Wednesday, 29 June, 2022
होमहेल्थमांडविया ने 'XE' वैरिएंट को लेकर की हाई लेवल बैठक, केजरीवाल बोले- घबराने की जरूरत नहीं हम हर चुनौती के लिए तैयार हैं

मांडविया ने ‘XE’ वैरिएंट को लेकर की हाई लेवल बैठक, केजरीवाल बोले- घबराने की जरूरत नहीं हम हर चुनौती के लिए तैयार हैं

केजरीवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'हम स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए हैं. अभी घबराने की कोई बड़ी वजह नहीं है. हम स्थिति के मुताबिक, सभी जरूरी कदम उठाएंगे.'

Text Size:

नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने अधिकारियों को कोरोनावायरस के नए स्वरूप ‘XE’ पर कड़ी निगरानी और सतर्कता बढ़ाने का निर्देश दिया है.

मांडविया ने ‘XE’ पर देश के प्रमुख विशेषज्ञों की बैठक की अध्यक्षता की. मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे कोविड-19 मरीजों के उपचार के लिए आवश्यक दवाओं की उपलब्धता की लगातार समीक्षा करें. मनसुख मांडविया ने टीकाकरण करने पर भी जोर दिया.

वही दूसरी तरफ दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना मामले पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 की स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए है और फिलहाल घबराने की कोई बड़ी वजह नहीं है.

केजरीवाल ने कहा कि जरूरत पड़ने पर सभी जरूरी कदम उठाए जाएंगे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिल्ली में सोमवार को कोविड महामारी की संक्रमण दर बढ़कर 2.70 फीसदी पहुंच गई जो पिछले दो महीनों में सबसे ज्यादा है. इससे राजधानी में कोविड के फिर से फैलने को लेकर चिंता बढ़ गई है.

दिल्ली में पांच फरवरी को संक्रमण दर 2.87 फीसदी थी.

केजरीवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘हम स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए हैं. अभी घबराने की कोई बड़ी वजह नहीं है. हम स्थिति के मुताबिक, सभी जरूरी कदम उठाएंगे.’

सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली सरकार कोविड की स्थिति पर नज़र रख रही है और जब तक कोरोनावायरस के नए चिंताजनक स्वरूप का पता नहीं चलता, तब तक फिक्र की कोई बात नहीं है.

जैन ने कहा था, ‘दिल्ली में दैनिक मामले 100-200 के बीच आ रहे हैं. हम अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीज़ों पर नज़र रख रहे हैं, और इनकी संख्या कम हो रही है. फिलहाल संक्रमण दर पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए.’


यह भी पढ़े: ‘राम-काज किन्हें बिना, मोहे कहां विश्राम‘ भूपेश बघेल बोले- हमारे महापुरूषों ने समाज के सभी वर्गों को जोड़ने का काम किया


share & View comments