scorecardresearch
Saturday, 25 May, 2024
होमशासनसामूहिक बलात्कार की शिकार बकरी का पोस्ट मॉर्टम: योनि में मानव वीर्य, सर पर चोटें

सामूहिक बलात्कार की शिकार बकरी का पोस्ट मॉर्टम: योनि में मानव वीर्य, सर पर चोटें

Text Size:

डॉक्टर जिसने बकरी का परीक्षण किया, का कहना है कि बकरी उत्पीड़न से मरी। उन्होंने यह भी कहा की उन सभी आठ मुल्जिमों ने बकरी यौन शोषण नहीं किया।

नई दिल्ली: हरियाणा के नूह जिले के मरोड़ा गाँव में तथाकथित तौर पर आठ पुरुषों द्वारा बलात्कार की शिकार हुई बकरी के शरीर में मानव वीर्य पाया गया है, पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट ने ऐसा दर्शाया।

“कुछ वीर्य जैसा बहाव बकरी की योनि से पाया गया है, जिससे यह सिद्ध होता है कि बकरी का यौन शोषण किसी मानव द्वारा ही किया गया था। हालाँकि हमने योनि से सैंपल ले लिए हैं और फॉरेंसिक को आगे के परीक्षण के लिए भेज दिया है। यह पूरी तरह से एक दरिंदगी भरा मामला है”, डॉक्टर रामवीर भारद्वाज जो नगीना में पशु चिकित्सा सर्जन हैं, ने कहा। इन्होंने ही बकरी का पोस्ट मॉर्टम भी किया था।

मामले ने तूल 25 जुलाई को पकड़ी जब असलूप खान, एक डेयरी किसान जो अपनी खोई हुई बकरी को तलाश रहा था ने आठ आदमियों को उसका यौन शोषण एक अँधेर और वीरान माकन में करते हुए देखा। जब उन्होंने शोर मचाया, तब ये आदमी वह से कथित तौर पर भाग गए, और बकरी को वहीँ छोड़ दिया। पशु की अगले दिन ही मौत हो गयी।

असलूप की शिकायत पर , पुलिस ने आठ आदमियों के खिलाफ एक सात साल की 50 दिनों की गर्भवती बकरी का कथित तौर पर बलात्कार करने का मामला दर्ज कर लिया है, जिनमें से तीन की पहचान भी हो गयी है। भारतीय दंड संहिता की धारा 377 और पशुओं के प्रति क्रूरता एक्ट के तहत यह मामला, नगीना पुलिस थाना, नूह या जिसे पहले मेवात के नाम से जाना जाता था, में दर्ज किया गया है। धारा 377 “आदमी, औरत या जानवरों के साथ अप्राकृतिक यौन सम्बन्ध” को वर्जित करती है।

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पुलिस ने अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है।

एसपी पुलिस, नूह, नाज़नीन भसीन ने कहा “जांच फिलहाल चल रही है। हमने गवाहों के बयान और उन आदमियों की तलाश कर रहे हैं जो बचकर भाग रहे हैं”|

ज़ख्म और सर पर चोटें

पोस्ट मॉर्टम की रिपोर्ट, जिसकी एक विज्ञप्ति दिप्रिंट के पास उपलब्ध है, कहती है बकरी के माथे और बाईं आँख पर गंभीर ज़ख्म दिखाई पड़ रहे हैं, और बकरी की मृत्यु सर पर आई चोटें और तड़पने की वजह से हुई, जिससे ऐसा लगता है कि यौन उत्पीड़न से पहले बकरी को पीटा गया था।

डॉक्टर के अनुसार, बकरी कथित तौर पर सदमे में थी और उसने जवाब देना बंद कर दिया, हालाँकि उसकी सांसें चल रही थीं।

“सदमे और सर पर आई चोटों की वजह से उस पशु की मौत हो गयी। उन चोटों से शायद उसका दम घुट गया हो और बंद दिमाग के चलते, उसकी धड़कनें रुक गयी हों। चोटों को देखर ऐसा लगता है पशु को बहुत बुरी तरह पीटा गया था”, डॉक्टर भारद्वाज ने बताया।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट | अनन्या भरद्वाज दिप्रिंट

“क्योंकि बकरी की योनि में कोई चोट के निशान नहीं थे, ऐसा कह पाना मुश्किल है कि उन आठ आदमियों ने उसका योन शोषण किया होगा”, डॉक्टर ने कहा।

“मैंने अपने पूरे करियर में ऐसा केस कभी नहीं देखा”, भारद्वाज ने आगे कहा।

करतूत में पकड़े गए आदमी

एफआईआर में, सावकर, हारून और जफर का नाम है जो तथाकथित तौर पर बकरी का शोषण करते हुए पकडे गए थे और भीड़ इकट्ठी होते देख भाग गए थे।

“कुछ आदमियों ने कहा कि उन्होंने सावकर और उसके दोस्तों को मेरी बकरी को एक वीरान घर में ले जाते हुए देखा। जब मैं वहां पहुंचा, मैंने इनको रंगे हाथों पकड़ा। वे सभी हंस रहे थे और मेरी बकरी को उत्पीड़ित कर रहे थे। मैंने उनको खींचा और पीटा भी, पर वे सब भागने में सफल हुए। उनके शरीर के निचले हिस्से पर बकरी के बाल और इसे सबने देखा। यह सबूत काफी हैं यह सिद्ध करने के लिए कि बकरी का शोषण हुआ था”, असलूप ने कहा।

“शोषण के बाद, बकरी ने खाना बंद कर दिया, और कोई प्रतिक्रिया भी नहीं दे पा रही थी, और अगले दिन ही वह मर गयी”

असलूप ने यह भी आरोप लगाया कि ये तीन आदमी अक्सर औरतों को छेड़ते हैं और हथियार खरीद फरोख्त और जुएबाजी जैसे गैर कानूनी काम भी करते हैं।

वो जगह जहां बकरी का शोषण किया गया था । अनन्या भरद्वाज दिप्रिंट

पुलिस ने भगोड़ों को पकड़ने के लिए दस्ता तैयार कर लिया है, और हर संभव स्थान पर रेड कर रही है। “वे आदमी भाग चुके हैं और अपने फोन साथ में नहीं लेकर गए, जिससे हम उनकी लोकेशन नहीं छान पा रहे। जब भी हम उनके घर जाते हैं हमें वहां कोई मर्द नज़र नहीं आते। वहां की औरतें भी हमें घर के अंदर नहीं आने देतीं”, एक जांचकर्ता ने कहा।

हम स्थानीय इंटेलिजेंस बना रहे हैं ताकि उनको गिरफ्तार किया जा सके”,उन्होंने आगे बताया।

पिछले सामान मामले

ऐसा पहली बार नहीं है कि किसी व्यक्ति को धारा 377 के तहत गिरफ्तार किया गया हो। पिछले 11 महीनों में ऐसे लगभग 2 मामले पूरे देश में दर्ज किये जा चुके हैं।

सितम्बर 2017 में ही, एक 41 वर्षीय आदमी को कथित तौर पर एक कुत्ते का बलात्कार करने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया गया था। सीसीटीवी फुटेज के अनुसार, वह आदमी, उस कुत्ते को वाशरूम में ले गया था।

उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के सतपुली कसबे में एक और आदमी ने अगस्त 2017 में एक बछड़े का कथित तौर पर यौन शोषण किया था।

Read in English : Gangraped goat’s autopsy finds human semen in vulva and brain injury

share & View comments