Friday, 27 May, 2022
होमदेश15 साल से कम उम्र के बच्चे गणतंत्र दिवस की परेड में नहीं हो पाएंगे शामिल, जानें क्या हैं गाइडलाइन्स

15 साल से कम उम्र के बच्चे गणतंत्र दिवस की परेड में नहीं हो पाएंगे शामिल, जानें क्या हैं गाइडलाइन्स

दिल्ली पुलिस की गाइडलाइन्स में कहा गया है कि परेड में शामिल होने वाले लोगों के लिए जरूरी है कि उन्हें कोरोना की दोनों डोज लगी हों.

Text Size:

नई दिल्ली: भारत में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा जिसको लेकर तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही हैं. दिल्ली पुलिस ने राजपथ पर होने वाली गणतंत्र दिवस परेड को लेकर दिशानिर्देश जारी किए गए हैं. दिल्ली पुलिस की गाइडलाइन्स में कहा गया है कि परेड में शामिल होने वाले लोगों के लिए जरूरी है कि उन्हें कोरोना की दोनों डोज लगी हों.

इसके अलावा 15 साल से कम उम्र के बच्चें समारोह में शामिल नहीं हो सकेंगे. दिल्ली पुलिस ने अपने दिशानिर्देशों में कहा कि 26 जनवरी को राजपथ पर होने वाले कार्यक्रम में लोगों को कोरोना उपयुक्त व्यवहार का पालन करना होगा. मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाना जरूरी होगा.

दिल्ली पुलिस ने ट्वीट कर दिशानिर्देशों का ब्यौरा दिया है जिसमें कहा गया है कि आगुंतकों के लिए बैठने के ब्लॉक सुबह 7 बजे खुलेंगे और सभी को निर्धारित स्थान पर बैठने का अनुरोध किया गया है.

जो भी लोग कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आएंगे उन्हें कोरोना वैक्सीन प्रमाण पत्र साथ लेना आवश्यक है. दिल्ली पुलिस ने अनुरोध किया है कि कार्यक्रम स्थल के पास पार्किंग सीमित है इसलिए समारोह में टैक्सी या फिर कार पूल यानी कार शेयर करके ही पहुंचे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

इसके अलावा समारोह में आने वाले लोगों से अनुरोध किया गया है कि वे अपने साथ पहचान पत्र साथ लेकर आएं.

दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने रविवार को बताया कि गणतंत्र दिवस के के कार्यक्रम को देखते हुए राजधानी में 27 हजार से ज्यादा कर्मियों को तैनात किया गया है. बता दें कि पिछले दो महीनों से दिल्ली पुलिस देश की राजधानी में आतंकवाद के खिलाफ कड़े कदम उठा रही है.


यह भी पढ़ें- 3.9 फीसदी विवाहित महिलाओं ने कहा- पतियों के हाथों झेली यौन हिंसा, कर्नाटक टॉप पर


share & View comments