scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमहेल्थअमेरिका में बर्ड फ्लू का प्रकोप: क्या है H5N1 एवियन इन्फ्लूएंजा और क्या भारत को चिंतित होना चाहिए

अमेरिका में बर्ड फ्लू का प्रकोप: क्या है H5N1 एवियन इन्फ्लूएंजा और क्या भारत को चिंतित होना चाहिए

टेक्सास में एक मरीज के जीनोम सीक्वेंसिंग से पता चला कि फ्लू अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लूएंजा ए के कारण हुआ था. विशेषज्ञों का कहना है कि अभी भविष्यवाणी करना जल्दबाजी होगी लेकिन सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है.

Text Size:

नई दिल्ली: एवियन फ्लू का प्रकोप जिसने कम से कम छह अमेरिकी राज्यों में कुछ खास डेयरी गायों और टेक्सास में एक फार्मवर्कर को संक्रमित किया है, चिकित्सा जगत में चिंता का कारण बन गया है, कुछ वैश्विक विशेषज्ञों ने भी चिंता जताई है कि यह “‘कोविड-19 से भी 100 गुना खतरनाक है और तेजी से बढ़कर” महामारी का रूप ले सकता है.

यूएस सेंटर फॉर डिज़ीज कंट्रोल (सीडीसी) के अनुसार, जिसने टेक्सास में रोगी से एकत्र किए गए नमूने से वायरस जीनोम की सीक्वेंसिंग की, उसके मुताबिक फ्लू अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लूएंजा ए (एच5एन1) के कारण हुआ था जो कि मवेशियों, जंगली पक्षियों और मुर्गों को संक्रमित करने वाले एचपीएआई ए (H5N1) वायरस के समान है.

सीडीसी के अनुसार, टेक्सास का मरीज अमेरिका में इस वायरस का दूसरा मामला था. एजेंसी ने अपनी वेबसाइट पर कहा है कि पहला मामला 2022 का है जब कोलोराडो में एक व्यक्ति को पोल्ट्री के संपर्क में आने के बाद संक्रमित माना गया था.

एवियन फ्लू क्या है और क्या चिंता करने की जरूरत है? हम यहां वह सब कुछ बता रहे हैं जो आपको एवियन फ्लू के बारे में जानने की जरूरत है.

एवियन फ्लू क्या है?

सीडीसी एवियन इन्फ्लूएंजा या बर्ड फ्लू को “एवियन (पक्षी) इन्फ्लूएंजा (फ्लू) टाइप ए वायरस के संक्रमण के कारण होने वाली बीमारी” के रूप में परिभाषित करता है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

वेबसाइट कहती है, “ये वायरस स्वाभाविक रूप से दुनिया भर में जंगली जलीय पक्षियों में फैलते हैं और घरेलू पोल्ट्री और अन्य पक्षी व पशु प्रजातियों को संक्रमित कर सकते हैं. ये पैथोजन या वायरस आम तौर पर मनुष्यों को संक्रमित नहीं करते हैं. हालांकि, बर्ड फ़्लू वायरस से छिटपुट मानव संक्रमण हुआ है.”

वेल्लोर के क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज (सीएमसी) में गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग से जुड़े वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट गगनदीप कांग के अनुसार, H5N1 शायद ही कभी मनुष्यों में फैलते हैं. हालांकि, यदि वे फैलते हैं, तो इसकी गंभीरता व्यापक रूप से भिन्न हो सकती है – हल्के कंजंक्टिवाइटिस से लेकर मृत्यु तक.

भारत में H5N1 संक्रमण का एकमात्र मामला 2021 में दर्ज किया गया था जब हरियाणा के एक 18 वर्षीय व्यक्ति की संक्रमण से मृत्यु हो गई थी. हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि दर्ज किए गए कम मामलों का कारण यह हो सकता है कि उचित निगरानी का अभाव हो.


यह भी पढ़ेंः भारत के अस्पतालों में सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाले एंटीबायोटिक्स में Ceftriaxone शामिल 


उन्होंने कहा, “भारत में इन्फ्लूएंजा के प्रकारों की पहचान और रिपोर्टिंग बहुत सीमित है, इसलिए हमें (एवियन फ्लू संक्रमण की वास्तविक संख्या के बारे में) पता नहीं चल सकता है.”

जीवविज्ञानी और जीनोम वैज्ञानिक डॉ. विनोद स्कारिया के अनुसार, जबकि बर्ड फ्लू कोई नई बीमारी नहीं है, H5N1 का एक उभरता हुआ नया वैरिएंट – 2.3.4.4b – 2020 के अंत से दुनिया भर में फैल रहा है, जो मुख्य रूप से कुछ मार्गों का अनुसरण करने वाले प्रवासी पक्षियों द्वारा किया जाता है.

आईआईटी कानपुर से जुड़े और विश्वनाथ कैंसर केयर फाउंडेशन के वरिष्ठ सलाहकार स्कारिया ने कहा, “हालांकि, नवीनतम पैनज़ुऑटिक (पशुओं का पैंडेमिक या महामारी) बहुत बड़ा है और पारिस्थितिकी के लिए विनाशकारी परिणामों और दुनिया भर में पोल्ट्री को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण आर्थिक नुकसान के साथ पक्षियों की आबादी पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है.”

लेकिन कुछ मामलों में वायरस पक्षियों से स्तनधारियों में फैल सकता है. हाल के वर्षों में ऐसे कई मामले देखे गए हैं – सबसे हालिया अंटार्कटिका में ध्रुवीय भालू का मामला है.

उन्होंने कहा, “संक्रमित जानवरों के साथ निकट संपर्क का मतलब यह हो सकता है कि वायरस मनुष्यों में फैल सकता है. इसमें मृत्यु दर काफी होती है – 50 प्रतिशत से भी अधिक.”

H5N1 का नवीनतम प्रकोप पहली बार पिछले महीने के अंत में देखने को मिला था. पहले इसे एक रहस्यमय बीमारी करार दिया गया, लेकिन बाद में अमेरिकी कृषि विभाग (यूएसडीए) द्वारा टेक्सास और कंसास राज्यों में डेयरी पशुओं में फैलने वाले अत्यधिक रोगजनक स्ट्रेन के रूप में इसकी पहचान की गई.

संक्रमित जानवरों में भूख न लगना, हल्का बुखार और महिलाओं के स्तनों में दूध की कमी का पाया जाना जैसे लक्षण दिखाई दिए. स्कारिया के अनुसार, यह पहली बार था कि मवेशियों में H5N1 पाया गया था, जिससे इनके फैलने के संभावित तरीकों और डेयरी व मांस उद्योग पर व्यापक प्रभाव के बारे में चिंताएं बढ़ गईं.

क्या भारत को चिंतित होना चाहिए? स्कारिया कहते हैं, “हां और नहीं”. “हां, क्योंकि पक्षियों की आबादी में इसका प्रकोप काफी बड़ा और व्यापक है और संभवतः इसके परिणामस्वरूप कई प्रजातियां विलुप्त हो गई हैं. और नहीं, क्योंकि मनुष्यों में व्यापक संक्रमण का अभी तक कोई सबूत नहीं है.”

इस बीच, कांग ने कहा कि भारत में पक्षियों के बीच H5N1 का प्रकोप हुआ है, लेकिन यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि वायरस प्रवासी पक्षियों या किसी अन्य तंत्र के माध्यम से प्रसारित हुआ था.

हालांकि, उन्होंने कहा कि अमेरिका की तरह, भारत को एवियन फ्लू पर निगरानी रखनी चाहिए, खासकर जब से यह उम्मीद की जाती है कि H7N9 – इन्फ्लूएंजा ए वायरस का एक और उपप्रकार – मनुष्यों में प्रकोप का कारण बन सकता है.

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, “वास्तव में, इसके परिणामस्वरूप पहले ही छोटे-छोटे प्रकोप हो चुके हैं, मुख्य रूप से दक्षिण-पूर्व एशिया और चीन में, लेकिन उत्परिवर्तन जो मनुष्यों में फैलने की इसकी क्षमता को बढ़ाते हैं, इसे एक महामारी में बदल सकते हैं.”

निगरानी, विशिष्ट टीकों की आवश्यकता

अशोका यूनिवर्सिटी के त्रिवेदी स्कूल ऑफ बायोसाइंसेज में बायोसाइंसेज और स्वास्थ्य अनुसंधान के डीन डॉ. अनुराग अग्रवाल के अनुसार, H5N1 के बारे में अभी चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. हालांकि, जीवविज्ञानी मध्यम से गंभीर स्तर के श्वसन से जुड़े संक्रमण की पहचान करने, कई ज्ञात पैथोजन्स के परीक्षण और अज्ञात मामलों की विस्तृत जांच करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी एकीकृत श्वसन निगरानी प्रणाली की सिफारिश करते हैं.

ऐसी ही एक एकीकृत प्रणाली वन हेल्थ के लिए किया जाने वाला वैश्विक प्रयास है जो कि स्वास्थ्य परिणामों को अनुकूलित करने और कोविड ​-19 महामारी जैसे वैश्विक स्वास्थ्य खतरों को रोकने, भविष्यवाणी करने और प्रतिक्रिया देने के लिए एक प्रस्तावित एकीकृत दृष्टिकोण है.

उन्होंने कहा, “मेरा मानना ​​है कि भारत सहित विश्व स्तर पर, हम पहले से ही इस ओर बढ़ रहे हैं. महामारियां आती रहेंगी. जब तक हम पर्याप्त रूप से तैयार हैं, मनुष्यों का नुकसान कम से कम होगा,”.

विशेषज्ञ भविष्य के किसी भी जोखिम को कम करने में मदद के लिए टीके विकसित करने के वैश्विक प्रयासों पर भी जोर देते हैं. हालांकि, कांग को चिंता है कि भारत में, इन्फ्लूएंजा के टीके बहुत कम मायने रखते हैं क्योंकि वहां की इंटरनल मार्केट छोटी है.

कांग ने कहा, “यह अधिक चिंता का विषय है क्योंकि अंडों के जरिए वैक्सीन को बनाने में वक्त लगता है.”

वह फ्लू के टीके बनाने के सबसे आम तरीके का जिक्र कर रही थीं – अंडे पर आधारित विनिर्माण प्रक्रिया का उपयोग करना जिसके माध्यम से स्वास्थ्य एजेंसियां ​​निजी क्षेत्र के निर्माताओं को चिकन के अंडे में विकसित वैक्सीन वायरस प्रदान करती हैं.

फिर इन वैक्सीन वायरस को फर्टिलाइज्ड चिकन अंडों में इंजेक्ट किया जाता है और कई दिनों तक इनक्यूबेट किया जाता है ताकि वायरस को रेप्लीकेट करने का अवसर न मिल सके. इस उत्पादन विधि के लिए बड़ी संख्या में मुर्गी के अंडे की आवश्यकता होती है और अन्य उत्पादन विधियों की तुलना में इसमें अधिक समय लग सकता है.

लेकिन यह टीके बनाने का एकमात्र तरीका नहीं है. कांग के अनुसार, सेल लाइनों में टीके बनाने के लिए – जब टीके बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले वायरस स्तनधारी सेल कल्चर में बनाए जाते हैं – या प्रोटीन-आधारित, या एमआरएनए टीके (जैसे फाइजर और मॉडर्न कोविड वाले) जैसी अन्य तकनीकों का उपयोग करने के लिए मौजूदा प्लेटफार्मों की आवश्यकता होती है और पर आसानी से स्विच किया जा सकता है.

(संपादनः शिव पाण्डेय)
(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ेंः सरकार ने माना कि हेल्थ सप्लीमेंट्स पर नियम पर्याप्त नहीं हैं, फ्रेमवर्क के लिए बनाया हाई-लेवल पैनल 


 

share & View comments