scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमडिफेंसदुश्मन ड्रोन का मुकाबला करने के लिए हैदराबाद की फर्म ने डेवलप किया AI-पावर्ड सिस्टम 'इंद्रजाल'

दुश्मन ड्रोन का मुकाबला करने के लिए हैदराबाद की फर्म ने डेवलप किया AI-पावर्ड सिस्टम ‘इंद्रजाल’

हैदराबाद के ग्रेने रोबोटिक्स का दावा है कि 'इंद्रजाल' काउंटर मानवरहित विमान प्रणाली रियल टाइम में ड्रोन खतरों का पता लगाती है, पहचानती है और उन्हें बेअसर करती है और सैन्य क्षमताओं को बढ़ा सकती है.

Text Size:

हैदराबाद: युद्ध की बदलते डायनमिक्स और निगरानी और हमलों के लिए ड्रोन और मानव रहित एरियल वीकल (यूएवी) के बढ़ते उपयोग के बीच, काउंटर-ड्रोन सिस्टम प्राथमिकता बन गए हैं. हैदराबाद स्थित ग्रेने रोबोटिक्स में प्रवेश करें, अपने एआई-संचालित ‘इंद्रजाल’ काउंटर मानव रहित विमान प्रणाली के साथ न केवल सशस्त्र बलों बल्कि हवाई अड्डों और रिफाइनरियों जैसे निजी प्रतिष्ठानों की भी मदद करेगा.

इस सप्ताह हैदराबाद में अनावरण किए गए, इंद्रजाल में एक वाइड-एरिया नेटवर्क सिस्टम है जिसके बारे में कंपनी का दावा है कि यह 4,000 वर्ग किमी तक कवर कर सकती है. यह 12 एआई-संचालित मालिकाना मॉड्यूलर प्रौद्योगिकियों का उपयोग करता है जो स्वतंत्र रूप से या तालमेल में कार्य कर सकते हैं.

ग्रेने रोबोटिक्स के अनुसार, इंद्रजाल अपनी तरह की दुनिया का पहला सिस्टम है, जो न केवल पता लगाती है बल्कि वास्तविक समय में खतरों की पहचान, वर्गीकरण, ट्रैक और बेअसर भी करती है.

कंपनी ने दावा किया है कि इंद्रजाल सभी प्रकार के स्वायत्त ड्रोनों से सुरक्षा प्रदान करता है, जिसमें कम रडार क्रॉस सेक्शन (आरसीएस) खतरे, मध्यम-ऊंचाई वाले लॉन्ग-एंड्योरेंस (MALE) और उच्च-ऊंचाई वाले लॉन्ग-एंड्योरेंस (HALE) यूएवी के साथ-साथ, युद्ध सामग्री, स्मार्ट बम, रॉकेट शावर, नैनो और माइक्रो ड्रोन और यहां तक कि स्वॉर्म ड्रोन्स भी शामिल हैं.

ग्रेने रोबोटिक्स ने अब सशस्त्र बलों के सामने अपना सिस्टम प्रदर्शित करना शुरू कर दिया है. ग्रेन रोबोटिक्स में उभरती प्रौद्योगिकियों के निदेशक, विंग कमांडर साई मालेला (सेवानिवृत्त) ने दिप्रिंट से बात करते हुए कहा, “अगर सशस्त्र बलों के पास सिस्टम के साथ एकीकृत करने के लिए कोई हथियार है, तो यह किया जा सकता है.”

यहां इंद्रजाल की कुछ प्रमुख विशेषताओं पर एक नजर डालते हैं और यह कैसे भारत की रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने में मदद कर सकता है.

‘बड़ी-लंबी दूरी के रडार, मिसाइलों और हथियारों के साथ काम कर सकता है’

मलेला ने बताया कि इंद्रजाल सिस्टम “सेंसर और वीपन एग्नॉस्टिक” है, जिसका अर्थ है कि यह विभिन्न प्रकार के सेंसर और हथियारों के साथ काम कर सकता है.

उन्होंने कहा, “यह हमारे डिफेंस ऑपरेटिंग सिस्टम (डीएफओ) पर किए गए काम की मात्रा से आता है, जिसे 10 वर्षों में बनाया गया है.”

कंपनी की वेबसाइट के अनुसार, DefOs, “एकीकृत कमांड और नियंत्रण इंजन” है जो इंद्रजाल सिस्टम के विभिन्न घटकों के खतरों का पता लगाने, ट्रैक करने और बेअसर करने की अनुमति देता है.

अन्य तत्वों में एक एआई कंप्यूटर हाइवमाइंड – जो मिशनों की योजना बनाता है और उन्हें क्रियान्वित करता है, ज़ोम्बी ड्रोन जो खतरों को बेअसर करते हैं, और स्काईकॉप ड्रोन जो निगरानी कार्य करते हैं- शामिल हैं.

जबकि ग्रेने रोबोटिक्स ने अभी तक लंबी दूरी के ड्रोन विकसित नहीं किए हैं जो आने वाले MALE या HALE ड्रोन को मार गिरा सकते हैं. Mallela ने कहा कि एक “इंटरसेप्टर ड्रोन” MALE ड्रोन तक पहुंच सकता है. उन्होंने कहा कि यह प्रणाली रक्षा प्रतिष्ठान के सेंसर और सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों के साथ मिलकर काम कर सकती है जो आमतौर पर ऐसे यूएवी से निपटते हैं.

मालेला ने कहा, “देश की पारंपरिक हवाई सुरक्षा ऐसे खतरों से निपटती है लेकिन इंद्रजाल एक प्लेटफॉर्म के रूप में बड़े, लंबी दूरी के राडार, मिसाइलों और हथियारों के साथ एकीकृत होने और काम करने के लिए तैयार है.”

हेल और मेल यूएवी दोनों अपने सापेक्षिक सहनशक्ति के लिए जाने जाते हैं और निगरानी के साथ-साथ हमले के मिशन में भी उपयोग किए जाते हैं. मेल ड्रोन की ऊंचाई 30,000 फीट है, जबकि हेल ड्रोन 60,000 फीट तक की ऊंचाई पर काम करते हैं.


यह भी पढ़ेंः पंजाब यूनिवर्सिटी चुनाव में NSUI की जीत के बाद कांग्रेस का CM मान पर तंज, कहा- हम चुनाव लड़ और जीत रहे हैं


‘अगर वे ड्रोन लाते हैं तो हम ड्रोन से लड़ेंगे’

हैदराबाद कार्यक्रम में, ग्रेने रोबोटिक्स ने अपने स्काईकॉप ड्रोन का प्रदर्शन किया, जो एक क्वाडकॉप्टर है जिसे अनाधिकृत ड्रोन द्वारा उत्पन्न जोखिमों का पता लगाने और उन्हें कम करके हवाई क्षेत्र की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है.

कंपनी ज़ोम्बी ड्रोन भी पेश करती है, जो एक विशेष ड्रोन है जिस इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि अपने छत्ते की सुरक्षा करने वाली मधुमक्खियों के व्यवहार की नकल कर सकता है. यह एक फ्लाई-एंड-डाई ड्रोन है जो शत्रुतापूर्ण ड्रोन्स का पीछा करने और फिर उन्हें दुर्घटनाग्रस्त करके निष्क्रिय करने के लिए बनाया गया है.

ग्रेन रोबोटिक्स के संस्थापक और सीईओ किरण राजू ने दिप्रिंट से इस तरह की प्रणाली के महत्व के बारे में बात की और यह कैसे सशस्त्र बलों के पास पहले से मौजूद अन्य हथियारों से अलग है.

“अब तक, फोर्सेज़ ने ऐसे सिस्टम खरीदे हैं जो रडार और जैमर पर ध्यान केंद्रित करते हैं. लेकिन आमतौर पर, दुश्मन को पता होता है कि देश किन फ्रीक्वेंसी को जाम करना चाहता है,” उन्होंने कहा. “जैसे-जैसे हम आगे बढ़ेंगे, भविष्य में जो चुनौतियां आने वाली हैं, वे स्वॉर्म ड्रोन हमले हैं. स्वॉर्म ड्रोन हमले का मुकाबला करने का एकमात्र तरीका काउंटर ड्रोन है.

सरल शब्दों में, राजू ने कहा, ग्रेने जिस समाधान की पेशकश पर ध्यान केंद्रित कर रहा है वह यह है कि यदि 10 शत्रुतापूर्ण या होस्टाइल ड्रोन हैं, तो उनका मुकाबला करने के लिए 10 अन्य भी होने चाहिए.

उन्होंने कहा,“जब दुश्मन ड्रोन से हमला करता है, तो हम जैमर से नहीं लड़ सकते – यह कोई स्थायी समाधान नहीं है. अगर वे एआई लाते हैं, तो हम एआई से लड़ते हैं. अगर वे ड्रोन लाते हैं, तो हम ड्रोन से लड़ते हैं.”

राजू ने हैदराबाद कार्यक्रम में कहा कि इंद्रजाल का 80 प्रतिशत हिस्सा भारत में बनाया गया है.

उन्होंने कहा, “सॉफ्टवेयर और प्लेटफ़ॉर्म भारतीय निर्मित हैं. हालांकि, इंटेल प्रोसेसर सहित कुछ घटक अमेरिका जैसे देशों से खरीदे गए हैं.”

(संपादनः शिव पाण्डेय)
(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः ‘जब तक भक्त हैं, कोई भी हमारे ‘धर्म’ को चुनौती नहीं दे सकता’, उदयनिधि की टिप्पणी पर बोलीं स्मृति ईरानी


 

share & View comments