रमेश जारकिहोली | एएनआई
Text Size:

नई दिल्ली: कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली ने यौन शोषण के आरोप लगने के बाद पद से इस्तीफा दे दिया है. राज्य के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया है और उसे राज्यपाल के पास भेजा है.

मुख्यमंत्री को लिख खत में उन्होंने कहा, ‘मुझ पर लगे आरोप सच्चाई से कासों दूर है. निष्पक्ष जांच के लिए मैं नैतिकता के आधार पर अपना इस्तीफा दे रहा हूं.’

कर्नाटक के मंत्री जगदीश शेट्टार ने कहा, ‘रमेश जारकीहोली ने इस्तीफा दे दिया है. किसी ने कोई बयान या शिकायत नहीं की है. हमें इस पर फैसला लेना है.’

सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश काल्लाहाली ने मंगलवार को पुलिस में जल संसाधन मंत्री जारकीहोली के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी. इसमें उन पर रोजगार पाने की आकांक्षी के यौन उत्पीड़न का और उसे तथा उसके परिवार को परिणाम भुगतने की धमकी देने के आरोप लगाए गए थे.

कन्नड़ समाचार चैनलों पर जारकीहोली के कथित वीडियो क्लिप प्रसारित किए गए थे जिसमें वह एक अज्ञात महिला के साथ नजर आ रहे हैं. इन आरोपों के बारे में जारकीहोली ने कुछ समाचार चैनलों से कहा था कि वह हैरान हैं और ये वीडियो सौ फीसदी फर्जी हैं. उन्होंने मामले की जांच की मांग की थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

विपक्ष लगातार उनके इस्तीफे की मांग कर रहा था जिसके बाद बुधवार को मंत्री ने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को सौंप दिया.

सूत्रों के मुताबिक जारकीहोली ने पार्टी आलाकमान के निर्देश के बाद अपना त्यागपत्र भेजा है.

बताया जाता है कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी अरूण सिंह ने दूसरे राज्यों में विधानसभा चुनाव और राज्य में पंचायत चुनाव के मद्देनजर प्रदेश नेतृत्व को पार्टी के फैसले से अवगत करा दिया.

राज्य विधानसभा के बृहस्पतिवार से शुरू हो रहे बजट सत्र के पहले मंत्री के खिलाफ इस तरह के आरोप लगना बी एस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के लिए शर्मिंदगी का कारण बना है.

राज्य में विपक्षी कांग्रेस और जद (एस) भी मंत्री के तुरंत इस्तीफे की मांग कर रही थी.

(भाषा के इनपुट्स के साथ)


यह भी पढ़ें: दिल्ली के अस्पतालों में सैकड़ों बिस्तर खाली, फिर भी क्यों नहीं हो पा रहा सभी मरीजों का इलाज


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here