scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमहेल्थसीरम के CEO ने कहा- कोविशील्ड के निर्यात पर रोक के सरकार के फैसले का सम्मान करते हैं, मार्च-अप्रैल तक अनुमति की उम्मीद

सीरम के CEO ने कहा- कोविशील्ड के निर्यात पर रोक के सरकार के फैसले का सम्मान करते हैं, मार्च-अप्रैल तक अनुमति की उम्मीद

कोविशील्ड को मंजूरी की शर्तों के बारे में पूछे जाने पर पूनावाला ने दिप्रिंट को बताया, ‘(भारत में वैक्सीन की मंजूरी के लिए) शर्त केवल यही है कि हम इसे अभी निजी बाजार में बेच या निर्यात नहीं कर सकते हैं.’

Text Size:

नई दिल्ली: पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के सीईओ अदार पूनावाला का कहना है कि संस्थान को मार्च-अप्रैल तक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका की कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड के निर्यात की अनुमति मिलने की उम्मीद है.

केंद्र सरकार ने मंजूरी की एक शर्त के तौर पर एसआईआई निर्मित वैक्सीन के निर्यात पर रोक लगा रखी है.

कोविशील्ड को मंजूरी की शर्तों के बारे में पूछे जाने पर पूनावाला ने दिप्रिंट को बताया, ‘(भारत में वैक्सीन की मंजूरी के लिए) शर्त केवल यही है कि हम इसे अभी निजी बाजार में बेच या निर्यात नहीं कर सकते हैं.’

उन्होंने कहा कि वह मौजूदा समय में निजी बाजार में वैक्सीन के निर्यात पर रोक के सरकार के फैसले का सम्मान करते हैं और ‘उसके मार्गदर्शन के हिसाब से ही आगे बढ़ना चाहेंगे.’

हालांकि, पूनावाला ने कहा, ‘मुझे यकीन है कि ये पाबंदियां जल्द ही समाप्त हो जाएंगी, जब सबसे जोखिम वाली आबादी का टीकाकरण शुरू हो जाएगा. उम्मीद है कि मार्च-अप्रैल तक हमें इसकी अनुमति मिल जानी चाहिए.’

कंपनी ने सितंबर में बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ अपने सहयोग की घोषणा की थी और वैक्सीन एलायंस गावी को भारत सहित अन्य निम्न और मध्यम आय वाले देशों के लिए वैक्सीन की अतिरिक्त 10 करोड़ खुराक उपलब्ध करानी हैं. हालांकि, सरकारी प्रतिबंध के कारण अन्य देशों को थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है.

भारत के सर्वोच्च औषधि नियामक निकाय, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने रविवार को ही कोविशील्ड के आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दी है.


यह भी पढ़ें: CoWIN क्या है और कोविड वैक्सीन के लिए आपको इस एप पर कैसे रजिस्टर करना होगा


मार्च तक 10 करोड़ खुराक, निजी बाजार के लिए कीमत अधिक

पूनावाला ने बताया कि दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता एसआईआई अभी प्रति माह 6 से 7 करोड़ खुराक का उत्पादन कर रहा है, जो मार्च 2021 तक बढ़कर 10 करोड़ प्रति माह तक हो जाएगा.

पूनावाला ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि वैक्सीन सभी के लिए सस्ती और सुलभ हो. भारत सरकार इसे 200 रुपये प्रति खुराक के बेहद किफायती मूल्य पर ले सकेगी, क्योंकि वे बहुत अधिक मात्रा में खरीदेंगे. निजी बाजार में यह 1,000 रुपये प्रति खुराक पर मिलेगी. हालांकि, यह मार्च-अप्रैल के बाद ही निजी बाजार के लिए उपलब्ध हो पाएगी.’

कंपनी सरकार के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के निर्णायक चरण में है. केंद्र सरकार 1,300 करोड़ रुपये के अनुमानित बजट के साथ पहले चरण में 200 रुपये प्रति खुराक के मूल्य पर तीन करोड़ लाभार्थियों के टीकाकरण के लिए एसआईआई से 6.6 करोड़ खुराक खरीद सकती है. हालांकि, पूनावाला ने कहा कि वह अभी इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं.

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: सेंट्रल विस्टा परियोजना को सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी, निर्माण के दौरान स्मॉग टावर लगाने को कहा


 

share & View comments