scorecardresearch
Thursday, 30 May, 2024
होमरिपोर्ट'मैं जहां हूं वहां खुश हूं', तेजस्वी बोले- न तो नीतीश PM बनना चाहते हैं और न मैं CM

‘मैं जहां हूं वहां खुश हूं’, तेजस्वी बोले- न तो नीतीश PM बनना चाहते हैं और न मैं CM

यादव ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर भी निशाना साधा . उपमुख्यमंत्री ने कहा कि विरोध करने वाले नेताओं को भ्रष्टाचार के नाम पर भाजपा निशाना बना रही है.

Text Size:

नई दिल्ली: बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सोमवार को कहा कि वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ काम करके बहुत खुश हैं.

राजद नेता ने सड़क निर्माण विभाग के लिए बजटीय आवंटन पर बहस का जवाब देते हुए विधानसभा में यह बातें कहीं.

नीतीश कुमार के पिछले साल राजग से बाहर होने का जिक्र करते हुए यादव ने कहा, ‘मैं यह निर्णय करने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद देना चाहता हूं.’

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने मुझ पर जो भरोसा जताया है, मैं उस पर खरा उतरना चाहता हूं. न तो वह प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं और न ही मैं मुख्यमंत्री बनना चाहता हूं. हम जहां हैं, वहीं खुश हैं. विपक्ष हमारे बीच दूरी की कल्पना कर सकता है.’

यादव ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर भी निशाना साधा . उपमुख्यमंत्री ने कहा कि विरोध करने वाले नेताओं को भ्रष्टाचार के नाम पर भाजपा निशाना बना रही है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

तेजस्वी यादव जब बोल रहे थे तब मुख्यमंत्री विधानसभा में मौजूद थे और उनके द्वारा सदन में दिए जा रहे बयान को बहुत ध्यान से सुन रहे थे जबकि भाजपा के सदस्य सदन से वॉकआउट कर गए. तेजस्वी ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि इनके पास काम तो है नहीं. हमलोग विकास के साधक हैं और विपक्ष के लोग विकास के बाधक बने हुए हैं.”

लगातार भाजपा के सदस्यों पर हमलावर रहे तेजस्वी ने कहा, ‘इनका बस एक ही काम है- ‘हमको गाली देना. हमारा चरित्र हनन करना. भाजपा नेताओं के पास न कोई चाल है और न चरित्र. न आचार है, न विचार और न पद का उम्मीदवार.”

इस दौरान उपमुख्यमंत्री ने कहा,” इनसे ना लालू यादव डरे थे और ना ही उनका ये बेटा डरेगा.”

अपने भाषण के बीच तेजस्वी यादव ने एक शेर भी सुनाया, ‘लहजे में बदजुबानी, चेहरे पर नकाब लिए फिरते हैं. वे जिनके खुद के बहीखाते बिगड़े हुए हैं, वे हमारे हिसाब बिगाड़ने के पीछे पड़े हैं. ‘


यह पढ़ें: मोदी लहर में टिके रहे तेजस्वी, कहां चूक गए अखिलेश यादव


share & View comments