scorecardresearch
Monday, 22 April, 2024
होमराजनीतिकांग्रेस छोड़ BJP में आने वाली ज्योति मिर्धा ने कहा- पलायन का सामना कर रही कांग्रेस, आत्ममंथन की जरूरत

कांग्रेस छोड़ BJP में आने वाली ज्योति मिर्धा ने कहा- पलायन का सामना कर रही कांग्रेस, आत्ममंथन की जरूरत

इस सप्ताह की शुरुआत में ज्योति मिर्धा भाजपा में शामिल हुईं. दिप्रिंट के साथ इंटरव्यू में उन्होंने अपनी पूर्व पार्टी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत समेत भाजपा में अपने भविष्य पर बात की.

Text Size:

नई दिल्ली: सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुईं पूर्व कांग्रेस सांसद ज्योति मिर्धा ने कहा कि कांग्रेस में कई लोग सनातन धर्म पर द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के रुख से नाखुश हैं. उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस का ‘जीवन रक्त’ खत्म कर रहे हैं.

दिप्रिंट के साथ अपने इंटरव्यू में मिर्धा, जो राजस्थान के राजनीतिक रूप से प्रभावशाली मिर्धा परिवार से आती हैं, ने इस महीने की शुरुआत में सनातन धर्म पर डीएमके नेता उदयनिधि स्टालिन की टिप्पणियों से जुड़े विवाद के बारे में बात की.

एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के अनुसार, सनातन धर्म शब्द वर्ग, जाति या संप्रदाय की परवाह किए बिना सभी हिंदुओं के लिए कर्तव्यों या धार्मिक रूप से निर्धारित प्रथाओं को दर्शाता है.

मिर्धा प्रमुख जाट नेता नाथूराम मिर्धा की पोती हैं, जो छह बार कांग्रेस सांसद रहे और केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं. उन्होंने कहा, “हाल ही में कांग्रेस सहयोगी ने सनातन धर्म पर एक बयान दिया था लेकिन इस पर कांग्रेस की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. धर्म धारण करने योग्य है और सनातन शाश्वत है, इसलिए जो चीज इस राष्ट्र को शाश्वत रूप से धारण करती है, जिसे आप नष्ट करना चाहते हैं. और आप जवाब भी नहीं दे रहे हैं.”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के भीतर भी कुछ नेता हैं जो उदयनिधि के बयान से नाखुश हैं. “कांग्रेस में कई लोगों ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने की भी सराहना की थी.”

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

नागौर से पूर्व सांसद मिर्धा का साक्षात्कार भाजपा में शामिल होने के एक सप्ताह से भी कम समय बाद आया है, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि वह कांग्रेस में “घुटन” महसूस कर रही हैं. जाट बहुल नागौर परिवार का गढ़ है और मिर्धा के साथ, भाजपा को पूर्व सहयोगी और वर्तमान नागौर सांसद हनुमान प्रसाद बेनीवाल का मुकाबला करने की उम्मीद है.

उन्होंने दिप्रिंट को बताया कि यह बीजेपी ही थी जिसने उनसे संपर्क किया था.

उन्होंने कहा, “राज्य नेतृत्व मेरे संपर्क में था. अमित शाह जी ने मुझे बुलाया था और पहली बैठक नड्डा जी के साथ हुई.” मिर्धा ने आगे कहा, “उन्होंने मुझसे कहा कि वे मुझमें क्षमता देखते हैं और वे चाहते हैं कि मैं भाजपा में शामिल हो जाऊं क्योंकि कांग्रेस मुझे किनारे रख रही है. इसलिए, मैंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया.”

अपने साक्षात्कार में मिर्धा ने सचिन पायलट, दिव्या मदेरणा और हरीश चौधरी जैसे राज्य के वरिष्ठ नेताओं द्वारा उठाई गई चिंताओं पर ध्यान नहीं देने के लिए कांग्रेस पार्टी पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व को इसमें कदम उठाना चाहिए था लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.

मिर्धा ने कहा, “जिस तरह का पलायन कांग्रेस में चल रहा है, मुझे आश्चर्य नहीं होगा अगर बीजेपी राजस्थान चुनाव में जीत हासिल कर भारी बहुमत के साथ सत्ता में आती है.”

राजस्थान में नवंबर-दिसंबर में चुनाव होने हैं.

उन्होंने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भी आलोचना की, जो “मुद्दों को भटकाना जानते हैं”.

उन्होंने कहा, “मैं जो मुद्दे उठा रही हूं वे सचिन पायलट ने भी उठाए थे. कांग्रेस के भीतर कुछ गड़बड़ है.” “मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी और वर्तमान सरकार कांग्रेस के जीवन-रक्त को खत्म कर रही है और नागौर में आरएलपी (बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी) को बढ़ावा दे रही है. मेरे सहित कई नेताओं ने शिकायत की लेकिन शिकायत निवारण की कोई व्यवस्था नहीं है.”

उन्होंने दावा किया कि केंद्रीय और राज्य कांग्रेस नेतृत्व के बीच समन्वय में भी “खामियां” थी. “कोई फीडबैक तंत्र नहीं है. ऐसे बहुत से नेता हैं जो अब काफी मुखर हैं और फिर भी उनकी चिंताओं का समाधान नहीं किया जा रहा है.”


यह भी पढ़ें: आईआईटी मंडी के प्रोफेसर ने बाढ़ को मासिक धर्म से जोड़ा, बोले- अज्ञानी लोग मांस खाते, शराब पीते हैं


‘कांग्रेस को आत्ममंथन करने की जरूरत’

मिर्धा की नजर नागौर संसदीय सीट पर है, जहां से उन्होंने 2019 में चुनाव लड़ा था लेकिन एक अन्य जाट नेता और उस समय एनडीए सहयोगी बेनीवाल से हार गई थीं. मिर्धा के जरिए बीजेपी को जाट वोटों को मजबूत करने की उम्मीद है.

उन्होंने दिप्रिंट से कहा, “मुझे कई फोन आए हैं जिनमें कहा गया है कि आपने सही समय पर सही फैसला लिया है. मुझे लगता है कि हमने देर कर दी है- ऐसी भावना है- कांग्रेस से कई और लोग छोड़ देंगे क्योंकि वे पार्टी से परेशान हैं,”

भाजपा नेता ने यह भी कहा कि वह उन्हें सौंपी गई कोई भी जिम्मेदारी निभाने को तैयार हैं. “अगर पार्टी मुझसे विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए कहेगी तो मैं लड़ूंगी. अगर उन्हें लगता है कि यह पार्टी के लिए बेहतर है कि मैं नागौर से चुनाव लड़ूं तो मैं ऐसा करूंगी.”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को आत्ममंथन करने की जरूरत है कि इतने सारे नेता पार्टी क्यों छोड़ रहे हैं. उन्होंने कहा, “कांग्रेस में मेरे लिए स्थिति कठिन हो गई थी. जब आप निर्वाचन क्षेत्र में अपने लोगों के लिए काम करने में सक्षम नहीं होते हैं, तो आप रास्ते तलाशने की कोशिश करते हैं. दरअसल, एक ऐसा दौर था जब मेरा मोहभंग हो गया था और मैं राजनीति छोड़ना चाहती थी.”

उनके भाजपा में जाने पर सवाल उठाने वालों पर पलटवार करते हुए मिर्धा ने कहा, कुछ लोग मुझसे कहते हैं कि आपकी विचारधारा रातों-रात कैसे बदल गई. विचारधाराएं कठोर नहीं, बल्कि खुली होती हैं. मैं सुझावों के प्रति उदार हूं. मेरी विचारधारा अन्य लोगों के विचारों और सोच को शामिल करने के लिए काफी व्यापक है.

यह विश्वास व्यक्त करते हुए कि भाजपा राज्य में “प्रचंड बहुमत” के साथ सत्ता में आएगी, उन्होंने कहा कि देश में लोग “राष्ट्रवाद और राष्ट्र-निर्माण” चाहते हैं.

उन्होंने कहा, “चुनाव आएंगे और जाएंगे… कथानक तैयार हो चुका है. देश के साथ-साथ राजस्थान में भी जो नैरेटिव है, वह राष्ट्रवाद का है. अगर, राष्ट्र निर्माण के लिए हम लोगों को एक साथ ला सकते हैं, चाहे जाट हों या कोई भी समुदाय, यही हम हासिल करना चाहते हैं.”

भाजपा में शामिल होने के बाद द हिंदू के साथ एक साक्षात्कार में, बेनीवाल ने आरोप लगाया था कि उन्होंने पाला बदल लिया है क्योंकि उनके ससुराल वालों के स्वामित्व वाली एक वित्त कंपनी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के “रडार पर” थी.

लेकिन मिर्धा ने इन आरोपों को खारिज कर दिया. मिर्धा ने दिप्रिंट को बताया, “मेरे या मेरे ससुराल वालों के खिलाफ कोई शिकायत या छापेमारी नहीं हुई है लेकिन एक मुद्दा बनाया जा रहा है क्योंकि उन्हें मेरे खिलाफ कुछ भी नहीं मिल रहा है.”

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: पिता गोपीनाथ की विरासत पर मजबूत पकड़ बनाने के लिए पार्टी से ‘नजरअंदाज’ पंकजा मुंडे क्या कर रही हैं


 

share & View comments