Thursday, 27 January, 2022
होमराजनीतिराहुल गांधी ने पेश की आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की लिस्ट, कहा- सरकार दे परिवारों को मुआवजा

राहुल गांधी ने पेश की आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की लिस्ट, कहा- सरकार दे परिवारों को मुआवजा

राहुल गांधी ने कहा कि इस आंदोलन में कुल 700 किसानों ने अपनी जान गंवाई. पीएम ने देश से और किसानों से माफी मांगी. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उन्होंने गलती की.

Text Size:

नई दिल्लीः कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले एक साल से चल रहे आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों के लिए मुआवजे की मांग लोकसभा में उठाई और कहा कि सरकार को उन्हें उनका अधिकार देना चाहिए.

शून्य काल के दौरान किसानों का मुद्दा उठाते हुए राहुल गांधी ने 400 किसानों की एक लिस्ट लोकसभा में पेश की और दावा किया कि इन किसानों ने आंदोलन के दौरान जान गंवाई है. उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने करीब 400 किसानों को 5 लाख रुपये का मुआवज़ा दिया है जबकि इनमें से 152 को नौकरियां दी हैं.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘ये नाम यहां हैं. मैं चाहता हूं कि इन किसानों को हक मिलना चाहिए. उनके परिवारों को मुआवजा मिलना चाहिए.’

बीजेपी की केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि इसके अलावा मेरे पास हरियाणा के 70 किसानों की भी लिस्ट है, जबकि आपकी सरकार कहती है कि आपके पास उनके नाम नहीं हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

राहुल गांधी ने कहा कि इस आंदोलन में कुल 700 किसानों ने अपनी जान गंवाई. पीएम ने देश से और किसानों से माफी मांगी. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उन्होंने गलती की. जबकि कृषि मंत्री कहते हैं कि उनके पास किसानों की मौत से संबंधित कोई आंकड़ा नहीं हैं.

गौरतलब है कि सरकार ने गत 30 नवंबर को कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के आसपास कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मृत किसानों की संख्या संबंधी आंकड़ा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के पास नहीं है.

लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह जानकारी दी थी. राजीव रंजन सिंह, टी आर प्रतापन, एन के प्रेमचंद्रन, ए एम आरिफ, डीन कुरियाकोस, प्रो. सौगत राय और अब्दुल खालीक ने पूछा था कि तीन कृषि कानून के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी के आसपास आंदोलन के दौरान कितने किसानों की मौत हुई.


यह भी पढ़ेंः PM मोदी बताएं कि अजय मिश्रा की बर्खास्तगी कब होगी और MSP पर कानून कब आएगा: राहुल गांधी


 

share & View comments