scorecardresearch
Tuesday, 23 April, 2024
होमफीचरबठिंडा किले ने सिख इतिहास और सल्तनत के 1,600 साल देखे, लेकिन ASI इस विरासत को संजोने के लिए संघर्षरत

बठिंडा किले ने सिख इतिहास और सल्तनत के 1,600 साल देखे, लेकिन ASI इस विरासत को संजोने के लिए संघर्षरत

दीवारों को कम से कम सात अलग-अलग प्रकार की ईंटों से तराशा गया है, जो भारत के इतिहास के विभिन्न कालखंडों की गवाही देती हैं. प्रत्येक राजा ने विजेता ने बाद किले पर अपनी छाप छोड़ी है.

Text Size:

बठिंडा/पंजाब: बठिंडा किला चहल-पहल से गुलज़ार है. जैसा कि हर दिन हज़ारों पर्यटक यहां घूमने आते हैं साइट, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के 30 से 40 लोगों की एक विशेष टीम ने आखिरकार क्षतिग्रस्त हिस्सों की मरम्मत शुरू कर दी है और भारत के सबसे पुराने जीवित किले के नाजुक हिस्सों को मजबूत बनाना शुरू कर दिया है.

फोर्ट को किला मुबारक के नाम से भी जाना जाता है, यह शांत और प्राचीन किला कम से कम 1,600 वर्षों से विजेताओं की हार-जीत का सामना कर रहा है. किला 15 एकड़ में फैली विशाल बठिंडा बाजार की टेढ़ी-मेढ़ी गलियों से बिल्कुल उलट है. 100 फीट से अधिक ऊंची यह इमारत पंजाब के लोगों के दिल में शान से खड़ी है.

हालांकि, बठिंडा किले की विरासत को बनाए रखना एक चुनौती है.

किले का निर्माण मिट्टी की ईंटों से किया गया था. पिछले कुछ वर्षों में किले के कई बुर्ज ढह गए हैं. कोविड महामारी के कारण दो साल से मरम्मत नहीं होने से इसकी स्थिति और बिगड़ गई है. एएसआई अधिकारियों के मुताबिक, किले का एक मुख्य गढ़ 2022 में आंशिक रूप से टूट कर गिर गया था.

यहां साल भर पर्यटकों का स्थिर प्रवाह भी एक चुनौती है. बठिंडा किले में औसतन हर दिन 4,000 से 5,000 से अधिक पर्यटक घूमने आते हैं और वीकेंड में यह संख्या 10,000 तक पहुंच जाती है. इसमें गुरुद्वारा किला मुबारक भी है, जिसे 19वीं शताब्दी की शुरुआत में सिखों के अंतिम गुरु, गुरु गोबिंद सिंह की यात्रा को चिह्नित करने के लिए बनाया गया था. गुरुपर्व और अन्य पवित्र दिनों में, यहां तक कि कभी -कभी यहां लोगों की संख्या एक लाख तक पहुंच जाती है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

किला मुबारक को देखने के लिए कोई टिकट खरीदने की ज़रूरत नहीं पड़ती और अधिकांश अन्य ऐतिहासिक स्थलों के विपरीत, यह रात 9 बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है. इसके अलावा धार्मिक लोगों के लिए यहां एक प्रमुख गुरुद्वारा भी है.

इस किले की देखरेख करने वाले एएसआई के एक सदस्य गुरदीप सिंह बताते हैं, “इतिहास के शौकीन और पर्यटकों के लिए किला प्राचीन भारत को मध्यकालीन भारत से जोड़ता है और बठिंडा के सैकड़ों निवासियों के लिए, ढलते सूरज को देखने के लिए यह एक शानदार जगह है.”

किले के आसपास की तंग गलियों में बसी दुकानें यहां के मालिकों के लिए यह आय का जरिया है.

बठिंडा बाज़ार में एक खिलौने की दुकान के मालिक विजय गोयल कहते हैं, “बाजार को इससे लाभ होता है. जब हम छोटे बच्चे थे, तो हमारे माता-पिता हमें हर रविवार को किला घुमाने लाते थे.”

दिल्ली सल्तनत की पहली महिला शासक रजिया सुल्तान को किला मुबारक में कैद किया जाना और पृथ्वीराज चौहान द्वारा मुहम्मद गोरी से किले का नियंत्रण हासिल करने जैसी कहानियां इसके आकर्षण को और बढ़ाती हैं.


यह भी पढ़ेंः फिर से खोदा जा रहा है पुराना किला, इस बार ‘महाभारत काल’ तक पहुंचने का है ASI का लक्ष्य


प्राचीन से मध्यकालीन इतिहास का साक्षी

पिछले साल जो गढ़ टूटा था उसमें रानी महल था – एक कमरा जहां रजिया सुल्तान को बंदी बनाकर रखा गया था. यह वर्तमान में पर्यटकों के लिए बंद है और इसकी मरम्मत शुरू हो गई है. टीम पतली टाइल वाली ईंटों का उपयोग कर रही है और उन्हें चूने और गारे के मिश्रण से जोड़ रही है क्योंकि ऐसी संरचनाओं के संरक्षण में सीमेंट का उपयोग नहीं किया जाता है.

भारत के अन्य किलों के विपरीत, बठिंडा किला, जिसे माना जाता है कि राजा डाब (90-110 ईस्वी) द्वारा बनाया गया था इसका लेआउट बहुत ही मामूली है जो इसकी प्राचीनता की ओर इशारा करता है. यह एक पहाड़ी की चोटी पर नहीं बल्कि ऊंचे मैदान में तन के खड़ा है, जिसके चारों कोनों पर 32 छोटे और चार बड़े बुर्ज हैं.

गुरदीप सिंह ने कहा, “पूर्वी मुख पर किले का केवल एक प्रवेश द्वार है. प्रवेश द्वार तीन मंजिला संरचना है जो मुगल सुविधाओं को दर्शाती है. विशाल दरवाजे नुकीले हैं. वे दोनों तरफ दो प्रमुख गढ़ों से घिरे हुए हैं. इनमें से एक बुर्ज के शीर्ष पर रानी महल है.”

किले को एएसआई द्वारा राष्ट्रीय महत्व के स्मारक के रूप में भी सूचीबद्ध किया गया है. बठिंडा में एएसआई के संरक्षक के रूप में किले के रखरखाव की देखरेख करने वाले श्री ओम बताते हैं, “एएसआई के रिकॉर्ड के मुताबिक, किले को 6वीं शताब्दी ईस्वी के आसपास हमलावर हूणों के खिलाफ रक्षा के रूप में बनाया गया हो सकता है.”

बठिंडा किले पर अधिक मध्यकालीन इतिहास है. “बठिंडा शाही राजा जयपाल की राजधानी थी. गजनी के महमूद ने 11वीं शताब्दी में राजा जयपाल की हार के बाद इस किले पर कब्जा कर लिया था और खुद को चिता पर जला लिया था.”

इस अशांत अवधि के दौरान किले ने केंद्रीय भूमिका निभाई. मुहम्मद गौरी ने 1191 ई. में इसके गढ़ों पर धावा बोल दिया. बठिंडा तब ‘तबरहिन्दा’ था. हालांकि, कुछ इतिहासकार इस बात पर बहस करते हैं कि तबरहिन्दा या तो बठिंडा या सरहिंद है, अधिकांश सहमत हैं कि मध्यकालीन ग्रंथों में संदर्भित तबरहिन्दा ही बठिंडा है.” श्री ओम कहते हैं. गौरी के कदम ने पृथ्वीराज चौहान को तबरहिन्दा जाने और तराइन के प्रसिद्ध प्रथम युद्ध में किले को वापस जीतने के लिए मजबूर कर दिया.

एक सदी से भी अधिक समय बाद, 1240 ईस्वी में, दिल्ली सल्तनत के तहत बठिंडा के गवर्नर मलिक इख्तियार-उद-दीन अल्तूनिया ने रजिया सुल्तान को किला मुबारक में कैद कर लिया. उसका प्रेमी याकूत मर चुका था, लेकिन इसी किले की जेल में रजिया सुल्तान और अल्तुनिया की बचपन की दोस्ती फिर से खिल उठी. दोनों ने मेल-मिलाप किया, एक सेना खड़ी की और विद्रोह खड़ा किया लेकिन असफल रहे.

बठिंडा किला भी मुल्तान और दिल्ली के बीच सबसे रणनीतिक रूप से स्थित रक्षा संरचनाओं में से एक था, ओम ने कहा, “बाद में, मुगल काल के दौरान, यह किला लाहौर का एक महत्वपूर्ण मार्ग था.”


यह भी पढ़ेंः अंग्रेजों से भिड़े, पटियाला रियासत से निकाले गए फिर गुजरमल ने बनाया मोदी नगर


आराम के लिए एक किला

गुरदीप सिंह ने बताया, ”बठिंडा किले में एक मुख्य हॉल, संलग्न बगल के कमरे और बालकनी हैं. बहुत कम कमरे हैं. “कहा जा सकता है कि इस किले को अन्य किलों के विपरीत बड़ी आबादी को रखने के लिए डिजाइन नहीं किया गया था. हालांकि, यात्रा या युद्धरत सेनाओं को अस्थायी रूप से राहत देने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता था.”

Bathinda Fort | Chitleen Sethi/ThePrint
बठिंडा किला | चितलीन सेठी/दिप्रिंट

प्रवेश द्वार के दाईं ओर एक और उभरी हुई संरचना के शीर्ष पर स्थित गुरुद्वारा किला मुबारक है, जिसे पटियाला के महाराजा करम सिंह ने बनवाया था.

सिंह ने बताया, “उस हिस्से में से कुछ को मरम्मत की ज़रूरत थी, इसलिए गुरु ग्रंथ साहिब को किले के अंदर प्रवेश द्वार के सामने एक ऊंचाई वाले मंच पर शिफ्ट कर दिया गया. यह उठा हुआ मंच शायद मूल रूप से एक मस्टर और परेड क्षेत्र था.”

चूंकि इस मंच पर अधिक जगह है शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी), जो गुरुद्वारे का प्रबंधन करती है, गुरु ग्रंथ साहिब को मूल स्थान पर वापस शिफ्ट करने के बजाय ऊंची जगह पर ही रखना चाहती है. सिंह ने कहा, “पर्यटक मूल स्थान और गुरु ग्रंथ साहिब को रखने वाले दोनों स्थानों पर माथा टेकते हैं.”

किले में गुरु गोबिंद की यात्रा के पीछे एक दिलचस्प कहानी है. ऐसा कहा जाता है कि बठिंडा के लोगों ने गुरु से किले में आकर इसे देखने के लिए कहा. उनका मानना था कि किले में एक राक्षस है जो आसपास के गांव में घरों को नुकसान पहुंचाता है. गुरु गोबिंद सिंह ने उस जीव से संवाद किया, उससे पूछा कि वह क्या चाहता है और उसने गुरु से कहा कि वो लंबे समय से भूखा है और अगर कोई उसे खाना खिलाएगा तो वह हमेशा के लिए किला छोड़ देगा. तब गुरु ने पास के गांव नट बांगर से एक बैल लाने को कहा और गुरु द्वारा उसे खाना दिए जाने के बाद राक्षस ने किले को खाली कर दिया.

बठिंडा के बजौना गांव के बलविंदर सिंह कहते हैं, “हमें बताया गया है कि हम इस गुरुद्वारे में जो कुछ भी मांगो गुरु साहिब उसे पूरा कर देते हैं. मैं अपने परिवार के साथ यहां अपनी मां का इलाज करने के लिए गुरु साहिब का शुक्रिया अदा करने आया हूं”

समय के भार तले

वर्तमान में जिस ढांचे की मरम्मत चल रही है, उसकी नाजुकता संरक्षकों के लिए एक बड़ी चुनौती बन रही है. एएसआई स्टाफ का कहना है कि इससे काम धीमा हो रहा है.

दीवारों को कम से कम सात अलग-अलग प्रकार की ईंटों से तराशा गया है, जो भारत के इतिहास के विभिन्न कालखंडों की गवाही देती हैं. प्रत्येक राजा ने विजेता ने बाद किले पर अपनी छाप छोड़ी है.

श्री ओम कहते हैं, “चूंकि मिट्टी की ईंटें लंबे समय तक नहीं चलती हैं, इसलिए उन्हें कुछ जगहों पर छोटी नानक शाही ईंटों से बदल दिया गया और अन्य जगहों पर पकी हुई ईंटों का भी इस्तेमाल किया गया.”

(संपादनः फाल्गुनी शर्मा)

(इस फीचर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ेंः ‘किसका इतिहास?’: तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में लड़ रहे हैं आर्काइव्स


 

share & View comments