Text Size:

नई दिल्ली: देश में पहली बार जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है. इस मंत्रालय की जिम्मेदारी गजेन्द्र सिंह शेखावत को दी गई है. शेखावत इस मंत्रालय को कैबिनेट मंत्री के तौर पर संभालेंगे. उन्होंने बृहस्पतिवार को पीएम नरेंद्र मोदी की नई सरकार में कैबिनेट मंत्री के पद की शपथ ली थी.

भारत में पानी एक बड़ी समस्या है. बिहार जैसे राज्य से सोशल मीडिया पर लगातार ऐसी जानकारी आ रही हैं कि वहां ग्राउंड वॉटर लेवल यानी ज़मीन के भीतर मौजूद पानी का स्तर काफी नीचे गया है. वहीं, देश की राजधानी दिल्ली में भी पानी की समस्या लगातार बनी रहती है. दिल्ली अपने पानी के लिए हरियाणा पर निर्भर है जिसकी वजह से राजधानी को कई बार परेशानी का सामना करना पड़ता है.

वहीं, देश का ऐसा कोई भी हिस्सा नहीं है जो पानी की समस्या से नहीं जूझ रहा हो. ऐसे में देखने वाली बात होगी की जल शक्ति मंत्रालय का ज़िम्मा पाने वाले गजेन्द्र सिंह शेखावत कैसे इन समस्याओं से पार पाते हैं. 51 साल के शेखावत राजस्थान के जोधपुर से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद है. इसके पहले वो कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के राज्यमंत्री थे.

अमित शाह अब बने देश के गृह मंत्री

इसके अलावा बड़ी जानकारी ये है कि भारतीय जनता पार्टी की कमान संभाल रहे अमित शाह अब देश के नए गृह मंत्री होंगे. पीएम नरेंद्र मोदी ने गृह मंत्रालय की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है. शाह गुजरात में नरेंद्र मोदी की सरकार के दौरान 2003 से 2010 तक गुजरात सरकार गृह मंत्रालय का भी जिम्मा संभाला चुके है.

पीएम मोदी ने अमित शाह को इस बार सरकार चलाने वाली टीम में शामिल किया है. शाह ने राज्यसभा सांसद होते हुए गांधी नगर से लोकसभा सीट चुनाव लड़ा. ​जिस सीट से भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भी सांसद रहे हैं. शाह ने यह अपना पहला लोकसभा चुनाव लड़ा. गांधी नगर में उन्होंने रिकॉर्ड 5 लाख 57 हजार वोटों से जीत दर्ज की है. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में राजनाथ सिंह गृह मंत्रालय का कार्यभार संभाल चुके है.

शाह को 2014 में भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष चुना गया था, तभी से उन्होंने न केवल प्रधानमंत्री के रणनीतिकार बल्कि पार्टी के भी सबसे बड़े रणनीतिकार के रूप में देखे जाते हैं. बताया जा रहा है कि अब जब शाह देश की और बड़ी जिम्मेदारी लेने जा रहे हैं तो कयास हैं कि उनकी जगह जेपी नड्डा बीजेपी अध्यक्ष बनाए जा सकते हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here