Saturday, 20 August, 2022
होमदेशलोगों ने नम आंखों से लता मंगेशकार को दी अंतिम विदाई- भाई ने दी मुखाग्नि, शरीर पंचतत्व में विलीन

लोगों ने नम आंखों से लता मंगेशकार को दी अंतिम विदाई- भाई ने दी मुखाग्नि, शरीर पंचतत्व में विलीन

इसके साथ ही स्वर सम्राज्ञी लता जी इस दुनिया से हमेशा के लिए विदा गई. लोगों ने उन्हें नम आंखों से भावभीनी श्रद्धांजलि दी.

Text Size:

नई दिल्ली: भारत रत्न लता मंगेशकर का पार्थिव शरीर शिवाजी पार्क में पंचत्व में विलीन हो गया. भाई हृदयनाथ मंगेशकर ने उन्हें मुखाग्नि दी. इसके साथ ही स्वर सम्राज्ञी लता जी इस दुनिया से हमेशा के लिए विदा गई. लोगों ने उन्हें नम आंखों से भावभीनी श्रद्धांजलि दी. उनको मुखाग्नि 7:15 पर शाम को दी गई.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिवाजी पार्क पहुंचे. उद्धव ठाकरे समेत उन्हें लेने अदित्य ठाकरे, देवेंद्र फडणवीस और राज्यपाल भगत सिहं कोश्यारी पहुंचे. प्रधानमंत्री ने इस दौरान लता जी को फूलों से श्रद्धांजलि दी, नमन किया. इसके बाद उनके परिवार से. इसके बाद मुख्यंत्री उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे लता जी को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी.

इसके बाद राज ठाकरे, सचिन तेंदूलकर, अनुराधा पौडवाल ने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दी. फिल्म के दिग्गज अभिनेता शाहरुख खान ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी. एनसीपी नेता शरद पवार ने भी.

इसके अलावा फिल्म जगत की तमाम शख्शियतों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. बालीवुड अभिनेता रणवीर कपूर भी पहुंचे.

सेना के ताीनों अंग उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के दौरान बूंदूकों से सलामी पेश करके श्रद्धांजलि दी.

इससे पहले लता मंगेशकर का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए बनाए गए एक मंच पर रखा गया. महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे समेत तमाम हस्तियां इस दौरान मौजूद रही हैं. एनसीपी नेता शरद पवार, मंत्री पीयूष गोयल भी अंतिम बेला में उपस्थित थे.

वहीं इससे पहले लता मंगेशकर के पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटा हुआ फूलों से सजे ट्रक से शिवाजी पार्क लाया गया है. सेना का बैंड इस समय शोक धुन बजाता रहा है. इस दौरान उनकी बहन आशा भोंसले, ऊषा मंगेशकर और परिवार के बाकी सदस्य मौजूद रहे.

कहा जाता है कि पिता की मृत्यु के बाद लता मंगेशकर अपने बहनों और भाई की देखभाल के लिए अपना जीवन उन्हीं की देखभाल के लिए समर्पित कर दिया और शादी नहीं की.

इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को पेडर रोड स्थित उनके निवास ‘प्रभुकुंज’ लाया गया था, जहां अमिताभ बच्चन समेत तमाम हस्तियों ने पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

सरकारी सूत्र के मुताबिक लता मंगेशकर की याद में दो दिवसीय राष्ट्रीय शोक मनाया जाएगा. उनके सम्मान के रूप में दो दिनों तक राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा. भारत रत्न लता मंगेशकर का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा.

दोबारा अस्पताल में कराया गया था भर्ती

कोविड से जूझ रहीं लता मंगेशकर की सेहत में सुधार के बाद दोबारा तबीयत बिगड़ने पर उन्हें भर्ती उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी मल्टीपल ऑर्गन फेल्योर से मौत हो गई. वह 92 वर्ष की थीं. उनके निधन पर देश-विदेश से गमजदां शोक संदेशों का आना जारी है.

इससे पतहले बृहन्मुंबई नगर निगम के आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया था कि, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम लगभग 5:45-6:00 बजे अंतिम संस्कार के लिए मैदान में पहुंचेंगे, जिसके बाद लता मंगेशकर जी का अंतिम संस्कार शाम लगभग 6:15-6:30 बजे किया जाएगा.’

प्रधानमंत्री मोदी ने किया याद

पीएम मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा, ‘आज हमारी लता दीदी हमें छोड़कर चली गईं हैं. कल ही बसंत पंचमी का पर्व था और जिनके कंठ से मां सरस्वती का आशीर्वाद हर किसी को मिलता था वो लता दीदी ब्रह्मलोक की यात्रा पर चली गईं. मैं भारी मन से उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.’

सोनिया गांधी, राजनाथ सिंह, अमित शाह ने भी जताया शोक

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर के निधन पर शोक जताया. उन्होंने कहा, ‘आज एक युग का अंत हो गया है. लता जी हमेशा पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्रोत रहेंगी.’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने शोक संदेश में कहा, ‘लता जी अब हमारे बीच नहीं रहीं. उनके योगदान को भारतवासी कभी नहीं भूल सकते. मुझे याद है कि जब भारत रत्न उपाधि से उन्हें नवाजा गया था, उस समय इस फैसले की बहुत प्रसंशा हुई थी कि ये चयन बहुत ही उपयुक्त हुआ है. मैं उनके प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.’

उत्तर प्रदेश के अपने चुनावी दौर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘आज लता जी हमारे बीच नहीं रहीं. पूरे देश और विशेषकर संगीत क्षेत्र के लिए ये अपूरणीय क्षति है. सात दशक तक भारतीय संगीत को वो सजाती और संवारती रहीं. उनकी आवाज़ ईश्वर की देन थी. उनकी आवाज का कोई धर्म, कोई मजहब, कोई सीमा नहीं थी.’ 
उन्होंने कहा, ‘मेरे जीवन के नाजुक पलों में मुझे उन्होंने ढांढस बंधाने का काम किया था. जो शून्य अवकाश हुआ है, लंबे समय तक भारतीय संगीत में उसकी क्षतिपूर्ति होना असंभव है. मैं प्रार्थना करता हूं कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें.’

अमिताभ बच्चन, सचिन तेंदूलकर, जावेद अख्तर ने पहुंच घर

इससे पहले फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन भारत रत्न लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देने के लिए मुंबई स्थित उनके आवास ‘प्रभुकुंज’ पहुंचे.

सचिन तेंदुलकर भी लता मंगेशकर को अंतिम विदाई देने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल पहुंचे थे. दोनों को एक-दूसरे से खास लगाव था.

प्रसिद्ध फ़िल्म लेखक जावेद अख्तर मुंबई में लता मंगेशकर के घर पहुंचे, जहां उन्हें श्रद्धांजलि दी.

नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भारत रत्न लता मंगेशकर के निधन पर शोक व्यक्त किया.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे मुंबई में ब्रीच कैंडी अस्पताल पहुंचे थे.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा, ‘जब तक भारतीय गीत संगीत लोगों का मनोरंजन करेगा तब तक लता दीदी की आवाज़ भी सुनी जाती रहेगी. देश की लगभग हर भाषा में गीत गाकर उन्होंने अपनी आवाज़ के माध्यम से देश को एकता के सूत्र में बांधने का काम किया.’ उन्होंने कहा कि मेरी परमपिता परमात्मा से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें और उनके परिजनों को ये असीम दुख सहने की शक्ति प्रदान करें.

अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ‘लता जी खुद अमर हैं और उनकी ही तरह उनके गाने भी अमर हैं. 80 सालों तक लता जी ने अपने गानों से देश की सेवा की है. लता जी को जितने ख़िताब दिए गए, मुझे लगता है कि उन ख़िताबों ने नहीं बल्कि लता जी ने उन्हें लेकर उन ख़िताबों की शोभा बढ़ाई है.’

संगीतकार एआर रहमान ने कहा, ‘आज का दिन बहुत दुखद दिन है. लता जी सिर्फ एक गायिका या आइकन नहीं थीं, वह भारतीय संगीत, उर्दू कविता, हिंदी कविता और उनके द्वारा गाई जाने वाली कई अन्य भाषाओं का एक हिस्सा हैं. यह शून्यता सदा बनी रहेगी, मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.’

प्रसिद्ध गायक हंसराज हंस ने कहा कि लता मंगेशकर का जाना आंसुओं की बरसात लेकर आया है. हर आंख नम है. मैं बहुत खुशनसीब हूं कि उनके चरण स्पर्श किए. उन्होंने मुझे आशीर्वाद भी दिया. भारत के पास एक स्वर की देवी थीं जिसकी हम आराधना करते थे, वह आज हमसे रूठ गई हैं.

UP फिल्म विकास परिषद के अध्यक्ष और कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव ने कहा कि लता मंगेशकर हमारे बीच नहीं रहीं. वे कहीं नहीं गई हैं. जैसे पेड़-पौधे, सूरज, चांद, गंगा, नदियां, समुद्र हमेशा रहेंगे, वैसे ही लता जी भी हमारे बीच हमेशा रहेंगीं. कल सरस्वती की पूजा थी और आज इस दुनिया की सरस्वती हमें छोड़कर चली गईं.

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि बहुत ही दुख का विषय है कि स्वर कोकिला लता मंगेशकर अब हमारे बीच नहीं रहीं. यह देश और विश्व के लिए बहुत बड़ी क्षति है. फ़िल्म जगत में उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें.

गायक कैलाश खेर ने कहा कि मेरा मानना है कि लता दीदी सिर्फ एक शरीर स्वरूप ही नहीं थीं वे एक दैवीय अवतरण भी थीं. मुझे गर्व है कि हम उस युग में जन्में हैं जिस युग में लता जी जन्मी थीं. संयोग देखिए कि कल बसंत पंचमी थी और आज उनकी विदाई हुई. परमात्मा उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दें.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि आज गायिका लता मंगेशकर का निधन हुआ है इसलिए गोवा में दो दिन का मौन रखा गया है. राज्य के सभी कार्यक्रमों को भी रद्द कर दिया है. प्रधानमंत्री की जो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गोवा में होने वाली रैली थी उसे भी रद्द कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि आज घोषणा पत्र भी जारी होना था उसे भी रद्द कर दिया गया है. चुनाव क्षेत्र में होने वाली छोटे कार्यक्रम उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद जारी रहेंगे. मैं गोवा के लोगों की तरफ़ से लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि अप्रित करता हूं.

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, मोहन भागवत, ओम बिरला ने किया याद

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि भारत रत्न लता मंगेशकर पूरे देश के दिलों में राज करने वाली शख़्सियत थीं, जो आज हमारे बीच से चली गई हैं. इतिहास में उनका नाम अमर हो गया है. आज पूरा देश गमगीन है. मैं उन्हें अपनी श्रंद्धाजलि अर्पित करता हूं.

RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि लता मंगेशकर के निधन से मैं ही नहीं बल्कि पूरे देश के लोगों के मन में जो वेदना व्यक्त हुई है उसको शब्दों में वर्णन करना कठिन है. ईश्वर उनके परिवार को इस दुख को सहन करने का धैर्य प्रदान करें. मैं अपनी और संघ की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि अप्रित करता हूं.

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि कोकिला भारत रत्न लता मंगेशकर जी के निधन पर मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं. उनके गाये गीत लोगों को जोड़ते थे. भाषा के बंधन को तोड़ते हुए उनके गीत विश्व तक पहुंचे. उनका निधन देश के लिए अपूर्णीय क्षति है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें.

फिल्म अभिनेत्री और भाजपा नेता हेमा मालिनी ने कहा कि उनका(लता मंगेशकर) का निधन बहुत दुखदायक है. वे बहुत बड़ी कलाकार थीं. सरस्वती जी का उनके ऊपर पूरा वरदान था. अपने जीवन में उन्होंने कई अच्छे गाने गाये हैं. मेरा सौभाग्य है कि उनके गानों में मुझे काम करने का मौका मिला.

share & View comments