Wednesday, 5 October, 2022
होमराजनीतिसंजय सिंह का खुलासा- योगी सरकार ने Covid के दौरान मेडिकल उपकरणों की खरीद में किया भ्रष्टाचार

संजय सिंह का खुलासा- योगी सरकार ने Covid के दौरान मेडिकल उपकरणों की खरीद में किया भ्रष्टाचार

संजय सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा- भाजपा वालों आपको और आपकी सरकार को चेहरे पर कालिख लगाकर जनता के बीच में घूमना चाहिए, जिससे उत्तर प्रदेश के लोग आपको पहचान सकें. 

Text Size:

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर कोविड-19 के दौरान मेडिकल उपकरणों की खरीद में घोटाले का आरोप लगाया. उन्होंने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक-एक करके इनका खुलासा किया.

गौरतलब है कि 2022 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्षी दल भाजपा की घेरने में लगे हैं. आप नेता संजय सिंह ने इससे पहले राम मंदिर के लिए जमीन की खरीद में घोटाले का आरोप लगाया था.

संजय सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि कोविड महामारी के दौरान यूपी ने मेडिकल उपकरण का ट्रैगरवर्ग कंपनी का सबीना 3 मॉडल 17 लाख में खरीदा है. यही मॉडल केजीएमसी जो कि लखनऊ का प्रतिष्ठित अस्पताल है ने इसे मॉडल 10 लाख 23 हजार 200 रुपये में खरीदा है.

आप नेता ने आरोप लगाया कि सहारनपुर में हीमोडायलिसिस मशीन की खरीद में भी घोटाले का खुलासा किया. उन्होंने का यह मशीन 13 लाख में 92 हजार में खरीदी जाती है लेकिन मार्केट में इसी मशीन का दाम 5 लाख रुपये है.

एक दूसरी मशीन हार्मोनल एनलाइजर की खरीद में घोटाले का आरोप लगाते हुए सिंह ने कहा कि यह सहारनपुर में 48 लाख 97 हजार रुपये में खरीदी जाती है जबकि यही मशीन मार्केट में, वेबसाइट पर, ऑनलाइन 10 लाख 50 हजार में उपहलब्ध है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

तीसरे आइटम आरटीपीसीआर मशीन की खरीद में घोटाले का आरोप लगाते हुए सिंह ने कहा यह मशीन सहारनपुर में 47 लाख में 79 हजार 708 रुरपये में खरीदी जाती है. जबकि यह मशीन मार्केट में 15 लाख रुपये में उपलब्ध है.

इस मशीन में लगा आटोमेटिक टीसू प्रोसेसर बांदा में अस्पताल के लिए 56 लाख 40 हजार 400 रुपये में खरीदा गया जबकि यह बाजार में 4 लाख 19 हजार रुपये में उपलब्ध है.

संजय सिंह ने मंत्री सुरेश खन्ना का बयान पर हमला बोलते हुए कहा कि श्मशान में लकड़ी के नाम पर दलाली, ऑक्सीजन के नाम पर दलाली, वेंटिलेटर के नाम पर दलाली, अस्पताल में भर्ती के नाम पर दलाली खाई गई, एंबुलेंस के नाम पर दलाली खाई गई और इन सारे आइटम्स की खरीद में दलाली खाई गई है.

सिंह ने दिल्ली में खरीदी गई मशीनों के महंगा बताने पर उन्हें एक-एक करके इनके दाम गिनाए और यूपी में इनकी खरीद को महंगा बताया.

आप नेता ने कहा कि 250 की संख्या वाईपैप मशीन दिल्ली सरकार ने 69440 रुपये में खरीदा, यही यूपी सरकार ने 2 लाख 73 हजार रुपये में खरीदा है.

दूसरे आइटम एचएफएनसी खरीद की जानकारी देते हुए सिंह ने कहा कि दिल्ली सरकार इसे 2 लाख 32 हाजर में 100 की संख्या में खरीदा और यूपी सरकार ने इसे 2 लाख 51 हजार रुपये में खरीदा है.

उन्होंने कहा कि नियोनेटल वेंटिलेटर यूपी की सरकार ने जहां 22 लाख रुपये में खरीदे, कई जगह तो 35 लाख और 48 लाख में खरीदा है और दिल्ली की सरकार ने इसे 12 लाख रुपये में खरीदा है.

सिंह ने कहा पेशेंट मॉनिटर दिल्ली सरकार ने 300 की संख्या में 63 हजार रुपये में खरीदा है जबकि यूपी सरकार ने 95 हजार 200 रुपये में खरीदा है.

यूपी सरकार से सवाल करते हुए सिंह ने कहा, ‘श्मशान में दलाली खाने वालों के हाथों में हमारे बच्चों की जिंदगी कैसे सुरक्षित होगी. हर चीज में भ्रष्टाचार किया जा रहा है.’

प्रभु श्रीराम के मंदिर के नाम पर खरीदी गई जमीन में घोटाला, पहली लहर में ऑक्सीजन, ऑक्सीमीटर की खरीद में घोटाला, दूसरी लहर में श्मशान की लकड़ियों के नाम पर घोटाला, एंबुलेंस के नाम पर घोटाला, जांच के नाम पर घोटाला, बेड के नाम पर घोटाला और तीसरी लहर की तैयारी के नाम पर घोटाला किया जा रहा है. यूपी में करोड़ों करोड़ का घोटाला हो रहा है.

संजय सिंह ने कहा भाजपा वालों आपको और आपकी सरकार को चेहरे पर कालिख लगाकर जनता के बीच में घूमना चाहिए, जिससे उत्तर प्रदेश के लोग आपको पहचान सकें.

share & View comments