Thursday, 26 May, 2022
होम50 शब्दों में मतभारतीय फौज के राजनीतिक इस्तेमाल के ख़िलाफ़ राष्ट्रपति को आगे आना चाहिए

भारतीय फौज के राजनीतिक इस्तेमाल के ख़िलाफ़ राष्ट्रपति को आगे आना चाहिए

दिप्रिंट का महत्वपूर्ण मामलों पर सबसे तेज़ नज़रिया.

Text Size:

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को फौज के दिग्गजों द्वारा चिट्ठी लिखी गई है या नहीं इसे लेकर अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं. बावजूद इन दावों के सैन्य बलों के राजनीतीकरण का विरोध बिल्कुल जायज़ है. सैन्य प्रमुख के तौर पर राष्ट्रपति कोविंद को सभी राजनीतिक पार्टियों से अपील करनी चाहिए कि वो इस घिनौने चलन को बंद करें.

सुप्रीम कोर्ट का चुनावी बांड पर आदेश: चोट पहुंचाने को तैयार, पर जड़ से उखाड़ने से डर

सर्वोच्च न्यायालय के चुनावी बांड पर आदेश की सबसे अच्छी बात ये है कि ये इससे भी खराब हो सकता था. उच्चतम स्तर पर अजीबोगरीब न्याय – खुलासा किया जाये या न किया जाये; चुनाव पूरे होने तक एक भी सुगबुगाहट नहीं जब तक नई सरकार स्थापित नहीं हो जाती. एलेक्ज़ेंडर पोप कह गए हैं: चोट करने के लिए तैयार, पर जड़ से उखाड़ने से डर.

 

share & View comments