत्र के गौ तस्करों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए था. अगर उन्होंने ऐसा किया होता तो गौ तस्करी कम हो गई होती.”

भूषण ने यह भी कहा कि सिविल वर्दी में लोग दो कारों में आए और मानेसर को “ले गए” – जो किराने का सामान खरीदने वाली एक दुकान पर था – बिना “कोई वारंट” दिखाए.

उन्होंने कहा कि नूंह हिंसा के बाद से, हरियाणा सरकार बजरंग दल के सदस्यों पर कार्रवाई कर रही है और “उनके जीवन को बदतर बना रही है.”

दिप्रिंट ने कॉल के ज़रिए हरियाणा के मुख्यमंत्री कार्यालय और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओ.पी. धनखड़ से संपर्क किया. प्रतिक्रिया मिलने पर यह रिपोर्ट अपडेट कर दी जाएगी.

हरियाणा पुलिस ने कथित तौर पर कहा कि उन्होंने मानेसर को फर्जी नाम से सोशल मीडिया प्रोफाइल चलाने और “आपत्तिजनक और भड़काऊ” पोस्ट अपलोड करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

एक स्थानीय दुकान का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है जिसमें सिविल वर्दी में दो लोगों को मानेसर ले जाते हुए देखा जा सकता है. गिरफ्तारी के तुरंत बाद, अगले कदम पर निर्णय लेने के लिए बजरंग दल और गोरक्षकों द्वारा पूरे हरियाणा में कथित तौर पर बैठकें आयोजित की गईं.

दिप्रिंट से बात करते हुए, एक अन्य गौरक्षक सुमित शर्मा, जिन्होंने मानेसर के साथ मिलकर काम किया है, ने हिरासत को “नाजायज” बताया और कहा कि उन पर पुलिस द्वारा झूठा आरोप लगाया गया था जो “राजनीतिक दबाव” के तहत काम कर रही है.

जो पार्ट-टाइम और फुल-टाइम गौरक्षक के रूप में काम करने वाले शर्मा ने कहा, “मानेसर ने गौ तस्करी पर नकेल कसने में हमेशा प्रशासन की मदद की है. और आज उन्होंने उन्हें ऐसे पवित्र काम के लिए गिरफ्तार कर लिया है.’ हम अपना अगला कदम तय करने के लिए बैठकें आयोजित कर रहे हैं. अगर जरूरत पड़ी तो हम विरोध प्रदर्शन आयोजित करेंगे.”

राजस्थान के भरतपुर के एसपी मृदुल कछावा ने मंगलवार को मीडियाकर्मियों को बताया कि जैसे ही हरियाणा पुलिस अपनी आधिकारिक प्रक्रियाएं पूरी कर लेगी, राजस्थान पुलिस अपनी जांच शुरू कर देगी.

उन्होंने कहा, “हमें जानकारी मिली है कि हरियाणा पुलिस ने मोनू मानेसर को हिरासत में लिया है, जो नासिर और जुनैद (लिंचिंग) मामले में वांटेड था. हरियाणा पुलिस अपनी प्रक्रिया को अंजाम दे रही है और हमारे अधिकारी उनके संपर्क में हैं. जब उनकी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, (हमारी) जिला पुलिस अपनी प्रक्रिया शुरू कर देगी.”

इस बीच, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को नूंह का दौरा किया और नूंह हिंसा में मारे गए अभिषेक नाम के युवक के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की.

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: भारत के पास पेट्रोल में इथेनॉल ब्लेंडिंग का महत्वाकांक्षी लक्ष्य है, लेकिन सप्लाई एक बड़ी बाधा बनी हुई है


 

share & View comments