scorecardresearch
Saturday, 23 September, 2023
होमदेशमुख्तार का शूटर संजीव जीवा की लखनऊ कोर्ट में गोली मार कर हत्या, वकील के भेष में पहुंचे थे हत्यारे

मुख्तार का शूटर संजीव जीवा की लखनऊ कोर्ट में गोली मार कर हत्या, वकील के भेष में पहुंचे थे हत्यारे

संजीव माहेश्वरी पर हत्या, रंगदारी, लूट, डकैती, अपहरण, गैंगस्टर जैसी संगीन धाराओं में दो दर्जन मुकदमे दर्ज हैं. विधायक ब्रह्मदत्त द्विवेदी और कृष्णानंद राय हत्याकांड में भी उसका नाम सामने आया था. पुलिस ने एक शूटर विजय यादव को पकड़ा है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के मंत्री ब्रह्मदत्त द्विवेदी के हत्यारे और गैंगस्टर मुख्तार अंसारी का शूटर संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा की गुरुवार को लखनऊ में स्थानीय अदालत परिसर में गोली मार कर हत्या कर दी गई.

मुख्तार अंसारी के करीबी माना जाने वाला मुजफ्फरनगर का ये खूंखार अपराधी जीवा कभी एक कंपाउंडर हुआ करता था.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, हमलावर वकील के भेष में कोर्ट पहुंचे थे और उसने कोर्ट परिसर में जीवा की गोली मार कर हत्या कर दी.

इस दौरान पुलिस ने एक शूटर को गिरफ्तार भी किया है, जिसका नाम विजय यादव बताया जा रहा है.

गोली लगने से जीवा मौके पर ही गिर पड़ा, इस दौरान एक पुलिस अधिकारी भी घायल हुआ है, जिसे लखनऊ के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सहायक पुलिस आयुक्त सुनील कुमार मिश्रा ने कहा कि घटना की खबर मिलने के बाद डीसीपी वेस्ट और डीसीपी सेंट्रल कोर्ट परिसर पहुंचे.

इस दौरान उसने दवाखाना के संचालक को अगवा कर लिया था. इसके बाद 90 के दशक में उसने कोलकाता के एक कारोबारी को गिरफ्तार करने के बाद उससे दो करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी.

अपनी गैंग खड़ी करने की तड़प रखने वाले जीवा ने 10 फरवरी 1997 को बीजेपी के कद्दावर नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी की हत्या कर दी थी. इस मामले में उसे उम्रकैद की सज़ा सुनाई गई थी.

आधुनिक हथियारों के शौकीन मुख्तार अंसारी को जीवा का साथ बहुत पसंद आया, जिससे दोनों साथ काम करने लगे. कृष्णानंद राय हत्याकांड जिसमें मुख्तार को कुछ दिन पहले सज़ा मिली है, में जीवा का नाम भी सामने आया था.

वर्तमान में वे लखनऊ जेल में ही बंद था. हालांकि, उक्त मामले में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा की जा रही है.

इस घटना के बाद लखनऊ में वकीलों के बीच आक्रोश है. वकीलों ने अपनी सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है. मौके पर मौजूद चश्मदीद ने कहा कि हमलावर ने छह गोलियां चलाई थीं. कोर्ट परिसर में चारो ओर खून के घब्बे गिरे हुए हैं. दीवारों पर भी खून के धब्बे हैं. घटना के बाद पुलिस ने वहां से बॉडी को हटाया.

इस घटना के लिए जांच के लिए एसआईटी की तीन सदस्यीय टीम का गठन किया गया है. मौके से पकड़े गए शूटर विजय यादव के घर पुलिस छापेमारी के लिए पहुंच गई है.

संजीव माहेश्वरी पर हत्या, रंगदारी, लूट, डकैती, अपहरण, गैंगस्टर जैसी संगीन धाराओं में दो दर्जन मुकदमे दर्ज हैं. विधायक ब्रह्मदत्त द्विवेदी और कृष्णानंद राय हत्याकांड में भी उसका नाम सामने आया था. जीवा डॉन मुन्ना बजरंगी के काफी करीब माना जाता था.

(शिखा सलारिया के इनपुट्स के साथ)


यह भी पढ़ेंः कांग्रेस के ज्यादा सीटें पाने के बावजूद कैसे 2017 में बृजभूषण ने BJP को गोवा में दिलाई थी सत्ता


 

share & View comments