news on politics
मसूद अज़हर के मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद | दिप्रिंट
Text Size:
  • 9
    Shares

नई दिल्लीः मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित किये जाने को लेकर चीन ने वीटो कर दिया है. इसको लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने इस मुद्दे पर पूरी दुनिया का भारत के साथ खड़ा होने पर इसे अपनी सरकार की कूटनीतिक सफलता बताया. साथ ही कांग्रेस और राहुल गांधी पर आतंकवाद को लेकर गंभीर न रहने का आरोप लगाया है.

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रसाद ने कहा कि मसूद अजहर को लेकर पूरी दुनिया हमारे साथ है, लेकिन चीन के इस पर रुख से पूरा देश दुखी है. चीन को छोड़ दुनिया के सभी देश इस मुद्दे पर हमारे साथ हैं.

उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि आतंकवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर कांग्रेस और उनके नेता राहुल गांधी गंभीर नहीं है. वह जो बोलते हैं उससे आंतकवादियों को खुशी मिलती है. राहुल गांधी को ऐसा बयान देना चाहिए जिससे आतंकवादियों को मदद न मिले. सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी. उन्हें ट्वीट करने को लेकर सचेत करते हुए कहा कि जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी उनके ट्वीट्स को बहुत चाव से पढ़ते हैं.

वहीं प्रसाद ने अपनी पार्टी की आतंकवाद को लेकर जमकर पीठ थमथपाई. भाजपा को इस मुद्दे पर प्रमाणिक बताया और इसके लिए प्रतिबद्ध कहा.

मंत्री ने सवाल के लहजे में कहा कि राहुल आपको क्या हो गया है. आप पाकिस्तान के सबूत मांगने के स्वर में स्वर मिला रहे हैं? प्रसाद ने इस लिहाज से न्यूज चैनलों की तारीफ करते हुए कहा वे इस मुद्दे पर बेहतरीन भूमिका निभाए हैं.

अभिनंदन के मामले पर बोलते हुए कैबिनेट मंत्री ने कहा कि विंग कमांडर की वापसी दुनिया में भारत की बड़ी कूटनीतिक सफलता है. यह हमारी विदेश नीति की सफलता है कि उन्हें अभिनंदन को वापस करना पड़ा.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर मोदी सरकरा की इस मुद्दे पर असफलता करार दिया था, जिस पर मंत्री का पलटवार आया है.

कांग्रेस की सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि सेना के अधिकारी अब तो पब्लिकली कह रहे हैं कि उन्हें पहले सर्जिकल स्ट्राइक से रोका जाता था, जबकि कांग्रेस अपनी सरकार में सर्जिकल स्ट्राइक करने का दावा किये जा रही है. आतंक पर राहुल के बयानों से दुख होता है. जो आतंकवादी हमें मारता है, उससे सहानिभूति नहीं हो सकती.

सुषमा की विदेश नीति पर किये गये सवाल पर कहा कि हमारी विदेश मंत्री ने यूएन में सख्ती से कहा था कि पाकिस्तान अगर मसूद अज़हर और हाफिज सईद पर कर्रवाई नहीं कर सकता तो वह उसे सौंप दे. भारत ने इस पर पूरी दुनिया को मजबूत साक्ष्य दिया है.


  • 9
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here