Saturday, 28 May, 2022
होमराजनीतिहिमाचल में बोले PM Modi- देश में दो विचारधाराएं 2 मॉडल, विलंब की विचारधारा वालों ने पहाड़ वालों की परवाह नहीं की

हिमाचल में बोले PM Modi- देश में दो विचारधाराएं 2 मॉडल, विलंब की विचारधारा वालों ने पहाड़ वालों की परवाह नहीं की

प्रधानमंत्री ने कहा हमारी सरकार पूरी संवेदनशीलता और सतर्कता के साथ, आपकी हर आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए काम कर रही है.

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने सोमवार को हिमाचल प्रदेश को 28,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात दी. हिमाचल सरकार के चार साल पूरे होने पर मंडी में भव्‍य कार्यक्रम का आयोजन किया. इस दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पीएम मोदी को स्मृति चिन्ह के रूप में त्रिशूल भेंट कर उनका स्वागत किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंच पर पहाड़ी भाषा में कहा, ‘देवभूमि में आशीर्वाद लेणे रा मौका मिलेया. देवभूमि दे सभी देवी-देवतयां जो मेरा नमन. जब मंडी आता हूं तो बदाणे रा मिट्ठा और सेपो बड़ी की याद आ जाती है.’

नरेंद्र मोदी ने कहा ‘जयराम जी और उनकी परिश्रमी टीम ने हिमाचल वासियों के सपनों को पूरा करने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है. इन 4 वर्षों में 2 साल हमने मजबूती से कोरोना से भी लड़ाई लड़ी है और विकास के कार्यों को भी रुकने नहीं दिया.’

देश में दो विचारधाराएं और दो मॉडल

पीएम ने कहा, ‘हर देश में अलग-अलग विचारधाराएं होती हैं, लेकिन आज हमारे देश के लोग स्पष्ट तौर पर दो विचारधाराओं को देख रहे हैं. एक विचारधारा विलंब की है और दूसरी विकास की.’

उन्होंने विपक्षी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा,  ‘विलंब की विचारधारा वालों ने पहाड़ों पर रहने वाले लोगों की कभी परवाह नहीं की.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

हमारा कमिटमेंट सिर्फ और सिर्फ विकास के लिए है. हमने अटल टनल का काम पूरा करवाया. हमने चंडीगढ़ से मनाली और शिमला को जोड़ने वाली सड़क का चौड़ीकरण किया.

गिरी नदी पर बन रही श्री रेणुकाजी बांध परियोजना जब पूरी हो जाएगी तो एक बड़े क्षेत्र को इससे सीधा लाभ होगा.इस प्रोजेक्ट से जो भी आय होगी उसका भी एक बड़ा हिस्सा यहीं के विकास पर खर्च होगा. पूरा विश्व भारत की इस बात की प्रशंसा कर रहा है कि हमारा देश किस तरह पर्यावरण को बचाते हुए विकास को गति दे रहा है.

पीएम लगातार विपक्षी पार्टियों पर हमलावर रहे और उन्होंने कहा, ‘ विलंब की विचारधारा वालों ने, हिमाचल के लोगों को दशकों का इंतजार करवाया. इसी वजह से अटल टनल के काम में बरसों का विलंब हुआ. रेणुका जी परियोजना में भी तीन दशकों का विलंब हुआ.’

पीएम ने अपनी रैली में कांग्रेस का नाम लिए बिना ही उसपर निशाना साधा. पीएम ने कहा, ‘आज देश में सरकार चलाने के दो अलग अलग मॉडल काम कर रहे हैं. एक मॉडल है – सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास. वहीं दूसरा मॉडल है, खुद का स्वार्थ, परिवार का स्वार्थ और विकास भी खुद के परिवार का है.’

उन्होंने आगे कहा,  ‘बीते 6-7 सालों में जिस तरह डबल इंजन की सरकार ने काम किया है, उससे हमारी बहनों के जीवन में विशेष तौर पर बहुत बदलाव आया है. पहले खाना बनाने के लिए लकड़ी के इंतजाम में बहनों का बहुत समय बीत जाता था और आज घर-घर गैस सिलेंडर पहुंचा है.

हमारी सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ, सतर्कता के साथ, आपकी हर आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए काम कर रही है.

हिमाचल की स्वच्छता

पीएम ने कहा, ‘हिमाचल को स्वच्छ रखने में, प्लास्टिक और अन्य कचरे से मुक्त रखने में पर्यटकों का भी दायित्व बहुत बड़ा है. इधर उधर फैला प्लास्टिक, नदियों में जाता प्लास्टिक, हिमाचल को जो नुकसान पहुंचा रहा है, उसे रोकने के लिए हमें मिलकर प्रयास करना है.’

पर्यटकों से आग्रह किया कि हिमाचल में प्लास्टिक से प्रदूषित न करें. यहां पर्यटन की अपार संभावना है. टूरिज्म का फन हिमाचल से बढ़कर कहां मिलेगा. सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ देशव्यापी अभियान के साथ ही हमारी सरकार, प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट पर भी काम कर रही है.

मोदी ने कहा ‘भारत को आज फार्मिंग ऑफ़ दी वर्ल्ड कहा जाता है तो इसके पीछे हिमाचल की बहुत बड़ी ताकत है. फार्मिंग में नैचुरल फार्मिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है. कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान हिमाचल प्रदेश ने ना सिर्फ दूसरे राज्यों, बल्कि दूसरे देशों की भी मदद की है.’

हिमाचल ने अपनी पूरी वयस्क जनसंख्या को वैक्सीन देने में बाकी सबसे बाजी मार ली. यहां जो सरकार में हैं, वो राजनीतिक स्वार्थ में डूबे नहीं बल्कि उन्होंने पूरा ध्यान, हिमाचल के एक-एक नागरिक को वैक्सीन कैसे मिले, इसमें लगाया है.


यह भी पढ़े: जद (यू) के 7 बार के राज्यसभा सांसद महेंद्र प्रसाद का निधन, PM मोदी ने शोक जताया


बेटियों की शादी की उम्र 21 

प्रधानमंत्री बोले ‘हमने तय किया है कि बेटियों की शादी की उम्र भी वही होनी चाहिए, जिस उम्र में बेटों को शादी की इजाजत मिलती है. बेटियों की शादी की उम्र 21 साल होने से उन्हें पढ़ने के लिए पूरा समय भी मिलेगा और वो अपना करियर भी बना पाएंगी.’

यहां के घर-घर में देश की रक्षा करने वाले वीर बेटे-बेटियां हैं. हमारी सरकार ने बीते सात वर्षों में देश की सुरक्षा बढ़ाने के लिए जो काम किए हैं, फौजियों, पूर्व फौजियों के लिए जो निर्णय लिए हैं, उसका भी बहुत बड़ा लाभ हिमाचल के लोगों को हुआ है.

15 से 18 उम्र के बच्चों को वैक्सीन 

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी बोले ‘अब सरकार ने तय किया है कि 15 से 18 साल के बीच के बच्चों को भी 3 जनवरी, सोमवार से वैक्सीन लगाना शुरू हो जाएगा. 60 साल से ऊपर के बुजुर्ग जिन्हें पहले से गंभीर बीमारियां हैं, उन्हें भी डॉक्टरों की सलाह पर प्री-कॉशन डोज का विकल्प दिया गया है.’

हमारे जो हेल्थ सेक्टर के लोग हैं, फ्रंटलाइन वर्कर हैं, वो पिछले दो साल से कोरोना से लड़ाई में देश की ताकत बने हुए हैं. इन्हें भी 10 जनवरी से प्री-कॉशन डोज देने का काम शुरू होगा.


यह भी पढ़े: बाल विवाह ‘अमान्य’ है नहीं ‘अमान्य किया जा सकता है’: PCMA को लेकर SC ने क्यों जताई चिंता


share & View comments