scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमदेशअपराधराजस्थान पुलिस को सौंपा गया मोनू मानेसर, नूंह कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

राजस्थान पुलिस को सौंपा गया मोनू मानेसर, नूंह कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धाराओं के तहत हरियाणा के नूंह में दर्ज एफआईआर के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए मोनू मानेसर को राजस्थान पुलिस को सौंपा जाएगा.

Text Size:

नई दिल्ली: बजरंग दल के मोनू मानेसर को नूंह कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया है. मानेसर को हरियाणा पुलिस ने कोर्ट में पेश किया था. मानेसर को हरियाणा पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था. पुलिस के सूत्रों ने पुष्टि की कि मोनू को सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धाराओं के तहत हरियाणा के नूंह जिले में दर्ज एक प्राथमिकी के संबंध में हिरासत में लिया गया था. जिसेक बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया. रिपोर्ट के अनुसार, मानेसर को राजस्थान पुलिस को सौंप दिया गया है.

राजस्थान के भरतपुर के एसपी मृदुल कछावा ने मीडिया से बात करते हुए कहा था, ”हमें जानकारी मिली है कि हरियाणा पुलिस ने मोनू मानेसर को हिरासत में लिया है, जो नासिर और जुनैद (लिंचिंग) मामले में वांटेड है. हरियाणा पुलिस अपनी आगे की प्रक्रिया कर रही है और हमारे अधिकारी उनके संपर्क में हैं. जब उनकी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, (हमारी) जिला पुलिस उनकी प्रक्रिया शुरू कर देगी.”

नूंह के पुलिस अधीक्षक (एसपी) नरेंद्र बिजारणिया ने दिप्रिंट से पुष्टि की कि सोशल मीडिया पर मोनू के कथित “भड़काऊ भाषणों” को लेकर 26 अगस्त को उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी.

सूत्र ने दिप्रिंट को बताया, “उसने वीडियो में ‘अंतिम-वॉर होगा’ (अंतिम लड़ाई होगी) जैसी बातें कहीं.” उन्होंने आगे बताया, “पुलिस उसके सोशल मीडिया पर नज़र रख रही है.”

यह हरियाणा के नूंह जिले में सांप्रदायिक झड़पें देखने के लगभग एक महीने बाद आया है. मोनू ने नूंह में ब्रज मंडल यात्रा से पहले एक वीडियो जारी किया था, जिसे ‘भड़काऊ’ माना गया था. हालांकि, झड़पों के संबंध में उसके खिलाफ कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

गुरुग्राम के मानेसर शहर का रहने वाला मोहित यादव उर्फ ​​मोनू मानेसर राजस्थान पुलिस द्वारा फरवरी से जुनैद और नासिर की कथित हत्या के मामले में भी वांटेड है, इस में इन दो मुस्लिम पुरुषों के शव भिवानी में जले हुए पाए गए थे.

राजस्थान के भरतपुर जिले के घाटमीका गांव के निवासी दो मुस्लिम व्यक्तियों की 15 फरवरी को हत्या कर दी गई थी और उनके शव भिवानी में एक जले हुए वाहन में पाए गए थे.

उन लोगों को कथित तौर पर गोरक्षकों ने पीट-पीटकर मार डाला, जिन्हें संदेह था कि वे दोनों गायों की तस्करी कर रहे थे.

अगस्त में, राजस्थान पुलिस के महानिदेशक (डीजीपी) उमेश मिश्रा ने मीडियाकर्मियों को बताया था कि मोनू मानेसर दो लोगों की हत्या में सीधे तौर पर शामिल नहीं था और उसकी “अप्रत्यक्ष” भागीदारी की जांच की जा रही थी.

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: भारत के पास पेट्रोल में इथेनॉल ब्लेंडिंग का महत्वाकांक्षी लक्ष्य है, लेकिन सप्लाई एक बड़ी बाधा बनी हुई है


 

share & View comments