Monday, 27 June, 2022
होमराजनीतिमुंबई में माधुरी दीक्षित और रतन टाटा से क्यों मिले अमित शाह?

मुंबई में माधुरी दीक्षित और रतन टाटा से क्यों मिले अमित शाह?

Text Size:

बीजेपी ने चार साल की मोदी सरकार की उपलब्धियों को प्रचारित करने और पार्टी व सरकार द्वारा किये गए कार्य से लोगों को अवगत कराने के लिए एक अभियान शुरू किया है।

मुंबई: पूर्व क्रिकेटर कप्तान कपिल देव, अभिनेत्री माधुरी दीक्षित, उद्योगपति रतन टाटा, योग गुरु बाबा रामदेव, पूर्व सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग, भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरसी लाहौटी और पूर्व लोकसभा के महासचिव सुभाष कश्यप, इन सभी में क्या समानता हैं?

इन लोगो के पास नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार द्वरा किये गये कार्यो की जानकारी देने वाली एक किताब और एक पेन ड्राइव है और बीजेपी अध्यक्ष के साथएक मुस्कुराती हुई तस्वीर है।

ये व्यक्तित्व भाजपा के हालिया ‘समर्थन के लिए संपर्क’ कार्यक्रम के लिए अग्रिम पंक्ति बनाते हैं| ‘समर्थन के लिए सम्पर्क’ देश भर में विचारकों से मिलकर सत्ता में चार साल बाद एनडीए सरकार की उपलब्धियों को प्रचारित करने का एक अभियान है।

शाह ने अभियान के हिस्से के रूप में 50 प्रमुख व्यक्तियों तक पहुंचने की योजना बनायी है और 29 मई से इस अभियान के तहत अपनी यात्रा शुरू कर दी है।

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

शाह के कार्यालय के द्वारा एक सूची तैयार की जाती है और उन व्यक्तियों के साथ अपॉइंटमेंट लिया जाता है इसके बाद बीजेपी के नेता उनके घरों का दौरा करते है और करीब आधा घंटा एनडीए सरकार के काम और पार्टी के दृष्टिकोण को समझाते हुए मोदी सरकार की उपलब्धियों का विवरण देते हैं।

बुधवार को शाह ने मुंबई में माधुरी दीक्षित और रतन टाटा के घरों का दौरा किया। जबकि उनका गायक लता मंगेशकर से मिलना भी निर्धारित था लकिन उन्होंने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए अपॉइंटमेंट रद्द कर दिया।

महाराष्ट्र के बीजेपी प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा,”हालांकि ये व्यक्ति सीधे राजनीति से संबंधित नहीं हैं या राजनीतिक गतिविधियों में संलग्न नहीं हैं, फिर भी ये समाज में अन्य लोगों को प्रभावित करते हैं। हम उन्हें समाज में विचारकों के रूप में गिनते हैं। बीजेपी का विचार इन लोगों के साथसंबंध स्थापित करना है और इन लोगों को उस कार्य से परिचित कराना है जो पार्टी और सरकार कर रही है।”

विभिन्न क्षेत्रों के व्यक्तियों के अलावा,शाह एनडीए सहयोगियों के नेताओं से मिलने की भी योजना बना रहे हैं जैसे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और शिरोमणि अकाली दल के सर्वोच्च नेता प्रकाश सिंह बादल।

सिर्फ प्रमुखही नहीं

भंडारी ने कहा कि आगे बढ़ने की मुहिम अकेले भाजपा अध्यक्ष की गतिविधियों तक ही सीमित नहीं है।

उन्होंने कहा, “अमितभाई राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, इसलिए वह सबसे ज्यादा सुर्खियों में रहने वाले कुछ लोगों के साथ बातचीत कर रहे हैं । लेकिन कार्यक्रम केवल यहीं तक ही सीमित नहीं है। भाजपा के हर सार्वजनिक प्रतिनिधि एवं निगम के अधिकारियों को अपने क्षेत्रों में इस तरह के प्रभावशाली व्यक्तियों की पहचान करने और मोदी सरकार के कार्यों के बारे में चर्चा फैलाने के लिए कहा गया है।

मुंबई के उत्तर पश्चिमी उपनगर दहिसर की भाजपा विधायक मनीषा चौधरी ने कहा कि उन्हें भी लक्ष्य दिए गए हैं।
उन्होंने कहा, “मैं मुहिम के हिस्से के रूप में वास्तुकारों, बिल्डरों, डॉक्टरों, वकीलों, घरेलू श्रमिकों, मछुआरों और कई अन्य समूहों से मुलाकात कर रही हूँ।”

चौधरी, जिन्होंने कहा कि यह मुहिम 20 जून तक चलेगी, ने कार्यक्रम के बारे में समझाया, “मैं उन लोगों के सामने भाजपा सरकार की उपलब्धियों की एक पावरपॉइंट प्रस्तुति देती हूँ और उनके सुझावों और मुद्दों को सुनती हूँ। जैसे कि आज मैं हीरा उद्योग के प्रतिनिधियों से मिल रही हूँ।”

कुल मिलाकर, ‘समर्थन के लिए सम्पर्क’ कार्यक्रम के हिस्से के रूप में, भाजपा द्वारा चुने गए 4,000 नेताओं को विभिन्न क्षेत्रों से देश भर में एक लाख प्रभावशाली नामों के संपर्क साधना होगा और वे मोदी सरकार के कार्यों पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा, पार्टी ने अपने लाखों कार्यकर्ताओं को घर-घर जाने के लिए भी कहा है।

पार्टी ने नमो ऐप पर ‘सम्पर्क से समर्थन’ मॉड्यूल पेश किया है, जहाँ भाजपा कार्यकर्ता सरकार की विभिन्न पहलों के बारे में वीडियो और इन्फोग्राफिक्स लोगो से साझा कर सकते हैं। वे उन लोगों के नाम, संपर्क विवरण और फीडबैक भी रिकॉर्ड कर सकते हैं।

Read in English: Why Amit Shah met Madhuri Dixit and Ratan Tata in Mumbai

share & View comments