akhilesh yadav-tejwaswi
अखिलेश यादव-तेजस्वी यादव
Text Size:
  • 17K
    Shares

यूपी और बिहार को मिलाकर लोकसभा की कुल 120 सीटें हैं. 2014 में इन दो राज्यों से भाजपा और उसके साथी संगठनों ने मिलकर लगभग 106 सीटें निकाली थीं. गौरतलब है कि इन दोनों ही राज्यों में चाहे मुद्दा कुछ भी हो, टिकट तो जाति के आधार पर बांटे जाते हैं. तब कहा गया था कि भाजपा के सबका साथ, सबका विकास के नारे पर जाति से ऊपर उठकर वोट सिर्फ नरेंद्र मोदी के नाम पर दिया गया था.

पर 2019 में मामला पलटता दिख रहा है. 2014 जैसे करिश्मे की उम्मीद नहीं है. सत्ताधारी भाजपा राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के मुद्दे पर जा रही है. अमित शाह, नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ समेत तमाम नेता इन दो मुद्दों को ही उछाल रहे हैं. वहीं विपक्ष भी भाजपा पर हमला करने के लिए इन दो मुद्दों का ही सहारा ले रहा है. प्रियंका गांधी लगातार लोगों को राष्ट्रवाद का मतलब समझा रही हैं. वहीं तेजस्वी यादव, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी, चंद्रबाबू नायडू, अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी भाजपा पर सांप्रदायिकता का आरोप लगा रहे हैं.

पर अगर भाजपा, कांग्रेस समेत सभी पार्टियों के कैंडिडेट्स की लिस्ट देखें तो इसमें ज्यादातर जगह किसी मुद्दे के आधार पर टिकट नहीं दिया गया है. टिकट देने का आधार सिर्फ एक हैजाति.

कयास लगाये जा रहे हैं कि यूपी और बिहार दोनों ही राज्यों में इस बार भाजपा को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा. यूपी में अखिलेश यादव और मायावती ने गठबंधन कर लिया है. वहीं बिहार में तेजस्वी यादव और कांग्रेस ने गठबंधन कर कड़ी चुनौती पेश की है.


यह भी पढ़ें: खेड़की दौला टोल प्लाजा: दबंगई रोकने के लिए लगाई गईं लड़कियां, रोज मिलती हैं गालियां और धमकियां


तो क्या भाजपा का हिंदुत्व का मुद्दा यूपी और बिहार के लोगों को रास नहीं रहा? जबकि अयोध्या आंदोलन यूपी में ही हुआ, बाबरी मस्जिद गिराई गई. हालफिलहाल में भी काफी सांप्रदायिकता बढ़ी है. पर ये सांप्रदायिकता इस बार समर्थन में तब्दील क्यों नहीं हो पा रही?

भाजपा के एक कार्यकर्ता नाम बताने की शर्त पर कहते हैंसिर्फ यादव वोट ही यूपी और बिहार दोनों जगहों पंगा कर रहे हैं. इनके ही न जुड़ने से हिंदुत्व का मुद्दा कमजोर पड़ रहा है.

गौरतलब है कि बिहार में यादव वोट लालू प्रसाद यादव के नाम पर जाता और अब तेजस्वी ने कमान संभाल ली है. वहीं यूपी में यादव वोट मुलायम सिंह यादव के नाम पर जाता था और अब उनकी लॉयल्टी अखिलेश यादव के साथ हो गई है. बिहार और यूपी दोनों में ही यादव वोट की संख्या अच्छीखासी है. बिहार में तो लालू प्रसाद यादव ने मुस्लिमयादव समीकरण बनाकर ही 15 साल शासन कर लिया था. वहीं मुलायम सिंह यादव ने भी लगभग मुस्लिमयादव समीकरण पर ही काम किया है.


यह भी पढ़ें: गुरुग्राम हिंसा: साजिद और बिल्लाराम ने सांप्रदायिकता को नकारा, देश को दिया भाईचारे का संदेश


इस परिप्रेक्ष्य मेंयादववोट रोचक हो जाते हैं. अगर राज्य के चुनावों के हिसाब से देखें तो यादव वोट वहां पर जातिगत आधार पर पोलराइज करता है. पर अगर केंद्रीय चुनाव के हिसाब से देखें तो यही यादव वोट सांप्रदायिकता के खिलाफ दो पार्टियों का हथियार बनकर उभरता है.

गौरतलब है कि 1990 में जब लालकृष्ण आडवाणी ने रथयात्रा निकाली तो लालू प्रसाद यादव ने ही समस्तीपुर में उन्हें गिरफ्तार कराया था. प्रसाद आज तक उस बात को बहुत गर्व से बताते हैं. उसी दौरान अयोध्या में बाबरी मस्जिद के मुद्दे पर कारसेवकों पर गोली चलवा कर मुलायम सिंह यादव नेमुल्ला मुलायमका भी विशेषण हासिल कर लिया.

पर अगर बिहार और यूपी दोनों राज्यों मेंयादव सरकारोंको देखें तो लालू और मुलायम दोनों पर ही अपने शासन मेंयादवोंको प्रमुखता देने के आरोप लगे थे. हालांकि यही आरोप योगी आदित्यनाथ पर भी लग रहे हैं कि वो ठाकुरों को प्रमुखता दे रहे हैं. ऐसा लगता है कि राज्यों में जातिगत राजनीतिवोट पोलराइजकरने के काम आती है.


यह भी पढ़ें: आप फेसबुक पर क्रांति कर रहे हैं, उधर सारी राजनीतिक पार्टियां ‘शेयरचैट’ पर वोट बटोर रही हैं


2002 में हिंदू में लिखे एक आर्टिकल में कांचा इलैया लिखते हैं कि हिंदुत्व की ताकतें सांप्रदायिकता फैलाने के लिए ओबीसी जातियों का सहारा लेती हैं. जेलों में भी ओबीसी ही गये हैं, सवर्ण नहीं. कहने का मतलब कि हिंदुत्व की सफलता के लिए ओबीसी का समर्थन आवश्यक है.

ध्यान देने की बात है कि 1990 में ही मंडल और कमंडल का मुद्दा उठा था. मंडल कमीशन से ओबीसी का ही फायदा हुआ था. और कमंडल से हिंदुत्ववादी ताकतों का. उस वक्त से ही ओबीसी को हिंदुत्व के रंग में रंगने की कोशिश जारी है.

पर यूपी और बिहार में जातिगत हिसाब से यादव वोट सबसे ज्यादा हैं और इनके नेता भी बाकी नेताओं की तुलना में बड़े निकले. एक तरीके से कहा जा सकता है कि दोनों राज्यों में यादव नेताओं ने ओबीसी समाज का नेतृत्व किया. हालांकि ओबीसी नरेंद्र मोदी काफी हद तक अन्य ओबीसी वोट तोड़ने में सफल रहे. पर ये कहा जा सकता है कि फिर भी यादव और सपाराजद के लॉयल वोट्स ने अभी भी सांप्रदायिकता और हिंदुत्व को फैलने से रोक रखा है.


  • 17K
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here