news on politics
ओवरसीज कांग्रेस नेता सैम पैत्रोदा और सपा नेता राम गोपाल यादव | दिप्रिंट
Text Size:
  • 87
    Shares

नई दिल्लीः पीएम के पलटवार के बाद सैम पित्रोदा एयर स्ट्राइक को लेकर दिए अपने बयान पर बैकफुट पर आ गये हैं. उन्होंने हमले के सवाल पर सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने कांग्रेसी नहीं, नागरिक के तौर सवाल पूछा है.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एयर स्ट्राइक को लेकर ओवरसीज कांगेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा के बयान पर पलटवार करते हुए विपक्ष को आड़े हाथों लिया. उन्होंने एक इंटरव्यू के जरिये एयर स्ट्राइक पर सवाल खड़ा करते हुए बालाकोट में हमले का और 300 आतंकियों के मारे जाने का सबूत मांगा है. इसके बाद पीएम मोदी ने तंज कसते हुए उनके बयान को विपक्ष की निंदनीय हरकत कहा है.

सैम पित्रोदा ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा है कि जैसा कि मैंने न्यूयार्क टाइम्स और दूसरे अखबारों में पढ़ा उसके बारे में और जानना चाहता हूं, क्या वास्तव में हमने हमला किया, क्या हमने 300 लोगों को वास्तव में मारा? जिस पर पीएम ट्वीट कर हमला बोला.

प्रधानमंत्री ने सपा नेता राम गोपाल यादव के पुलवामा फिदायीन हमले पर उनके बयान को लेकर भी पलटवार करते हुए इसे सेना का अपमान करने वाला बताया है.

पीएम ने कहा कि विपक्ष बार-बार सुरक्षा बलों का अपमान कर रहा है. मैं देशवासियों से अपील करता हूं कि विपक्षी नेताओं को उनके बयान पर सवाल खड़ा कीजिए. उन्हें बताइए कि 130 करोड़ भारतीय विपक्ष की हरकतों को न कभी भूलेंगे न माफ करेंगे. पूरा देश जवानों के साथ खड़ा है.

मोदी ने सपा नेता राम गोपाल को भी घेरते हुए कहा है कि विपक्ष की आतंकियों को माफ करने की और हमारे जवानों पर सवाल खड़ा करने की आदत बन गई है. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा है कि राम गोपाल जी जैसे वरिष्ठ नेता का बयान निंदनीय है जो कश्मीर की रक्षा में जान गंवाने वालों सैनिकों का अमपान करता है. यह शहीदों के परिवारों को भी नीचा दिखाने वाला है.

गौरतलब है कि सपा नेता रामगोपाल यादव ने कहा बृहस्पतिवार को कहा था कि अर्धसैनिक बल सरकार से दुखी हैं, जवान मार दिये गये वोट के लिए, जम्मू-श्रीनगर के बीच में चेकिंग नहीं थी, जवानों को साधारण बस में भेज दिया, ये साजिश थी. अभी नहीं कहना चाहता, जब सरकार बदलेगी, इसकी जांच होगी, तब बड़े-बड़े लोग फंसेंगे. जिसको लेकर पीएम ने विपक्ष की खिंचाई की.

जेटली ने सैम पित्रोदा बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘उन्हें लगता है कि हमने जो किया वो ग़लत है. दुनिया में किसी देश ने ये नहीं कहा, यहां तक कि ओआईसी (ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन) ने भी नहीं, ऐसा सिर्फ पाकिस्तान को लगता है. दुखद है कि ऐसे लोग एक राजनीतिक पार्टी की विचारधार से जुड़े हुए हैं.’

अगर गुरू ऐसा है तो शिष्य कितना निकम्मा निकलेगा ये देश को आज भुगतना पड़ रहा है.

 


  • 87
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here