nitin gadkari
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी हुए शायर/ फोटो- सूरज बिष्ट
Text Size:

नई दिल्ली: अपने दम पर राजनीति और कारोबार में सफलता के मुकाम हासिल करने वाले नितिन जे. गडकरी (62) पूर्वी महाराष्ट्र के नागपुर से आते हैं. उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) और भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) से अपनी राजनीति के कॅरियर की शुरुआत की.अभाविप राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का विंग है तो भाजयुमो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का विंग है.

मिलनसार और मृदु स्वभाव के व्यक्ति गडकरी ब्राह्मण हैं. भाजपा में शामिल होने के बाद वह प्रदेश में पहली बार मनोहर जोशी की अगुवाई में बनी विपक्षी गठबंधन शिवसेना-भाजपा की सरकार (1995-1999) में मंत्री बने.

सभी दलों के नेताओं के साथ अच्छे व्यक्तिगत संबंध वाले गडकरी को प्रदेश में बुनियादी परिवहन ढांचा में सुधार करने का श्रेय जाता है. उन्होंने इस कार्य का अपनी दिलचस्पी के साथ बखूबी अंजाम दिया, जिससे उनको जल्द ही प्रमुखता मिली. उनको मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे समेत सैकड़ों फ्लाइओवर, सड़क और राज्य व राष्ट्रीय राजमार्ग बनाने का श्रेय जाता है.

वह महाराष्ट्र में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे, लेकिन उनके पास सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी 2009 में आई जब उनको भाजपा का अध्यक्ष बनाया गया और पार्टी में बदलाव लाने और नए सिरे से पार्टी को खड़ा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई. वह 2013 तक इस पद पर बने रहे.लगातार दो लोकसभा चुनाव (2004, 2009) में पार्टी के खराब दौर से गुजरने के बाद गडकरी ने पार्टी को नए सिरे से खड़ा किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में गडकरी ने काफी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाई और सड़क परिवहन, जहाजरानी व अन्य मंत्रालयों में उन्होंने अमिट छाप छोड़ी. उनको दोबारा मोदी के मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS