scorecardresearch
Saturday, 13 July, 2024
होमराजनीतिसिद्धारमैया सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद कांग्रेस ने कुमारस्वामी को कहा 'बिजली चोर'

सिद्धारमैया सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद कांग्रेस ने कुमारस्वामी को कहा ‘बिजली चोर’

दिवाली पर 'चोरी की बिजली' के आरोप में मामला दर्ज होने के बाद से कर्नाटक की सत्तारूढ़ पार्टी जेडी (एस) के राज्य प्रमुख और पूर्व सीएम पर लगातार निशाना साध रही है.

Text Size:

बेंगलुरु: “बिजली चुराने वाला कोई व्यक्ति समाज को उपदेश कैसे दे सकता है?” भ्रष्टाचार और मनमानी के आरोपों पर कांग्रेस ने कर्नाटक जनता दल (सेक्युलर) के नेता एच.डी. कुमारस्वामी के खिलाफ यह तीखी प्रतिक्रिया दी.

‘करंट कल्ला’, जिसका अनुवाद ‘बिजली चोर’ है, वास्तव में, कुमारस्वामी द्वारा दिए गए हर बयान के लिए कांग्रेस की पसंदीदा प्रतिक्रिया बन गई है, जब उन पर दिवाली पर बेंगलुरु के जेपी नगर में अपने घर को रोशन करने के लिए बिजली के खंभे से अवैध रूप से बिजली चुराने का आरोप लगाया गया था.

कांग्रेस ने गुरुवार को कन्नड़ भाषा में ट्वीट किया, “निराशा कुमारस्वामी को खा रही है, करारी हार की निराशा, सत्ता खोने की निराशा, उनकी पार्टी के खत्म होने की निराशा, असहाय कार्यकर्ताओं की निराशा. ऐसा लग रहा हैं मानो इन सारी हताशाओं के कारण उन्होंने अपनी मानसिक स्थिरता खो दी है. यह हास्यास्पद है कि जिसने बिजली चोरी की वह समाज को उपदेश देंगे.”

कुमारस्वामी ने सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे. जद (एस), भाजपा के साथ – कर्नाटक में दो मुख्य विपक्षी दल जिन्होंने 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए हाथ मिलाया, उन्होंने पहले सिद्धारमैया सरकार के खिलाफ आधिकारिक तबादलों में भ्रष्टाचार और ठेकेदारों को भुगतान के लिए ‘कमीशन’ मांगने के आरोप लगाए हैं.

कुमारस्वामी ने अन्य बातों के अलावा गुरुवार को आरोप लगाया कि सिद्धारमैया के बेटे यतींद्र वरुणा में निर्वाचन क्षेत्र से संबंधित सभी मामले चला रहे हैं, भले ही वह अब विधायक नहीं हैं. वरुणा पर अब कर्नाटक के सीएम का कब्जा है.

यह सब वीडियो सामने आने के बाद आया है जिसमें यतींद्र कथित तौर पर अपने पिता से फोन पर निर्वाचन क्षेत्र के बारे में बात कर रहे हैं.

आरोप का जवाब देते हुए सिद्धारमैया ने कहा कि कुमारस्वामी सोचते हैं कि हर कोई उनके जैसा ही भ्रष्ट है.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “दुर्भाग्य से, पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी अपने कार्यकाल के दौरान बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार में शामिल रहे और उन्हें लगता है कि सभी उनके जैसे हैं. उनका निराशावादी रवैया उन्हें भ्रष्टाचार से आगे सोचने की इजाजत नहीं देता. राजनीति में उनकी असुरक्षा अक्सर उन्हें अपने राजनीतिक विरोधियों की नकारात्मक छवि पेश करने के लिए फर्जी कहानियां गढ़ने के लिए मजबूर करती है.”

सीएम ने कहा कि यतींद्र फोन कॉल पर विकास के लिए लाभार्थी स्कूलों की सूची पर चर्चा कर रहे थे और कुमारस्वामी ने भ्रष्टाचार के आरोपों को हवा देने के लिए बातचीत को तोड़-मरोड़ कर पेश किया.

सिद्धारमैया ने कहा, “कुमारस्वामी के झूठे आरोप और कुछ नहीं बल्कि मेरे बेटे को मानसिक रूप से परेशान करने का प्रयास है. लगता है एच.डी. कुमारस्वामी भूल गए हैं कि उनकी पत्नी और बेटा भी राजनीति में हैं. मैं कुमारस्वामी के स्तर तक गिरने और उनके परिवार के बारे में उसी तरह बोलने से बचता हूं. मैं पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा से आग्रह करता हूं कि वे अपने बेटे को कन्नड़वासियों के सामने हसी का पात्र बनने से बचने की सलाह दें.”


यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में मतदान आज- शिवराज, कमलनाथ, विजयवर्गीय, नरोत्तम मिश्रा की अहम सीटों पर लड़ाई का हाल


‘बिजली चोर’

बेंगलुरु इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी या BESCOM द्वारा मंगलवार को कथित बिजली चोरी को लेकर कुमारस्वामी के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने के बाद कांग्रेस जद (एस) नेता पर निशाना साध रही है.

BESCOM की सतर्कता शाखा ने बिजली चोरी से संबंधित विद्युत अधिनियम की धारा 135 के तहत मामला दर्ज किया है.

बुधवार को, कुमारस्वामी को “बिजली चोर” बताने वाले पोस्टर उनके घर के पास की दीवारों पर लगे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें हटा दिया. हालांकि, पोस्टर के वीडियो कन्नड़ टीवी समाचार चैनलों पर हर जगह थे.

हिंदू देवता के वेश में पूर्व सीएम की तस्वीर वाले ऐसे ही एक पोस्टर में लिखा था, “(भगवान) कृष्ण मक्खन चुराते थे, कुमारान्ना (कुमारस्वामी) ने बिजली चुराई.”

कुमारस्वामी ने सार्वजनिक रूप से बिजली के खंभे से बिजली लेने पर अपनी गलती स्वीकार की है और जुर्माना भरने की पेशकश की है, लेकिन कांग्रेस जद (एस) नेता पर लगातार हमले कर रही है.

कुमारस्वामी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, “मुझे इस अविवेक के लिए खेद है. BESCOM के अधिकारी आकर निरीक्षण करें और नोटिस जारी करें. मैं जुर्माना भरूंगा.”

शुक्रवार को कुमारस्वामी की टीम ने व्हाट्सएप पर साझा किया कि पूर्व सीएम ने उन पर लगाए गए जुर्माने को चुकाने के लिए 68,526 रुपये का चेक जारी किया था.

बेंगलुरु में गुरुवार को उन्होंने मज़ाकिया अंदाज में कहा, “दीपावली के बाद, समाचार वाले आपकी तलाश में आए हैं.”

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “दीपावली के दौरान मेरे घर को सजाने के लिए अवैध रूप से बिजली ली गई थी, यह ख़बर बिजली की रफ्तार से ही आप तक (मीडिया) पहुंची. उन्होंने (कांग्रेस) यहां तक कहा है कि कुमारस्वामी बिजली चोरी करने पर उतर आए हैं. मैंने इसके लिए खेद व्यक्त किया है, भले ही यह किसी और की गलती थी. उन्होंने (कांग्रेस) पोस्टर बनाए और इसे हमारे पार्टी कार्यालयों पर चिपकाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें हटा दिया. यह कांग्रेस की आदत बन गई है.”

दो बार के पूर्व मुख्यमंत्री ने पोस्टरों की तुलना कांग्रेस के ‘PayCM’ वाले पोस्टरों से की, जिसके जरिए इस साल के कर्नाटक चुनाव से पहले कथित भ्रष्टाचार को लेकर, बसवराज बोम्मई के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार पर निशाना साधा गया था.

(संपादन: अलमिना खातून)
(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: कांग्रेस का तेलंगाना के लिए घोषणा पत्र जारी- महिलाओं, छात्रों, किसानों को ‘अभय हस्तम’ नाम से 6 गारंटी


 

share & View comments