scorecardresearch
Sunday, 1 October, 2023
होमराजनीतिममता ने महागठबंधन की उम्मीदों को दिया झटका, सागरदिघी में हार के बाद कहा- उनका गठबंधन लोगों से होगा

ममता ने महागठबंधन की उम्मीदों को दिया झटका, सागरदिघी में हार के बाद कहा- उनका गठबंधन लोगों से होगा

टीएमसी प्रमुख ममता ने कहा कि उपचुनाव का परिणाम भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और सीपीआई (एम) के 'नापाक गठबंधन' को उजागर किया है.

Text Size:

कोलकाता : केंद्र में भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की उम्मीदों को झटका देते हुए शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में अकेले उतरने का संकल्प लिया है.

पत्रकारों से बात करते हुए सत्तारूढ़ टीएमसी ने बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में सागरदिघी उपचुनाव हार गईं, ममता ने कहा कि परिणाम ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और सीपीआई (एम) के ‘नापाक गठबंधन’ को उजागर किया है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी तीनों पार्टियों के खिलाफ अकेले लड़ेगी. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि तीनों पार्टियां ‘साम्प्रदायिक कार्ड’ खेल रही हैं.

टीएमसी प्रमुख ने कहा, ‘अगर कांग्रेस और माकपा, भाजपा की मदद से ममता बनर्जी से लड़ती हैं, तो वे खुद को भाजपा विरोधी कैसे कह सकते हैं? वे सभी (मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने के लिए) सांप्रदायिक कार्ड खेल रही हैं. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. यह (सागरदिघी में हार) हमारे लिए एक सबक है, कि हमें अब कांग्रेस या माकपा पर भरोसा नहीं करना चाहिए. हम उन दलों के साथ नहीं जा सकते जो भाजपा के साथ हैं. हमारा गठबंधन लोगों के साथ होगा. वे (कांग्रेस) हो सकते हैं चुनाव जीते हों, लेकिन यह उनके लिए एक नैतिक हार है.’

आगे, सागरदिघी उपचुनाव में टीएमसी की हार पर तंज कसते हुए बनर्जी ने कहा, ‘बेशक, हम उपचुनाव हार गए. मैं किसी को दोष नहीं देती. चुनावों में जीत और हार होती है. लेकिन यह दूसरी पार्टियों के बीच का अनैतिक गठबंधन है, जिनकी हम कड़ी निंदा करते हैं. इस अपवित्र गठबंधन के हिस्से के रूप में, सभी सीपीआई(एम) और बीजेपी के वोट कांग्रेस को गए. मैं इन पार्टियों से पूछना चाहता हूं कि आप इस तरह के गठबंधन में चोरी-छिपे क्यों जा रहे हैं?’

वाम समर्थित कांग्रेस बायरन बिस्वास ने सागरदिघी उपचुनाव को जीता, उन्होंने टीएमसी के देवाशीष बनर्जी को 22,986 वोटों से हराया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

मेघालय चुनाव में टीएमसी के खराब प्रदर्शन पर बोलते हुए, बंगाल के सीएम ने कहा, ‘मेघालय में कुछ कन्फ्यूजन था. मतदाताओं ने सोचा कि मैं भी कांग्रेस के साथ हूं, दोनों पार्टियों के नाम में ‘कांग्रेस’ शब्द हैं. चूंकि मैं पहले कांग्रेस में थी, इसलिए कांग्रेस के दिनों की मेरी तस्वीरों को देखकर मतदाता शायद भ्रमित हो गए होंगे. हम सभी कन्फ्यूजन दूर करने के लिए काम करेंगे.’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मुझे मेघालय के लोगों को बधाई देनी चाहिए (टीएमसी के 5 जीतने के लिए). हमने (टीएमसी) (मेघालय में कैंपेन) ठीक 6 महीने पहले शुरू किया और कुल डाले गए मतों का 15 प्रतिशत प्राप्त किया. यह हमारी पार्टी के राष्ट्रीय पार्टी बनाने में मदद करेगा और हमें राज्य में एक प्रमुख विपक्षी के तौर पर अपनी पकड़ मजबूती से बनाने में सक्षम बनाएगा. हम अगले चुनावों में बेहतर करेंगे.’

चुनाव आयोग द्वारा जारी किए गए अंतिम आंकड़ों के अनुसार बीजेपी त्रिपुरा में बहुमत के आंकड़े को पार कर गई है, 32 सीट जीतकर कुल 39 प्रतिशत वोट हासिल किए हैं.

शाही वंशज प्रद्युत देब बर्मन के नेतृत्व में टिपरा मोथा 13 सीटें जीतकर त्रिपुरा में दूसरे स्थान पर रही.

सीपीआई(एम) और कांग्रेस, जिन्होंने त्रिपुरा चुनाव एक साथ लड़ा था, ने 14 सीटें हासिल की. बीजेपी की सहयोगी इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) ने एक सीट ही जीत पाई.

हालांकि, गौरतलब है कि टीएमसी त्रिपुरा में अपना खाता नहीं खोल सकी.

भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए इस बार केरल में कट्टर प्रतिद्वंद्वी सीपीआई (एम) और कांग्रेस पूर्वोत्तर में एक साथ आए. हालांकि, CPI(M) और कांग्रेस का संयुक्त वोट शेयर लगभग 33 प्रतिशत है.

इससे पहले ममता ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा से लड़ने के लिए विपक्षी एकता का आह्वान किया था.

इस बीच, बनर्जी ने मुख्य चुनाव आयुक्तों का चयन करने के लिए प्रधानमंत्री, विपक्ष के नेता और भारत के मुख्य न्यायाधीश के पैनल का गठन करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ के निर्देश का भी स्वागत किया था.

‘केवल SC, हमारी सर्वोच्च न्यायपालिका और लोकतंत्र का स्तंभ, हमारे लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा कर सकता है और इस देश को बचा सकता है. TMC लंबे समय से इसके लिए गुहार लगा रही थी और मुझे वास्तव में खुशी है कि SC ने यह आदेश जारी किया. यह लोगों की जीत है.


यह भी पढ़ें : त्रिपुरा में 0, मेघालय में 5—TMC को मिली सीटें ममता के ‘मिशन दिल्ली’ के लिए एक रिएलिटी चेक है 


 

share & View comments