scorecardresearch
Thursday, 25 April, 2024
होमएजुकेशन'इतना अच्छा तो शाहरुख खान से मिलकर नहीं लगा'- PM मोदी को छात्रा की मां ने दिया कॉम्पलीमेंट

‘इतना अच्छा तो शाहरुख खान से मिलकर नहीं लगा’- PM मोदी को छात्रा की मां ने दिया कॉम्पलीमेंट

शिक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित सीबीएसई छात्रों के साथ चल रही वर्चुअल मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक शामिल हो गए और फिर उन्होंने इस दौरान छात्रों के अभिभावकों से भी बातचीत की.

Text Size:

नई दिल्ली: शिक्षामंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और शिक्षा मंत्रालय 12वीं के छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ वर्चुअल मीटिंग कर रहे थे कि उसमें अचानक पीएम मोदी शामिल हो गए.

पीएम मोदी को अपने बीच देख छात्रों के साथ उनके अभिभावक भी बहुत खुश हो गए. पीएम ने जैसे ही बातचीत करनी शुरू की एक बच्ची और उसकी मां उत्साहित हो गई और उन्होंने पीएम से कहा, ‘इतना अच्छा तो शाहरुख खान से मिलकर नहीं लगा जितना आपसे मिल कर लग रहा है.’ प्रधानमंत्री मोदी इस बच्ची की मां की बातें सुनकर मुस्कुराने लगे.

पीएम मोदी 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने और उसके असर पर बच्चों के साथ साथ उनके माता पिता से भी खूब बात की.

पीएम मोदी ने कहा छात्रों और अभिभावकों से बातचीत के दौरान कहा, ‘आपका अपनापन मेरे लिए खुशी की बात है. मैं आपके विश्वास को देखकर गदगद हूं.’

उन्होंने छात्रों से बातचीत के बीच कहा मैं अपने देश के कोने-कोने में बैठे जिस विश्वास के साल मुझसे बात कर रहे हैं मैं देख कर बहुत खुश हूं. कोई भी मुझे देखकर चौंका नहीं..यह दिखाता है कि आपलोग विश्वास से भरे हुए हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पीएम ने कहा, ‘आप सबसे बात करके मेरा ये विश्वास और दृढ़ हुआ है कि भारत का युवा पॉजिटिव भी है और प्रैक्टिकल भी है. निगेटिव थॉट्स की जगह आप लोग हर परेशानी और चैलेंज को भी अपनी ताकत बना लेते हैं.’

इस बीच पीएम से बातचीत के दौरान एक बच्ची ने कहा कि वो एक यू-ट्यूब चैनल चलाती है तो पीएम ने उस बच्ची से उसका यू-ट्यूब चैनल का नाम भी पूछा और कहा लगता है मुझे आप सभी को फॉलो करना पड़ेगा.

पीएम ने अपने इंट्रैक्शन के बीच 12 वीं की स्थगित की गई परीक्षा पर बात की उन्होंने कहा इस स्तर पर छात्रों के दिमाग में करियर को लेकर कई बातें होती है. जब छात्रों को यह पता चला कि परीक्षा नहीं होगी तब उन्होंने क्या सोचा?


य़ह भी पढ़ें: DU आयोजित कराएगी परीक्षाएं, लेकिन कोविड के कारण एक्ज़ाम न दे पाने वालों को मिलेगा दूसरा मौक़ा


‘अब आगे का क्या प्लान है’

पीएम मोदी ने छात्रों से इस बातचीत के दौरान पूछा कि अब जब परीक्षा रद्द हो गई तब अब आगे का क्या प्लान है? इसके जवाब में छात्रों ने बताया कि जैसे ही परीक्षा रद्द हो गई उनका तनाव खत्म हो गया. उन्होंने कहा कि अब हम पूरा फोकस कंपटीटिव एक्जाम में लगा रहे हैं और उसमें जुट गए हैं. वहीं कुछ छात्रों ने बताया कि मैं जैसे ही परीक्षा रद्द किए जाने की बात मीडिया में आई मैं उस दिन 12 बजे तक सोया…

पीएम ने बच्चों के पैरेंट्स से भी सवाल किए और पूछा कि अब कैसा लगा रहा है. इसके जवाब में एक पिता ने कहा, ‘सरकार के इस कदम से अच्छा लगा क्योंकि कोरोना के बीच परीक्षा एक बड़ी चिंता थी.’

हिमाचल की एक छात्रा ने पीएम मोदी से कहा कि पिछले एक साल से जिंदगी थम सी गई थी. ऐसे में यह फैसला बेहद प्रशंसनीय है.

इस बैठक में इंदौर की एक बच्ची से पीएम ने पूछा कि आपका शहर क्यों प्रसिद्ध है तो बच्ची ने बिना समय गंवाए बताया कि क्लीनलीनेस के लिए…हिमाचल, आंध्रप्रदेश, गुवाहाटी सहित कई राज्यों के बच्चों से पीएम ने इस दौरान बात की.

एक बच्चे ने जब पीएम से कहा कि वो जानता था कि परीक्षाएं कैंसिल हो जाएंगी तो पीएम ने चुटकी लेने हुए पूछा- क्या आप ज्योतिष जानते हैं? इस दौरान बारी बारी से पीएम बच्चों को सीबीएसई द्वारा दिए गए नंबरों से उनसे बातचीत की इच्छा जता रहे थे.

पीएम ने बच्चों से कहा, ‘कोरोना एक वैश्विक महामारी है, पिछली शताब्दी में कभी ऐसा संकट नहीं आया है, पिछली 4-5 पीढ़ी में किसी ने सुना नहीं, ऐसा हम लोगों के कालखंड में आया है. लेकिन फिर भी हर हिंदुस्तानी की एक ही आवाज है कि हम इसको भी हराएंगे, इससे भी निकलेंगे और नई ऊर्जा के साथ देश को आगे ले जाएंगे.’

बता दें कि 12वीं के छात्र और पैरेंट्स के बीच सीबीएसई ने बैठक बुलाई थी ताकि 12वीं के परीक्षा परिणाम के फॉर्मूले को लेकर निष्कर्ष पर पहुंचा जा सके. इससे पहले 2 जून को प्रधानमंत्री मोदी ने उच्च स्तरीय बैठक के बाद 12वीं की परीक्षा कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते नहीं कराने का फैसला किया था.

पीएम ने ये फैसला 12वीं की परीक्षा लगातार रद्द कराए जाने की उठ रही मांग के बीच बैठक के बाद लिया. कई राज्य सरकारों और राजनीतिक पार्टियों की तरफ से लगातार यह मांग की जा रही थी कि कोरोना के चलते छात्रों की जान को संकट में ना डाला जाए बल्कि परीक्षा लेने के कोई वैकल्पिक कदम उठाया जाए.


यह भी पढ़ें: ‘बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा शीर्ष प्राथमिकता’- UP समेत कई राज्यों ने 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द की


 

share & View comments