Sunday, 3 July, 2022
होमशासनपहले नौकरी का वादा फिर 40-50 मर्दों द्वारा सामूहिक बलात्कार: हरियाणा की रेप पीड़िता की दर्दनाक कहानी

पहले नौकरी का वादा फिर 40-50 मर्दों द्वारा सामूहिक बलात्कार: हरियाणा की रेप पीड़िता की दर्दनाक कहानी

Text Size:

कथित तौर पर नौकरी के वादे के बाद महिला को कैद करके रखने वाले एक व्यक्ति समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

चंडीगढ़: चंडीगढ़ की एक 22 वर्षीय विवाहित महिला के साथ 40-50 पुरुषों ने कथित रूप से बलात्कार किया जैसा कि उसे हरियाणा के मोर्नी हिल्स के पास एक गाँव, जो कि एक पर्यटन स्थल है, में एक गेस्ट हाउस में चार दिनों तक कैद करके रखा गया था। महिला के मुताबिक उसे लगातार नशे में रखा गया था।

महिला और उनके पति पंचकुला में जिस महिला थाने में सबसे पहले पहुंचे वहाँ उन्हें पुलिसकर्मी द्वारा कथित तौर पर “वेश्या” भी कहा गया।

चंडीगढ़ में गुरुवार रात एक केस दायर होने के बाद गेस्ट हाउस चलाने वाले दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि पुलिस ने दावों की जांच जारी रखी है कि वहाँ कुछ और महिलाएं भी थीं जिनके साथ भी ऐसा ही हुआ था। गिरफ्तार किए गए लोगों में से एक है सन्नी , जो कैंबवाला गाँव में किराए पर ली गयी जगह पर लवली गेस्ट हाउस चलाता है और दूसरा है अवतार, जो कि कर्मचारी है।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि सनी, जिसे उनके पति जानते थे, ने उन्हें 12,000 प्रति माह पर गेस्ट हाउस में एक आया की नौकरी दिलाने का वादा किया था। लेकिन जब वह 15 जुलाई को काम शुरू करने के लिए उसके साथ गयीं तो उन्हें कमरे में बंद कर दिया गया और सन्नी, अवतार एवं अन्य कर्मचारियों समेत 10-12 लोगों द्वारा बार-बार बलात्कार किया गया।

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दम्पति का दावा है कि महिला के पति, जो पिछले तीन दिनों तक अपनी पत्नी से नहीं मिल पाया था, द्वारा सन्नी को बुलाने और पुलिस में जाने की धमकी देने के बाद अंततः 18 जुलाई की रात को महिला को छोड़ दिया गया।

हालाँकि, महिला की अग्नि परीक्षा यहीं समाप्त नहीं हुई थी। जब दम्पति गुरुवार को पंचकुला में महिलाओं के लिए एक विशेष पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराने के लिए गए तो कोई भी कार्यवाही नहीं की गयी और उन्हें चंडीगढ़ पुलिस के पास जाने की सलाह दी गयी। उस रात चंडीगढ़ पुलिस से संपर्क करने के बाद मामला पंजीकृत कर लिया गया।

‘प्रशासन का लचर रवैया’

हाल ही में भारत की ‘गैंग रेप’ राजधानी के रूप में कुख्यात हरियाणा, देश के किसी अन्य हिस्से की तुलना में अधिक उदाहरण रिकॉर्ड कर रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने महिलाओं के खिलाफ अपराध पर कड़ी कार्रवाई का वादा किया है, लेकिन पंचकुला में महिला पुलिस स्टेशन में एक जोड़े का कथित अनुभव इस व्याकुलता के प्रति जारी प्रशासनिक उदासीनता की ओर इशारा करता है।

पंचकुला की पुलिस आयुक्त, इंस्पेक्टर जनरल (आईजी) चारू बाली ने बताया कि पुलिस स्टेशन की सहायक महिला उप निरीक्षक (एएसआई), जिन पर सवालिया निशान थे, को निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस प्रभाव के लिए निर्देशों के बावजूद स्थानीय गेस्ट हाउसों की जाँच करने में नाकाम रहने के कारण रामगढ़ और मोर्नी में पुलिस पोस्टों के प्रभारियों को भी निलंबित कर दिया गया है।

हालांकि, महिला पुलिस स्टेशन की एसएचओ या पंचकुला की सहायक पुलिस आयुक्त के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है, जिन दोनों को सहायक उप निरीक्षक द्वारा पीड़िता की शिकायत के बारे में सूचित किया गया था।

शुक्रवार की शाम को पंचकुला पुलिस द्वारा इस मामले को अपने हाथ में लेने के बाद मामले की जाँच के लिए बाली ने एक विशेष जाँच दल (एसआईटी) का गठन किया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अंशू सिंगला एसआईटी का नेतृत्व करेंगी।

वह फौरन वापस लौटना चाहती थी’

शुक्रवार की दोपहर एक पुलिस स्टेशन के बाहर मीडिया से बात करते हुए, पीड़िता के पति, जो कि एक दर्जी हैं, ने बताया कि गेस्ट हाउस पहुँचते ही उसने वापस लौटने की इच्छा व्यक्त की थी, लेकिन उसके बाद उससे संपर्क नहीं हो पाया।

उन्होंने कहा, “जब मैंने उसे उस दिन (15 जुलाई को) कॉल किया, तो उसने कहा कि वह ठीक नहीं है और वापस लौटना चाहती है। उसने कहा कि वह दुखी है और यहाँ पर काम नहीं करेगी।”

उनके अनुसार, बाद में जब उनकी पत्नी से संपर्क करने के प्रयास विफल रहे, तो उन्होंने सन्नी को फोन करना शुरू कर दिया।

उन्होंने कहा, “सन्नी मुझे बताता रहा कि वह अंबाला में है। कभी-कभी उसने फोन नहीं उठाया। एक बार उसने कहा कि मैं अपनी पत्नी को कभी देख नहीं सकूँगा।”

पति ने आगे कहा, “आखिरकार, जब मैंने 18 जुलाई को उसे धमकी दी कि मैं पुलिस के पास जा रहा हूँ, तो वह मेरी पत्नी को जाने देने के लिए राजी हो गया। उसने उसे बस में बिठाया और पंचकुला से उसे लेने के लिए मुझे फोन किया।

दो पुलिसकर्मी भी रेपिस्ट

इस सब के दौरान, उनकी पत्नी एक डरावने सपने में जी रही थी। पीड़िता ने अपने पति और पुलिस को बताया कि गेस्ट हाउस, जो ऐसा लगता था कि इसका उपयोग संदेहपूर्ण गतिविधियों के लिए किया जाता था, में पहुंचने के तुरंत बाद उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया गया।

कथित तौर पर उनके भोजन में बेहोशी की दवा मिलाई गई थी और “उनका बलात्कार करने के लिए” हर दिन 10-12 पुरुष उनके कमरे में भेजे जाते थे। उन्होंने बताया कि जिस दिन वह गेस्ट हाउस पहुँचीं तो सन्नी, अवतार तथा स्टाफ के अन्य कर्मचारियों ने और बाद के दिनों में अन्य लोगों ने उनके साथ बलात्कार किया।

पीड़िता के पति ने कहा, “एक दिन जब मेरी पत्नी ने सन्नी को बताया कि वह इस मामले की सूचना पुलिस को देगी तो सन्नी सादे कपडों में दो लोगों को लाया और बताया कि ये हरियाणा के पुलिसकर्मी हैं। उसने कहा कि पुलिस विभाग में उसके मित्र हैं और कोई भी उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगा। तब उन दो लोगों ने भी उसके साथ बलात्कार किया।”

जब सन्नी ने पीड़िता के पति से कहा कि वह उसे जाने देगा तब पति ने 100 नंबर डायल किया लेकिन उन्हें कथित तौर पर कहा गया कि जब तक महिला पंचकुला न पहुँच जाए तब तक कुछ नहीं किया जा सकता।

पति ने बताया, “जब वह पहुँची, तो उसकी हालत बहुत खराब थी। तुरंत उसने बताया कि उसकी हालत ठीक नहीं है और अस्पताल जाने की जरूरत है। आनन-फानन में हम लोग पंचकुला के सरकारी अस्पताल पहुँचे। हमने फिर से 100 नंबर को कॉल किया और इस बार हम लोगों से महिला पुलिस स्टेशन जाने को कहा गया।”

पुलिस स्टेशन पर एएसआई ने दम्पति से मुलाकात की और कथित तौर पर, शिकायत की असली नहीं बल्कि फोटोस्टेट प्रतिलिपि देने के लिए कहा।

पति ने बताया, “हम लोगों को बताया गया कि कार्यवाई के लिए हमें चंडीगढ़ पुलिस स्टेशन से संपर्क करना चाहिए। यह सब करने में हम लोगों का काफी समय बर्बाद हुआ।”

चंड़ीगढ़ पुलिस स्टेशन में, एसएचओ रंजीत सिंह ने पीड़िता की मेडिकल जाँच करवाई और कुरूक्षेत्र के सुनील उर्फ सनी को तथा उत्तर प्रदेश के झाँसी के रहने वाले अवतार को गिरफ्तार कर लिया गया।

चंड़ीगढ़ के उप पुलिस अधीक्षक सतीश कुमार ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट से बलात्कार की पुष्टि हुई है।

बाली ने बताया कि पीड़िता खराब हालत में थी। उन्होंने बताया, “डॉक्टरों और सलाहकारों की एक टीम ने शुक्रवार को दिन भर उनसे बात की। हम उनके द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर कड़ी से कड़ी जोड़ रहे हैं। लेकिन हम इस स्थिति में पीड़िता पर ज्यादा जोर नहीं डाल सकते। पहली प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि वह ठीक हो जाएँ।”

जाँच जारी है

गेस्ट हाउस में एक सर्च ऑपरेशन किया गया इस ऑपरेशन में पुलिस को कथित तौर पर खाली शराब की बोतलें, उपयोग किए गए कंडोम और वियाग्रा गोली के खाली पैकट मिले। तबसे गेस्ट हाउस को सील कर दिया गया है। पुलिस ने गेस्ट हाउस के गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज भी कब्जे में ले लिये हैं।

पीड़िता के पति का कहना है कि उनकी पत्नी ने दावा किया है, “गेस्ट हाउस के दूसरे कमरों में और भी औरतें थी। और भी लड़कियों को वहाँ लाया गया था और उनको भी इसी तरह से इस्तेमाल किया जाता था।”

पुलिस के अनुसार, सनी ने गेस्ट हाउस किराए पर लिया था और यह संपत्ति कुछ ही महीने पहले से उपयोग में लायी जा रही थी।

पंचकुला के पुलिस उपायुक्त राजेन्द्र मीना ने कहा कि पुलिस कर्मियों को मोर्नी हिल क्षेत्र में स्थित गेस्ट हाउसों की नियमित जाँच करने के आदेश थे।

उन्होंने कहा कि “इन गेस्ट हाउसों को पंजीकृत करने और इन्हें उपयोग करने वालों का एक रजिस्टर बनाने की आवश्यकता है।” अपनी बात जारी रखते हुए उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस कर्मियों सहित लापरवाह पाए गए किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कार्यवाई की जाएगी।

Read in English : Woman ‘gang-raped by 40-50 men’ in Haryana was ‘called prostitute’ by police

share & View comments